लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under गजल, साहित्‍य.


maaअलग अलग हैं नाम प्रभु के, प्रभुता कैसे अलग करोगे?

सन्तानों के बीच में माँ की, ममता कैसे अलग करोगे?

 

अपने अपने धर्म सभी के, पंथ, वाद और नारे भी हैं

मगर लहू के रंग की यारो, समता कैसे अलग करोगे?

 

अपने श्रम और प्रतिभा के दम, नर-नारी आगे बढ़ते हैं

दे दोगे आरक्षण फिर भी, क्षमता कैसे अलग करोगे?

 

जीने का अन्दाज सभी का, जिसको जैसी लगन लगी है

ठान लिया कुछ करने की वो, दृढ़ता कैसे अलग करोगे?

 

शुभचिन्तक हम आमजनों के, घोषित करते हैं अब सारे

मूल प्रश्न है सुमन आज कि, रस्ता कैसे अलग करोगे?

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz