लेखक परिचय

अनिल गुप्ता

अनिल गुप्ता

मैं मूल रूप से देहरादून का रहने वाला हूँ! और पिछले सैंतीस वर्षों से मेरठ मै रहता हूँ! उत्तर प्रदेश मै बिक्री कर अधिकारी के रूप मै १९७४ मै सेवा प्रारम्भ की थी और २०११ मै उत्तराखंड से अपर आयुक्त के पड से सेवा मुक्त हुआ हूँ! वर्तमान मे मेरठ मे रा.स्व.सं. के संपर्क विभाग का दायित्व हैऔर संघ की ही एक वेबसाइट www.samvaadbhartipost.com का सञ्चालन कर रहा हूँ!

Posted On by &filed under जरूर पढ़ें.


-अनिल गुप्ता-

rss

-संघ भारत विभाजन क्यों नहीं रोक पाया ?-

विभाजन से पूर्व कांग्रेस ही वह मंच था, जिससे मुस्लिम लीग तथा ब्रिटिश सरकार सत्ता हस्तांतरण अथवा विभाजन के सम्बन्ध में वार्ता करते थे.कांग्रेस के प्रमुख स्तम्भ महात्मा गांधी ने देश को आश्वस्त किया था:–
“भारत का विभाजन करने से पूर्व मेरे शरीर के टुकड़े कर दो. यदि सारे भारत में आग लग जाये तो भी पाकिस्तान का निर्माण न हो सकेगा.पाकिस्तान मेरी लाश पर बनेगा.” कांग्रेस के अन्य प्रमुख नेता भी इसी स्वर में बोल रहे थे.
तत्कालीन गवर्नर जनरल लार्ड माउंटबेटन के नेहरूजी से घनिष्ठ पारिवारिक सम्बन्ध थे. संभवतः इसी कारण से भारत को सत्ता का हस्तांतरण अवश्यम्भावी समझ कर उन्हें भारत का गवर्नर जनरल नियुक्त किया गया था. उनके जीवनीकार फिलिप जिग्लर ने लिखा है कि १ जून १९४७ को इस बात पर विचार किया गया कि पाकिस्तान के मुद्दे पर कांग्रेस को कैसे राजी किया जाये. गांधी जी इस विषय में दृढ़ मत व्यक्त कर चुके थे. पटेल मानने वाले नहीं थे. अतः अंततोगत्वा जवाहरलाल नेहरू जी पर निश्चय किया गया और २ जून १९४७ की जेठ की दुपहर में ११ बजे एडविना माउंटबेटन को नेहरू के पास भेजा गया जो तीन घंटे तक नेहरू जी से अकेले में वार्ता करने पर उन्हें देश के विभाजन के लिए तैयार करने में कामयाब हो गयी.अगले दिन ३ जून १९४७ को लार्ड माउंटबेटन द्वारा देश के दो राष्ट्रों हिंदुस्तान और पाकिस्तान में विभाजित करके जून १९४८ तक सत्ता के हस्तांतरण की घोषणा कर दी गयी.

संघ सहित सम्पूर्ण देश विश्वास कर रहा था कि कांग्रेस भारत का विभाजन स्वीकार नहीं करेगी.लेकिन राजऋषि पुरुषोत्तमदास टंडन को छोड़कर किसी ने भी इसका विरोध नहीं किया और १४-१५ जून १९४७ को कांग्रेस कार्यसमिति ने विभाजन की योजना को स्वीकार करके सारे देश को स्तब्ध कर दिया.नेहरूजी ने १९६० में स्वीकार किया था:- “सच्चाई ये है कि हम थक चुके थे. और आयु भी अधिक हो गयी थी… और यदि हम अखंड भारत पर डटे रहते …तो स्पष्ट है हमें जेल जाना पड़ता.”
( दी ब्रिटिश राज ले.लियोनार्ड मसले पृ.२८५)
श्री राम मनोहर लोहिया ने लिखा:-
“नेताओं की तो अधोगति हुई. वे लालच के फंदे में फंस गए.”
(दी गिल्टी मैन ऑफ़ इण्डिया’ज पार्टीशन”, पृ.३७)
भारत विभाजन की मांग करने वाली मुस्लिम लीग को कम्यूनिस्ट पार्टी और ब्रिटिश सरकार का समर्थन तो प्राप्त था ही, कांग्रेस के थके हुए, पदलोलुप नेतृत्व के द्वारा विभाजन स्वीकार कर लेने पर राष्ट्र की एकता के समर्थक संघ, हिन्दू महासभा आदि ने अपने प्रयास प्रारम्भ कर दिए. इसी बीच विभाजन विरोधी शक्तियां तेजी से उभरने लगीं, उन शक्तियों को संगठित होते देखकर ब्रिटिश सत्ताधीशों का माथा ठनका.उन्होंने सोचा की यदि इस विरोध को प्रभावशाली होने के लिए समय मिल गया तो भारत को तोड़कर छोड़ने का उनका मंसूबा पूरा नहीं हो सकेगा. इसलिए उस व्यापक विरोध से बचने के लिए ब्रिटिश शासन ने अपने भारत छोड़ने की पूर्व घोषित तिथि जून १९४८ के १० माह पहले भारत छोड़ दिया.( बालासाहेब देवरस, पहली अग्नि परीक्षा).
माउंटबेटन ने कहा:-
“इससे पूर्व कि देश के विभाजन के विरुद्ध कोई प्रभावी प्रतिरोध खड़ा होसके, समस्या का झटपट निपटारा कर डाला.” ( “दी ब्रिटिश राज” पृ.११८)
कांग्रेस द्वारा विभाजन की स्वीकृति के मात्र ६० दिनों में ही देश का विभाजन कर अंग्रेजों ने सत्ता हस्तांतरण कर दिया.यदि दस माह का समय मिल जाता तो संघ द्वारा समाज को देश के विभाजन के विरुद्ध तैयार कर लिया जाता.

विभाजन काल में हिन्दुओं की रक्षा भारत विभाजन केवल भूखंड का बटवारा नहीं था. यह था अनादिकाल से पूजित भारत माता का खंडन और असंख्य हुतात्माओं और स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों का ध्वंस.इस महाविध्वंस में हिन्दू समाज ने महाविनाश देखा उसमे तीस लाख लोग काल कवलित हुए और तीन करोड़ लोगों को अपने पुरखों की जमीन छोड़नी पड़ी.
न्यायमूर्ति खोसला ने अपनी पुस्तक Stern Reckoning में इस थोड़े काल में पंजाब और सिंध में मरे गए लोगों की संख्या दस से तीस लाख के बीच आंकी है. तत्कालीन अंतरिम सरकार के मंत्री एन. वी.गाडगीळ ने अपनी पुस्तक “गवर्नमेंट फ्रॉम इनसाइड” में भी यही स्थिति बताई है.

Leave a Reply

6 Comments on "भारत विभाजन और संघ"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Himwant
Guest
विभाजन पूर्व का भारत (अखण्डित भारत) की संस्कृति एक थे, लोगो में साथ साथ जीने का जज्बा था। पूजा पद्धति में भिन्नता के साथ सह अस्तित्व को लोगो ने स्वीकार कर लिया था। लेकिन अविभाजित भारत विश्व में एक बहुत बड़ी शक्ति बन कर उभरने का दम खम रखता था। एक सोची समझी रणनीति के तहत भारत को कमजोर एवं समस्याग्रस्त बनाने के लिए अंग्रेजो ने स्वतन्त्रता से पूर्व भारत का विभाजन करवाया। नेहरू और जिन्ना शरीर से भारतीय होते हुए भी मन से अंग्रेज थे, अंग्रेजो की कुत्सित योजना को अमली जामा पहुंचाने में उन दोनों की बडी भूमिका… Read more »
ram kumar singla
Guest

Jordar

Dr. Surendra Nath Gupta
Guest
Dr. Surendra Nath Gupta

Wonderful. I will forward this essay to many others.

डॉ.अशोक कुमार तिवारी
Guest
डॉ.अशोक कुमार तिवारी
पर आज जब पूरा देश एक साथ खड़ा है तो संघ क्यों चूक कर रहा है – वियतनाम को तरजीह न देकर, गिलगित में अमेरिकियों से समंवय न करके विदेश नीति में भारत पिछड़ रहा है ! रेल भाड़ा और महँगाई बढ़ाकर अम्बानियों को खुश करने के चक्कर में देश के अंदर भी जनता का विश्वास ऐसे खो दिए हैं कि आने वाले समय में इनके सीटों की संख्या सिंगल डिजिट में न रह जाए इस बात का डर है !! नेताजी सुभाषचंद बोस की मृत्यु की जाँच और 1962 की लड़ाई पर श्वेत पत्र न पेश करने से हर… Read more »
Himwant
Guest
1962 में चीन के रेल तन्त्र से हमारा रेल तन्त्र बेहतर था, लेकिन आज हम पिछड़ चुके है। वे जितनी दूरी की यात्रा 12 घण्टे में करते उतनी यात्रा करने में हमे 20 घण्टे लगते है। भारतीय रेल के आधुनिकीकरण और क्षमता व्रुद्धि दोनों आवश्यक है। रेल का भाड़ा बढ़ाने के ऊपर हायतौबा मचाएंगे तो हो सकता है की हमे तेज गति से आधुनिकीकरण एवं क्षमता व्रुद्धि से वंचित होना पड़ेगा, जो 50 वर्ष बाद हमारे लिए बहुत महंगा साबित होगा। आज भी भारत में रेल किराया विश्व में सबसे कम है, थोड़ा बढ़ने को लोगो ने बहुत अन्यथा नही… Read more »
Anil Gupta
Guest

भाई अशोक जी, आपने विस्तृत टिप्पणी की उसके लिए आभार.जो विषय आपने उठाये हैं वो सभी महत्वपूर्ण हैं.लेकिन साड़ी बातें एक दम पूरी नहीं हो सकती है. अढ़सठ वर्ष की बीमारियां अड़सठ दिनों में तो समाप्त नहीं हो जाएँगी.मोदी जी ने साठ महीने का समय माँगा था.अभी तो तीन महीने भी नहीं हुए और आपने अभी से ‘सिंगल डिजिट’ में संख्या की सम्भावना जता दी है.कुछ ज्यादा ही जल्द बाजी नहीं है क्या?थोड़ा धैर्य rखो.कम से कम एक वर्ष तो देखो

wpDiscuz