लेखक परिचय

राजीव दुबे

राजीव दुबे

कार्यक्षेत्र: उच्च तकनीकी क्षेत्रों में विशेषज्ञ| विशेष रुचि: भारतीय एवं पाश्चात्य दर्शन, इतिहास एवं मनोविज्ञान का अध्ययन , राजनैतिक विचारधाराओं का विश्लेषण एवं संबद्ध विषयों पर लेखन Twitter: @rajeev_dubey

Posted On by &filed under विविधा.


वामपंथ में शब्दों का विशेष महत्व है । अपने आंदोलन की शुरुआत से ही कम्युनिस्टों को नारों की ताकत का अंदाजा था । मानवीय विचारों का अणुरूप शब्द यदि सही चुना जाये तो विचारधारा का प्रसार तेजी से होता है ।

कम्युनिस्ट विचारधारा एक रंगीन चश्मे से देख कर लिखी गयी एक शानदार इबारत है , शब्द हैं जो अनजानों को खींचते है, आकर्षित करते हैं और धीरे से एक सोची समझी शब्द रचना के द्वारा हमारी लोकतान्त्रिक और देसी सामाजिक संरचनाओं को बेकार, बदनुमा और बुरा घोषित करते हैं .

पर वक्त बदल चुका है, परियों और जिन्नों की कहानियों की तहकीकात की जा सकती है, मसीहा और गरीब के रिश्तों पर बनी फिल्मों की परतों के नीचे छिपे लाल रंग की खूनी वीभत्सता को पहचाना जा सकता है .

यह एक विचारणीय बात है कि कम्युनिस्ट दलों के पास लेखकों का एक बड़ा दस्ता होता है । जिसे वह हरावल दस्ता भी कहते हैं । यह लोग मजदूर नहीं होते हैं। यह लोग शब्द गढ़ने में माहिर होते हैं । एक तरफ यह लोग विरोधयों को तीखे शब्द प्रहार से हराते हैं तो दूसरी ओर यही लोग भोले-भाले श्रमिक वर्ग को हृदय को छू लेने वाले नारों से मर मिटने के लिए आंदोलित करते हैं ।

इस दलों के नेता तीव्र भावनात्मक व्यक्तित्व के मालिक होने के साथ साथ प्रतिक्रियावादी एवं उग्र होते हैं । आइये इन्हीं संदर्भों में इस विचारधारा के एक मूल स्तंभ – लेनिन – की समीक्षा की जाय ।

रूस की अक्टूबर क्रांति के महानायक लेनिन एक अभिजात्य वर्ग मे जन्मे थे । उनका आरंभिक जीवन आराम और सुविधाओं में बीता था । लेनिन ने अपने पिता को सत्ता से नजदीक होने पर मिलने वाले सुखों को घर लाते हुए देखा था ।

सोलह वर्ष की उम्र में लेनिन के पिता की आकस्मिक मृत्यु हो गई । इसी दौरान लेनिन के बड़े भाई को रूस के शासक ‘ज़ार’ – अलेक्सेंडर तृतीय – की हत्या के षड्यंत्र में शामिल होने के आरोप में फाँसी हो गई । उनकी बहन को देश निकाला दिया गया । यह 1887 की बात है । रूस की क्रांति से 30 साल पहले की । इन घटनाओं ने उनके जीवन को अस्तव्यस्त कर दिया । संघर्ष और शासन से बचते हुए उन्होंने कानून की डिग्री प्राप्त की । इसी बीच उनका मार्क्स के विचारों से परिचय हुआ ।

लेनिन ने अपनी वकालत के दौरान देखा कि श्रमिक वर्ग भावनात्मक रूप से आंदोलित वर्ग था । उनके दुख सुख की बात करने मात्र से वह अपना सब कुछ न्यौछावर करने को तैयार हो जाता था ।

लेनिन का हृदय शासन के प्रति विद्रोह से भरा था । उनके परिवार की और स्वयं की कठिनाइयों का कारण रूसी शासक यदि नष्ट किया जा सके तो ही उन्हें जीवन में शांति मिल सकती थी । इस विद्रोही विचारधारा को कम्युनिस्ट विचारधारा के साँचे में ढाल कर एक बारूद का निर्माण हो चुका था । श्रमिक वर्ग इसमें एक विशेष भूमिका निभाने वाले थे । श्रमिकों के भविष्य के शासक की पूर्ण एवं महान सत्ता के रूप में एक नया इतिहास रचा जा रहा था ।

ध्यान रहे कि भावी सत्ता श्रमिकों की नहीं थी – केवल उनके नाम पर थी । सत्ता लेनिन की थी । एक ऐसी केंद्रीकृत सत्ता जो किसी को भी मानवीय मूल्यों से भ्रष्ट कर सकती थी ।

1905 की रूसी क्रांति ने परिवर्तनों की शुरुआत की । पर यह मूल रूप से एक असफल क्रांति थी । इस काल में रूस में हत्याओं का एक नया दौर शुरू हुआ जो शासन एवं विरोधी – दोनों ही पक्षों के द्वारा – अपने मंसूबों को पूरा करने के लिए प्रयोग में लाया गया ।

इस पूरे दौर में भारतीय आंदोलनों की नैतिक एवं मूलतः अहिंसापरक पृष्ठभूमि एवं समाज सुधार की विचारधारा रूसी आंदोलनों में एक सिरे से गायब थी । रूस में लेनिन समर्थकों का ज़ोर सत्ता को ताकत के बल पर पाने में था । लोकतान्त्रिक मूल्यों का दूर-दूर तक कोई निशान न था ।

1914 में प्रथम विश्व युद्ध के शुरू होने के बाद रूसी अर्थ व्यवस्था चौपट हो गई, विशाल स्तर पर बदहाली और अराजकता फैली ।

1917 में विश्व युद्ध के अंतिम दौर में रूस के जर्जर हालातों, तीव्र जन विरोध और अपने ही विफल शासन से हार कर ज़ार – निकोलस द्वितीय – ने सत्ता छोड़ दी । निकोलस द्वितीय के शासन ने यहूदीयों के खिलाफ अभियान भी देखा था । रूसी इतिहास में यह एक भयानक समय था ।

एक कामचलाऊ / अल्पकालिक राजनैतिक शासन की स्थापना हुई । लेनिन अभी भी निर्वासन में थे । लेनिन ने तुरंत ही एक नया नारा दिया – सत्ता की ओर बढ़ते हुए उनके कदम इस नई बदली हुई परिस्थिति में सफलता भाँप सकते थे । लेनिन एक विशेष रेलगाड़ी में अप्रैल 1917 में एक विशिष्ट व्यक्ति की भाँति रूस लौटे । मज़दूरों के हितों के नारे देने वाला कथित महानायक एक विशिष्ट रेलगाड़ी में एक अधिनायक की भाँति रूस लौट रहा था ।

लेनिन ने लौटते ही पूर्ण क्रांति का नारा दिया और सत्ता की तरफ नए सिरे से बढ़ना प्रारंभ किया ।

तेजी से बढ़ते घटनाक्रमों में सेना के द्वारा अल्पकालिक सरकार को ख़तरे की परिस्थितियों ने लेनिन की राजनैतिक सत्ता पर पकड़ बढ़ा दी। अगस्त और सितंबर 1917 में पेट्रोग्राड एवं मॉस्को कर्मचारी सभाओं (सोवियेत) में बहुमत हासिल करने के साथ ही अक्टूबर क्रांति का रास्ता प्रशस्त हुआ । लेनिन इस बीच पुनः छुपे हुए थे और उनकी अक्टूबर में वापसी के साथ ही उन्होंने सत्ता को कब्जे में लेने का नारा दिया ।

लेनिन का शासन प्रारंभ हुआ । बहुत आशाएँ थी इससे ।

लेकिन ‘लाल आतंक’ जैसे विरोधियों की हत्याओं वाले कार्यक्रमों ने आने वाले दशकों में सभ्य एवं लोकतान्त्रिक समाजों में लेनिन को क्रांति के महानायक की बजाय एक क्रूर सत्ताधीश के रूप में स्थापित किया ।

जुलाई 1918 में ज़ार निकोलस द्वितीय की परिवार सहित हत्या के साथ कई विचारकों का मानना है कि लेनिन की राजघराने से संबद्ध प्रतिशोध भरी जीवन यात्रा का एक विशेष पड़ाव पूरा हुआ । कुछ लोगों का ऐसा भी कहना है कि लेनिन को इसके लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता ।

कम्युनिस्ट शासन के पतन के बाद राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन का स्वयं ज़ार – निकोलस द्वितीय – के आधिकारिक रूप से आयोजित अंतिम संस्कार में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित होने को कम्युनिस्ट शासन के क्रियाकलापों पर रूस के लोगों की अंतिम राय के रूप में समझा जा सकता है ।

लेनिन एक वकील थे । मजदूर नहीं । मजदूर और केवल मजदूर के नारे ने उन्हें ताकत और सत्ता के केंद्र में एकमात्र निर्णायक के रूप में स्थापित किया । यह एक बड़ा ही सफल लेकिन झूठा प्रचार था । एक वकील मजदूरों का शासक बन गया और मजदूर सोचते रहे कि सत्ता उनके हाथ में थी । नारेबाजी और सत्ता की यह बेइंतिहा चाह स्टालिन और बाद में भी जारी रही ।

रूस में जो हुआ उसके जटिल सामाजिक एवं राजनैतिक कारण थे, लेकिन उसका तथाकथित क्रांति के द्वारा समाधान करने की कोशिश एक भूखे इंसान को ‘चोकलेट’ की दुकान बाँट कर वाह-वाही लूटने के समान था . इस शासन में खाई जाने वाली ‘चोकलेट’ की मात्रा, ‘चोकलेट’ की दुकान, एवं ‘चोकलेट’ की दुकान को लूटने के अधिकार – तीनों पर लेनिन का पूर्ण एवं एकमात्र अधिकार था ।

इसकी तुलना में हमारे भारतीय आन्दोलन एवं गांधीवादी विचारधाराएँ महानता की श्रेणी में आते हैं . अक्टूबर क्रांति बौनी हो क्षितिज पर धूमिल हो जाती है ।

Leave a Reply

5 Comments on "अक्टूबर क्रांति की लेनिन के संदर्भों में एक आधुनिक समीक्षा"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
R.Singh
Guest

यंगमैन शावास!लेख से ज्यादा तो आपकी टिपण्णी घातक साबित हुई.मुझे ज्यादा आश्चर्य नहीं हुआ जब मैंने उसके बाद कोई टिपण्णी नहीं देखी.आपने तो सबको अन्नुतर कर दिया.बुद्ध और महावीर से तुलना करने के पहले तिपन्निकार को एक बार तो सोचना चाहिए था की वह लिख क्या रहा है.दो ऐसे महापुरुषों की तुलना जिन्होंने एक बार सत्ता त्याग दी तो पीछे मूढ़ कर नहीं देखा. सत्ता के लोलुप और व्यकिगत बदले की भावना से उत्पीडित लेनिन के साथ करना,मैं नहीं समझता की किसी भी परिस्थिति में उचित ठहराया जा सकता है.

Rajeev Dubey
Guest
बुद्ध एवं महावीर के जीवन और दर्शन में एकात्मकता थी . उन्होंने मानवीय मूल्यों के साथ प्रेम और अहिंसा के सिद्धांतों का प्रचार एवं पालन किया. समाज और व्यक्ति – दोनों ही सन्दर्भों में युगों के लिए दुःख से मुक्ति का मार्ग दिखाया. लेनिन के जीवन और दर्शन का क्या परिणाम निकला ? यह विचारणीय है . मनुष्य अपनी पृष्ठभूमि के बावजूद अलग रास्तों पर चलता है – यह सत्य है . लेकिन जब वर्गसंघर्ष विचारधारा का आधार हो और जमीनी प्रचलन हिंसा, कूटनीति एवं भेद पर टिका हो तो जीवन के यथार्थों पर विचार आवश्यक हो जाता है .… Read more »
प्रभात कुमार रॉय
Guest
कम्‍युनिस्‍ट विचारधारा के विषय में कामरेड लेनिन की शख्सियत के माध्‍यम से जिस तरह का एनालेसिस पेश किया गया है वह अत्‍यंत सतही तौर का है। कामरेड लेनिन वकील थे और एक उच्‍च मध्‍यम परिवार में जन्‍मे थे इस तथ्‍य का कोई अधिक सरोकार उनके मजदूरों के नेता बनने से कदाचित नहीं हैं कोई भी शख्‍स कहीं भी जन्‍म लेकर बाद में कुछ भी बन सकता है। सिद्धार्थ राजा के घर पर पैदा होकर भगवान बुद्ध बन गए। महावीर भी राजा के घर जन्‍म लेकर महान भगवान महावीर बने। गरीब घरों में उत्‍पन्‍न होकर लोग अमीरों के नेता और पोषक… Read more »
dilip sahu
Guest

ये लेख लेनिन जैसे क्रन्तिकारी विचारक की कुबर्नियों का मखोल उडाता है ……… जो लेखक की अधकचरे व कम्युनिष्ट विरोधी ………… अंदाजे बयां है …….

मिहिरभोज
Guest
मिहिरभोज

बहुत ही बेबाक और संतुलित विश्लेषण….बोले तो कम्यूनिष्ट याने कौंम को नष्ट करने के लिए प्रतिबद्ध विचार धारा……हमने खूब सहा है और देखा है कम्यूनिष्टों को…..राजस्थान के कुछ क्षैत्रों मैं खासा प्रभाव है इनका……दाऱू बेचना,हत्यायें करवाना,जमीनों पर कब्जे करना….सारे लोक हितकारी काम करते हैं ये लोग….नारी शिक्षा के हिमायती हैं इसलिए लङकियों से छेङछाङ की अति होने पर सीकर के एस के स्कूल से लङकियों के सैक्शन हटाने पङे……छात्र हितों के भी हिमायती हैं ये लोग…..जबरन रसीद कटवानी और नहीं तो मार पीट करना…..आदि आदि कई विचारधारात्मक कार्य देखें हैं हमने…..वही सब रूस मैं हुआ होगा….

wpDiscuz