लेखक परिचय

अरविन्‍द विद्रोही

अरविन्‍द विद्रोही

एक सामाजिक कार्यकर्ता--अरविंद विद्रोही गोरखपुर में जन्म, वर्तमान में बाराबंकी, उत्तर प्रदेश में निवास है। छात्र जीवन में छात्र नेता रहे हैं। वर्तमान में सामाजिक कार्यकर्ता एवं लेखक हैं। डेलीन्यूज एक्टिविस्ट समेत इंटरनेट पर लेखन कार्य किया है तथा भूमि अधिग्रहण के खिलाफ मोर्चा लगाया है। अतीत की स्मृति से वर्तमान का भविष्य 1, अतीत की स्मृति से वर्तमान का भविष्य 2 तथा आह शहीदों के नाम से तीन पुस्तकें प्रकाशित। ये तीनों पुस्तकें बाराबंकी के सभी विद्यालयों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं को मुफ्त वितरित की गई हैं।

Posted On by &filed under राजनीति.


अरविन्द विद्रोही

स्वतन्त्र भारत की राजनीति और चिन्तन धारा पर जिन गिने -चुने लोगो के व्यक्तित्व का गहरा असर हुआ है , उनमे डॉ राम मनोहर लोहिया और जय प्रकाश नारायण प्रमुख रहे हैं | भारत के स्वतंत्रता युद्ध के आखिरी दौर में दोनों की भूमिका बड़ी महत्वपूर्ण रही है | हजारीबाग जेल से जयप्रकाश के बाग़ जाने की घटना ने चिंगारी का काम किया और इस एक घटना के कारण जयप्रकाश की लोकप्रियता बहुत बढ़ गयी | भूमिगत आंदोलनों को प्रज्ज्वलित करने में लोहिया की भूमिका कार्यक्रम और विचार की दृष्टि से असाधारण था | भूमिगत रेडिओ की कल्पना को उषा मेहता और उनके साथियो की मदद से डॉ लोहिया ने ही साकार किया था | सुचेता कृपलानी जैसी गाँधी वादी और अच्युत पटवर्धन जैसे समाजवादी , इनके बीच की कड़ी लोहिया ही थे समाजवादी नेता समझते थे कि महात्मा गाँधी और जवाहरलाल नेहरु में जवाहरलाल अपेक्षतया ज्यादा प्रगतिशील और वामपंथी हैं | उनकी यह भी धारणा थी कि नेहरु गाँधी और सुभाष चन्द्र बोष से ज्यादा आधुनिक हैं| लोहिया का यह सम्मोहन १९४२ से ही टूटने लगा था और गाँधी जी की हत्या के दिन तक पूरी तरह टूट चुका था | लेकिन जयप्रकाश का मोह आखिर तक नहीं टूटा | जयप्रकाश के मन में नेहरु के प्रति गहरा प्रेम था , वे नेहरु के परिक्रमा पथ से कभी नहीं निकल पाए | लोहिया का आत्म परीक्षण समाजवादी दल के मुल्यांकन की दृष्टि से महत्व पूर्ण है |

जहा तक अशोक मेहता , जयप्रकाश आदि का सवाल है , उनमे निश्चित ही धीरज की कमी रही | जय प्रकाश सदभाव से ओत-प्रोत थे | लोहिया की तरह उनमे भी सत्ता-पिपासा लेश मात्र नहीं थी, मगर उनमे विचारो की स्पष्टता नहीं रहती थी | वे अगल-बगल के लोगो से जल्दी प्रभावित हो जाते थे | साथ ही , किसी भी विवादस्पद प्रश्न पर स्पष्ट राय देने तथा उस पर अड़े रहने में जय प्रकाश को हिचक होती थी | चाहे सुभाष चन्द्र बोस के दुबारा अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने की बात हो , या त्रिपुरी कांग्रेस के बाद हुये मतभेदों का प्रश्न , चाहे कम्युनिस्ट पार्टी के बारे में अपनाये गये रुख का सवाल , किसान मजदूर प्रजा पार्टी के साथ विलीनीकरण की समस्या हो या कांग्रेस के साथ सहयोग का विवाद जय प्रकाश अक्सर ढुलमुल नीति अपनाते थे , अपना मत नहीं बना पाते थे | लोहिया इन तरीको से बहुत नाराज़ रहते थे | जय प्रकाश दल के महामंत्री थे | किसी बड़े संगठन को चलाने के लिए लचीलेपन की , समझौते की जरुरत होती है | जय प्रकाश ने लोहिया से कहा था — आखिर तुमने मुझको दल का महामंत्री बना रखा है तो महामंत्री को यह सुविधा होनी चाहिए कि वह आखिर में बोले , सबकी राय सुनकर , आखिर सबको साथ लेकर चलना है | लोहिया कुछ हद तक जय प्रकाश कि बात सही मानते थे | लोहिया चिंतन-मनन वाले आदमी थे | लेकिन वे क्रांति शुन्य नेता नहीं थे , सृज़न शील चिंतन के साथ तमाम जन आन्दोलन कि अगुवाई की | लेकिन संगठन बनाने का एक अलग कौशल होता है | लोहिया खुद मानते थे कि उनमे ना इस तरह का कौशल है और ना ही इस तरह के काम के प्रति आस्था | १९५५ के बाद दो तीन साल तक संगठन बनाने का प्रयोग लोहिया ने किया लेकिन सफलता नहीं मिली | लोहिया को चाह थी सिर्फ दिमागी नेतृत्व की | जय प्रकाश कुशल संगठन कर्ता थे | कांग्रेस समाजवादी दल की स्थापना काल से संगठन की जिम्मेदारी जय प्रकाश ने संभाली | जय प्रकाश के व्यक्तित्व में करिश्मा था | १९५२ के चुनावो में समाजवादी दल की हार के बाद जय प्रकाश का मन दल से दूर हटने लगा | चुनावी हार को व्यक्तिगत पराजय मन वे भूदान की तरफ , विनोबा भावे की विचार धारा की ओर मुड़े | अनशन आदि के आध्यात्मिक प्रयोगों में वे उलझ गये | इसी बीच नेहरु ने जय प्रकाश को एक पत्र लिख कर दिल्ली आकर सहयोग-वादी बात चीत का न्यौता दिया , बात चीत का सिलसिला शुरु हुआ | जय प्रकाश में हुये इन परिवर्तनों को लोहिया पसंद नहीं करते थे | पंच मढ़ी सम्मेलन १९५२ में जय प्रकाश की कार्यकर्ताओ ने जन संघर्ष के मोर्चे पर पहल ना करने पर आलोचना की | जय प्रकाश के मन में जवाहर लाल की सरकार के बारे में गुस्सा नहीं था जो बाद में इंदिरा सरकार के बारे में उनके मन में पैदा हुआ | अतः नेहरु के समय में सरकार से जूझने के लिए , टक्कर लेने के लिए जो चिंगारी , जो प्रखरता होनी चाहिए , वह उत्पन्न नहीं हो पाई | लोहिया इस बात को लेकर दुखी हो जाते थे कि उनके द्वारा इतने आन्दोलन चलाये गये , इतने विचार दिये गये , लेकिन इसका श्रेय उन्हें कभी नहीं मिला | १९५७ से लोहिया निरंतर कोशिश करते रहे कि जय प्रकाश राजनीति में वापस आये | लोहिया की बातो और कोशिशो का उस समय कोई असर जय प्रकाश पर नहीं पड़ा | जय प्रकाश ने यहाँ तक कहा कि देश को इस तरह हिलाने कि प्रक्रिया पर ना उनका विश्वास है , ना इस तरह के काम में उनको कोई रूचि है | समाजवादी आन्दोलन का यह दुर्भाग्य रहा कि जय प्रकाश – लोहिया के बीच मतभेदों के कारण दोनों का व्यक्तित्व व गुण परस्पर पूरक होते हुये भी आपसी सहयोग का सिलसिला टूट गया | अफ़सोस इस बात का था कि समाजवादी आन्दोलन में परिवर्तन की गाड़ी को जय प्रकाश – लोहिया रूपी बैलो को जोड़ने वाला कोई गाँधी नहीं था | जो काम लोहिया चाहते थे कि जय प्रकाश करे और जिसे करने में राम मनोहर लोहिया के जीवन काल में जय प्रकाश ने इंकार किया , वही काम उन्होंने १९७४ के बाद किया | लोहिया का बस चलता तो वे कांग्रेस का तख्ता १९६७ में ही उलट देते | जय प्रकाश ने जब यह काम संभाला तब तक समाजवादी आन्दोलन विघटित होते होते अत्यंत कमजोर हो गया था | देश की राजनीति को नयी दिशा देने या देश के आर्थिक-सामजिक ढांचे में बुनियादी तबदीली लाने की उसकी छमता ख़त्म हो चुकी थी | लोहिया में निर्भीक बन आत्म परीछन करने का बड़ा गुण था | लोहिया सम दृष्टि वाले थे | जय प्रकाश में सम दृष्टि का अभाव था | धनी-मानी और बड़े लोगो से वे प्रभावित हो जाते थे | उनके व्यवहार में फर्क आ जाता था | लोहिया और जे पी दोनों पर गाँधी का प्रभाव था | लोहिया का व्यक्तित्व लुभावना होते हुये भी प्रखरता थी , शब्द तीखे होते थे | भावना का वे ख्याल नहीं रखते थे | जय प्रकाश का स्वाभाव सौम्य था , व्यक्तित्व में मिठास थी | वे म्रदु भाषी थे , वे किसी को जल्दी नाराज़ नहीं करते थे | दोहिया का डालिए प्रणाली व लोकतंत्र में पूर्ण विश्वास था | वे लोकतंत्र को हर प्रकार से समृद्ध बनाना चाहते थे और जय प्रकाश राष्ट्रीय सहमति , दल हीन लोकतंत्र , दल विहीन राजनीति आदि अवास्तविक कल्पनाओ के शिकार थे | लोहिया की सप्त क्रांति और जय प्रकाश की संपूर्ण क्रांति में अंतिम उद्देश्यों को लेकर कोई फर्क नहीं | जे पी सप्त क्रांति को ही सम्पुर्न्य क्रांति मानते थे | प्रखर राष्ट्रीयता के प्रवक्ता लोहिया सिकुड़ने वाले राष्ट्रवाद के समर्थक नहीं थे | लोहिया और जय प्रकाश के आदर्श उतुंग थे | नागालैंड , कश्मीर , बांग्ला देश आदि के प्रश्नों के बारे में जय प्रकाश द्वारा की गयी पहल उनकी आदर्श वादिता का उत्तम सबूत है | लोहिया की अपनी एक सम्यक- दार्शनिक दृष्टि थी और जय प्रकाश के व्यक्तित्व में गज़ब का जन -आकर्षण | डॉ लोहिया ने १९५४ में ही जय प्रकाश को पत्र लिखा था —- देश की जनता का तुमसे लगाव है , तुम चाहो तो देश को हिला सकते हो , बशर्ते देश को हिलाने वाला खुद ना हिले |

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz