लेखक परिचय

गौतम चौधरी

गौतम चौधरी

लेखक युवा पत्रकार हैं एवं एक समाचार एजेंसी से जुडे हुए हैं।

Posted On by &filed under विश्ववार्ता.


गौतम चौधरी

बांग्लादेश के सीमावर्ती क्षेत्रों वाले भारतीय भूभाग पर आंतक और अव्यवस्था जो दिख रहा है वह निःसंदेह बांग्ला देश द्वारा प्रायोजित है। भारत का केन्द्रीय नेतृत्व इस सच्चाई को चाहे कितना भी झुठलाये यह सवासोलह अना सत्य है कि बिहार, असम, पश्चिम बंगाल के साथ ही साथ पूर्वोतर में बांग्लादेश अपनी विदेशी नीति के तहत सूनियोजित विस्तार में लगा हुआ है। इस विस्तार के पीछे की बांग्लादेशी मानसिकता खतरनाक ही नहीं भारत के विरूद्ध भी है।

भारत सरकार यह मानकर चल रही है कि बांग्लादेश भारत के साथ है और विष्व मंच पर भारत का लगातार सहयोग करता रहेगा, लेकिन इस बात में तनिक भी संदेह नहीं है कि आजकल बांग्लादेश भारत से कही ज्यादा निकट चीन के साथ है। चीन और बांग्लादेश की संधी भारत के कूटनीति के खिलाफ जाता है। जिस प्रकार भारत का पश्चिमोत्तर क्षेत्र अंशात है और वहा विदेशी ताकत सक्रिय हो भारत के संघीय ढांचे के खिलाफ काम कर रहा है, उसी प्रकार भारत का पूर्वोत्तर विदेशी ताकतों के निशाने पर है। क्षेत्र की सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक स्थिति बडी तेजी से बदल रही है। पूर्वोत्तर में जितना हित चीन को दिख रहा है, उससे कही ज्यादा हित पष्चिमी देषों को दिख रहा है। इस बीच बांग्लादेश भी पूर्वोत्तर में अपना हित देखने लगा है। हालांकि पाकिस्तान बनने के समय ही असम के एक बडे भूभाग पर पाकिस्तान अपना हक जमाया था लेकिन भारतीय कूटनीति की सक्रियता के कारण यह संभव नहीं हो सका। मध्य के कालखंड में बांग्लादेश गृह कलह से परेशान रहा। पाकिस्तान से अलग होने के बाद से बांग्लादेश में बडी समस्या होती रही, लेकिन अब बांग्लादेश कई प्रकार के आंतरिक समस्याओं से मुक्त हो गया है। अब उसकी नजर भी पाकिस्तान की तरह इस्लामी विातरवाद पर केन्द्रीत हो रहा है। बांग्लादेश की कूटनीति का एक भाग यह भी है कि वह अपने जनबल का उपयोग कर भारतीय भूभाग पर कब्जा जमाये। बांग्लादेशी कूटनीति का पता इस बात से लगाया जा सकता है कि बांग्लादेश से लगातार जनसंख्या का पलायन हो रहा है, लेकिन इस पलायन पर बांग्लादेश कतई चिंतित नहीं दिखता। इससे इस कयास को बल मिलता है कि बांग्लादेशी घुसपैठ बांग्लादेश के विदेशी कूटनीति का हिस्सा है। इस योजना में बांग्लादेश चीन को अपना विष्वस्थ सहयोगी मान कर चल रहा है। इस बात की पुष्टि बांग्लादेश का एक महत्वपूर्ण और सबसे ज्यादा प्रसार वाला अखबर भी करत है। हालांकि अखबर अपनी टिप्पणी को कूटनीतिक भाषा में प्रस्तुत कर रहा है, लेकिन उस टिप्पणी से बांग्लादेश की भारत के प्रति सोच परिलक्षित होती है। अखबर यह लिखता है कि ढाका पूर्वोत्तर भारत के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार हो सकता है, जहां से भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में कही भी आसानी से पहुंचा जा सकता है। उक्त बांग्लादेशी अखबर की भाषा भले कूटनीतिक हो लेकिन इस भाषा में बांग्लादेश के भविष्य की योजना छुपी हुई है। बांग्लादेश पूर्वोतर को चीन के माध्यम से अपने कब्जे में लेना चाहता है। चीन पूर्वोतर को न केवल बाजार के रूप में देख रहा है अपितु वहां के संसाधनों पर भी चीन की नजर है। पूर्वोतर की भूगोलिग दशा चीन को सामरिक एवं कूटनीति दृष्टि से भी आकर्षित कर रहा है। पूर्वोतर भारत पर अपनी मजबूत पकड बना चीन भारत ही नहीं पूरे दक्षिण पूर्वी एषिया पर अपना एक क्षेत्र आधिपत्य चाहता है। चीन इस अभियान में बांग्लादेश का उपयोग करने के फिराक में है। हो समता है इस उपयोग के लिए चीन बांग्लादेश, नेपाल, भूटान तथा पूर्वोतर भारत में सक्रिय आतंकी समूहों के साथ संभवतः एक गुप्त संधि भी कर रखा हो। उसी संधि का प्रतिफल बांग्लादेश में ढाका के पास चीन द्वारा विकसित किया जा रहा एक विशाल बंदरगाह है। इस बंदरगाह के बनने से चीन न केवल यहां अपना सामरिक अड्डा बनाएगा अपितु ढांका को एक बडे बाजार के रूप में भी विकसित करेगा। चीन इस सामनिक ठिकाने से संपूर्ण पूर्वी भारत पर नजर रखने की योजना भी बना रहा है। इधर बांग्लादेश भारत के खिलाफ चीन का हथियार बनने को तैयार बैठा है। बांग्लादेश को लग रहा है कि चीन अगर बांग्लादेश के माध्यम से पूर्वोत्तर भारत पर प्रभुत्व बनाता है, तो इससे चीन को जो फायदा होना होगा वह तो होगा ही, बांग्लादेश को उस लाभ का हिस्सा जरूर मिलेगा। बांग्लादेश इस दिशा में लम्बे समय से पहल कर रहा है। गोया ये सारे कारण ऐसे हैं जो यह साबित करने के लिए काफी हैं कि बांग्लादेश पूर्वोतर एवं अपनी सीमा से लगे भारत के अन्य प्रांतो में योजनाबंद तरीके से अपने नागरिकों को नियोजित कर रहा है। उक्त बांग्लादेशी अखबार का आकलन हवा में किया गया नहीं हो सकता। यह न ही संयोग हो सकता है। जिस अखबार ने अपने सम्पादकीय में उक्त बातों का जिक्र किया है, वह अखबार बांग्लादेश का महत्वपूर्ण अखबार माना जाता है। जाहिर सी बात है कि अखबार के सम्पादकीय का बांग्लादेश की कूटनीति और विदेशी नीति पर प्रभाव भी पडता होगा। अखबर के आकलन से बांग्लादेश के बौद्धिक जगत की मानसिकता और कूटनीति की गहराई का पता चलता है। ऐसी परिस्थिति में भारत को बंाग्लादेश के साथ अपने संबंधों में सर्तकता बरतने की जरूरत है। मान ले अगर वहां की सरकारी नीति पर अखबार के सम्पादकीस का कोई प्रभाव नहीं हैं, फिर भी भारत को सतर्क हो जाना चाहिए क्योंकि अखबार अपने सम्पादकीय के माध्यम से बांग्लादेश की न केवल सरकार को इस दिशा में सोचने के लिए बाध्य कर रहा है, अपितु बांग्लादेशी जनता को भी आसन्न लडाई के लिए जागरूक कर रहा है।

अकसरहां अखबार की रिपोर्टिग और सम्पादकीय को गंभीरता से नहीं लिया जाता है, लेकिन अंतराष्ट्रीय कूटनीति, विदेश नीति एवं आंतरिक मामलों में इसका बडा महत्व होता है। अखबार जो लिख रहा है वह केवल सम्पादक और रिपोर्टरो के माथे की परिकल्पना मानकर खारिज करने का मतलब है, आने वाले समय में होने वाले खतरों को नजरअंदाज करना। पूर्वोत्तर में बांग्लादेशियों की घुसपैठ कोई नया नहीं है। चाहे असम हों या पष्चिम बंगाल प्रति दिन हजारों की संख्या में बांग्लादेशी यहां आते हैं। पहाडी क्षेत्रों में सीधें साधे आदिवासियों वाले इलाकों में बांग्लादेशी मुस्लमानों की लगातार घुसपैठ जारी है। पूर्वोत्तर में उत्पन्न आंतकवाद के कारण जब बांग्लादेशियों को धुसपैठ करने में समस्या होने लगी तो बांग्लादेश की सरकार ने पूर्वोत्तर में सक्रिय आंतकियों को संरक्षण देकर बांग्लादेशी मुस्लमानों को घुसपैठ कराने का आसान तरीका ढूंढ लिया। बांग्लादेश ऐसा क्यों कर रहा है इसके पीछे का मकसद साफ होने लगा है। पाकिस्तान के बटवारे के समय पूर्वी पाकिस्तान का जो क्षेत्र बांग्लादेश के पास है, उससे कही बडे क्षेत्र की मांग पाकिस्तान ने रखा था। यही नही पूर्वी एवं पश्चिमी पाकिस्तान को जोडने के लिए पाकिस्तान ने एक गलियाना भी मांगा था लेकिन उसे अस्वीकार कर दिया गया। अब बांग्लादेश में सक्रिय मुस्लिम राष्ट्र वादी तत्व जिसे मध्यम पंथी शेख हसीना के नेतृत्व वाली अवागी लीग का भी समर्थन प्राप्त है, एक वृहद बांग्लादेश बनाने की योजना में है। इस योजना पर लगातार काम जारी है। पहले चरण में बांग्लादेश ने अपने नागरिकों को पूर्वोत्ता क्षेत्र एवं बंगाल, उडीसा तथा बिहार में भेजकर अपना आधार तैयार किया। दूसरे चरण में भारत के साथ विभिन्न प्रकार की संधि कर वह ढांका को चीनी बाजार खोलने की मान्यता प्रप्त करेगा। फिर चीन के उत्पाद को पूर्वोत्तर तक पहुंचाने का रास्ता लेगा और सबसे अंत में सम्पूर्ण पूर्वोत्तर पर बांग्लादेश का झंडा पहराएगा। वर्तमान का असम दंगा सम्भवतः इसी रणनीति का एक हिस्सा हो सकता है क्योंकि असम में 32 प्रतिशत, पश्चिम बंगाल में 26 प्रतिशत, मणिपुर में 03 प्रतिशत, मेघालय में 10 प्रतिशत, मिजोरम में 09 प्रतिशत मुस्लमानों की संख्या है। बिहार बंगाल में कुल मुस्लमानों की आबादी का लगभग 40 प्रतिशत बांग्लादेशी मुस्लमाना है। यह संकेत कर रहा है कि आने वाले 25 सालों में बांग्लादेशियों की आबादी दुगुनी हो जायेगी तब बांग्लादेश का भारत पर प्रभाव भी दुगुना हो जायेगा। यही नहीं इस मामले में पूर्वोत्तर के आंतकी भी बांग्लादेशियों के प्रति उदार हैं क्योंकि उन्हें बांग्लादेश का संरक्षण प्राप्त है। फिर चीन और संयुक्त राज्य अमेंरिका को तो अपने अपने हितों से मतलब है। इस परिस्थिति में भारत को संपूर्ण पूर्वोत्तर को ध्यान में रखकर बांग्लादेश के साथ कूटनीति की समीक्षा जरूर करनी चाहिए।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz