लेखक परिचय

संजय द्विवेदी

संजय द्विवेदी

लेखक माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विवि, भोपाल में जनसंचार विभाग के अध्यक्ष हैं। संपर्कः अध्यक्ष, जनसंचार विभाग, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, प्रेस काम्पलेक्स, एमपी नगर, भोपाल (मप्र) मोबाइलः 098935-98888

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


मुद्दों पर भारतीय बुद्धिजीवियों का चयनित दृष्टिकोण सबसे बड़ा संकट

संजय द्विवेदी

modijiदेश के तमाम जाने- माने बुद्धिजीवियों ने एक दिल्ली में 7 अप्रैल को प्रेस क्लब आफ इंडिया की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में न सिर्फ भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को जी-भर कर कोसा वरन एक साझा बयान पर हस्ताक्षर भी किए (जनसत्ता, 8 अप्रैल,2014)। भारतीय बुद्धिजीवियों की यह लीला न पहली है न अंतिम बल्कि इससे पता चलता है कि समाज में चल रहे आलोड़न और अपनी जड़ों से वे कितने उखड़े हुए हैं। हमारे बुद्धिजीवियों का यही शुतुरमुर्गी चरित्र और मुद्दों पर चयनित दृष्टिकोण देश का सबसे बड़ा संकट है।

सवाल यह उठता है कि पिछले दस सालों में मनमोहन-चिदंबरम-मोंटेंक सिंह अहलूवालिया की आर्थिक कलाबाजियों, निरंतर भ्रष्टाचार के बीच सिसकते हिंदुस्तान के साथ कितनी बार ये हस्ताक्षर करने वाले बुद्धिजीवी नजर आए? यहां तक की अन्ना के आंदोलन में भी देश की पीड़ा के स्वर देने के लिए ये महापुरूष अपने ही बनाए स्वर्गों में अटके रहे। यूआर अनंतमूर्ति, अशोक वाजपेयी, नामवर सिंह, के. सच्चिदानंद, प्रभात पटनायक से लेकर इस बयान पर हस्ताक्षर करने वाले लगभग दो दर्जन बुद्धिजीवियों की वीरता तब कहां थी जब मुलायम सिंह यादव के राज में हर महीने एक दंगा हो रहा था। ये महापुरूष कश्मीरी पंडितों के पलायन को लेकर कितनी बार हस्ताक्षर अभियान और गोष्ठियां करते नजर आए? क्या कश्मीर के पाप के लिए आज तक किसी नेता कश्मीरी उलेमा ने माफी मांगी ? सही मायने में यह वे कायर जमातें हैं जो समय के सवालों से मुंह चुराते हुए अपनी सड़ी हुयी वैचारिकी और न समझ में आने वाली भाषा में एकालाप की अभ्यासी हो चुकी है। तीन दशकों तक पश्चिम बंगाल को अपने ‘वैचारिक सुराज’ से आलोकित करने वाले ये लोग किस मुंह से गुजरात और उसके मुख्यमंत्री की आलोचना के अधिकारी हैं? यू आर अनंतमूर्ति कहते हैं कि “मोदी सत्ता में आए तो हम अपने लोकतांत्रिक और नागरिक अधिकार खो बैठेंगें।“ उन्हें याद करना चाहिए कि एक बार इस देश में श्रीमती इंदिरा गांधी ने आपातकाल लागू कर हमारे लोकतांत्रिक और नागरिक अधिकार छीने थे तो उस संघर्ष की अगुवाई वामपंथियों ने नहीं, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और जनसंघ के कार्यकर्ताओं ने की थी। संघ परिवार तो लोकतंत्र की मुक्ति के लिए लड़ने वाला परिवार रहा है जबकि हमारे बुद्धिजीवी संघर्ष की वेला में शुतुरमुर्गी शैली में रेत में सिर छिपा कर लुप्त हो जाते हैं। आज मोदी को कारपोरेट समर्थक बताकर कोसने वालों की नजर में सोनिया गांधी और उनके नामित प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कैसे कारपोरेट विरोधी नजर आने लगे हैं? मनमोहन सिंह ही इस देश में मनुष्य विरोधी आर्थिक नीतियों के प्रेरणाश्रोत और प्रारंभकर्ता हैं। आखिर क्या कारण है जिन मनमोहन सिंह ने खुदरा क्षेत्र में एफडीआई लागू की, उनके खिलाफ ये बुद्धिजीवी कोई बयान देते नजर नहीं आए और जिस नरेंद्र मोदी ने खुदरा में एफडीआई न लाने का वायदा किया है, वो कारपोरेट समर्थक हो गया।

अफसोस तो यह है कि हमारे बुद्धिजीवियों की अपनी कोई राय है नहीं। वे स्वतंत्र चिंतन के बजाए ‘मोदी फोबिया’ से ग्रस्त हैं। वे दंगों से भी पीड़ित नहीं हैं। वे मुलायम के दंगों, 84 में सिखों के नरसंहार, भागलपुर, मलियाना से लेकर 1947 से लेकर कितनी बार हुए दंगों से पीड़ित नहीं हैं। उनके लेखन में भी यह पीड़ा कभी उभरकर नहीं आती वे तो बस मोदी के दंगों से पीड़ित हैं। यह जाने बिना कि आखिर गुजरात का दंगा हुआ क्यों? गुजरात के दंगे गोधरा के भीषण नरमेघ की प्रतिक्रिया में हुए थे। उस घटना के बाद गुजरात जल उठा। आखिर सेकुलर राजनीति चैंपियन मुलायम सिंह के राज में दंगें क्यों हो रहे हैं? क्या कारण है कि मुलायम सिंह दंगों की सीरीज के बावजूद सेकुलर राजनीति के मसीहा बने हुए हैं और मोदी जिनके राज में 2002 के बाद कोई दंगा नहीं हुआ वे सेकुलर बुद्धिजीवियों के निशाने पर हैं?

सही मायने में हमारे बुद्धिजीवी मोदी के खिलाफ ‘सुपारी किलर्स’ की तरह व्यवहार कर रहे हैं। आखिर यह सुपारी किसने दी है? वे कौन होते हैं भारत के एक राज्य के तीसरी बार निर्वाचित मुख्यमंत्री के खिलाफ इस प्रकार विष वमन करने वाले और लोगों को गुमराह करने वाले? भारत की जनता की समझ क्या इतनी भोथरी है कि वह सही और गलत का फैसला न कर सके। आखिर क्या कारण है देश के तमाम चुनावों में ये बुद्धिजीवी इतनी रुचि नहीं दिखाते किंतु नरेंद्र मोदी के खिलाफ ये तुरंत एकजुट हो गए। इसमें कहीं न कहीं संदेह उपजता है कि ये बुद्धिजीवी भारतीय लोकतंत्र और उसके नागरिकों के शुभचिंतक नहीं हैं। देश में पिछले दस सालों में क्या कुछ नहीं हुआ। महंगाई, भ्रष्टाचार और कदाचार के प्रतिदिन होते प्रसंगों पर, नक्सलियों के आतंक और आतंकियों की वहशत पर हमारे बुद्धिजीवियों की क्या भूमिका रही है? कहने की आवश्यक्ता नहीं है। आखिर नरेंद्र मोदी अगर देश के प्रधानमंत्री बनते हैं तो इस देश के संविधान की शपथ लेकर और जनसमर्थन के बाद ही बनेंगें। क्या हमें अपने संविधान,संसद, न्याय व्यवस्था पर भरोसा नहीं है? क्या नरेंद्र मोदी ने गुजरात में ऐसा कुछ किया है, जिसके प्रमाण इन बुद्धिजीवियों के पास हैं? सिर्फ अपने राजनीतिक विरोधों और राजनीतिक दुराग्रहों के आधार पर मोदी को लांछित करना ठीक नहीं हैं। बहुत दिन नहीं हुए जब 90 के दशक की राजनीति में लालकृष्ण आडवानी को ऐसे ही सांप्रदायिक फ्रेम में कसा जाता था। आज वे भी सेकुलर नेताओं के दुलारे हैं। अटलबिहारी वाजपेयी की सरकार बनने के पहले ऐसी ही आशंकाएं उनकी सरकार को लेकर भी जतायी जाती थीं। आज भी भाजपा देश के कई राज्यों गुजरात, मप्र, छत्तीसगढ़, गोवा में सत्ता में है, पंजाब में वह सहयोगी दल है। बिहार में जेडीयू की सहयोगी रही है। उप्र, कर्नाटक,महाराष्ट्र में उसकी सरकारें रही हैं। क्या वे सरकारें अल्पसंख्यकों से भेद करती नजर आयीं। क्या वे संविधान को तोड़ती नजर आयीं। जाहिर तौर पर नहीं। भाजपा और उसकी सरकारों का कामकाज कमोबेश अन्य दलों की सरकारों जैसा ही रहा है। कई मायने में बेहतर भी। दिल्ली से लेकर राज्यों तक में भाजपा के साथ सत्ता का अनुभव देश और सहयोगी दलों सबको है। आज देश की राजनीति में भाजपा अश्पृश्य नहीं है। वह देश की एक ऐसी पार्टी है जिसने अपने भौगोलिक और राजनीतिक विस्तार किया है। विविध समाजों और पंथों और क्षेत्रों तक उसकी पहुंच बनी है। वही है जो राष्ट्रपति पद के लिए डा. एपीजे कलाम को चुन सकती है और एक ईसाई आदिवासी पीए संगमा का समर्थन कर सकती है। वही है जो कश्मीर पंडितों की पीड़ा और उनके आर्तनाद में साथ खड़ी हो सकती है। वही है जिसके जिसके लिए अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक की परिभाषाएं बेमानी है। भारतीयता उसके केंद्र में है। इसे वे नहीं समझ सकते जो विदेश विचारों,विदेशी सोच और विदेशी पैसों के बल पर सोचते और बोलते हैं। कोई भी विचारधारा देश से बड़ी नहीं होती। किंतु फिर भी कुछ लोगों के लिए चीन युद्ध के समय चीन के चेयरमैन माओ उनके भी चेयरमैन लगते रहे हैं। रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण उनके लिए राजनीतिक नारा हो सकता है। किंतु जिन्हें देश की, उसके इतिहास की समझ नहीं है, उन्हें तो सरदार पटेल द्वारा सोमनाथ का उद्धार भी एक राजनीति ही लगेगा। देश के बुद्धिजीवियों से देश इसीलिए निराश है। क्योंकि वे राजनीति के आगे चलने वाली मशाल बनने के बजाए खुद राजनीति का हिस्सा बन गए हैं। ऐसी राजनीति का हिस्सा जिसे इस देश के मन की थाह नहीं है। ऐसी राजनीति जो बंटवारे और टुकड़े करने में भरोसा रखती है। उसे नरेंद्र मोदी रास कहां आएंगें? उन्हें तो मनमोहन सिंह, गुजराल, देवगौड़ा या कुछ भी दे दीजिए वे सह लेंगे पर वे एक नरेंद्र मोदी को नहीं सह सकते क्योंकि उन्हें पता है कि मोदी का मतलब एक ऐसी विचारधारा है जिसके लिए राष्ट्र सर्वोपरि है जबकि इनकी परिभाषा में भारत एक राष्ट्र है ही नहीं। इनका बस चले तो ये कश्मीर पाकिस्तान को, छ्त्तीसगढ़ माओवादियों को और अरूणाचल चीन को सौंप दें। ऐसे बुद्धिजीवी इस देश को नहीं चाहिए, हम बुद्धिहीन ही सही पर देश नहीं बंटने नहीं देंगें। इसीलिए प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की आवाज जब प्रचार माध्यमों पर गूंजती है- ‘मैं देश नहीं झुकने दूंगा’ तो इन बुद्धिवादियों को दर्द सबसे ज्यादा होता है, किंतु हर आम हिंदुस्तानी इस पर मंत्र झूम उठता है, झूमता रहेगा।

Leave a Reply

10 Comments on "अब मोदी के खिलाफ बुद्धिजीवियों का प्रलाप"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Dr. Arvind Kumar Singh
Guest
संजय जी, बुद्धिमान और बुद्धिजीवी में वही फर्क है जो विद्वान और पंडित में है। चार किताबो के आधार पर अपनी बात रखने वाला पंडित और अपनी मेधा के आधार पर अपनी बात कहने वाला विद्वान। उसी प्रकार बुद्धि के सहारे जीवन यापन करने वाला बुद्धिजीवी। जो सच कहने की हिम्मत न रखता हो वह कैसा राष्ट्रवादी और कैसा बुद्धिजीवी? हम गोधरा की बात नही करेगे सिर्फ गुजरात की बात करेगे और अपने को बुद्धिजीवी का तबका देगे? यदि गोधरा गलत है तो गुजरात दंगा भी गलत है। हम एक को याद करेगे दूसरे को विस्मृत यह बुद्धिजीवी का काम… Read more »
इंसान
Guest
आपकी टिप्पणी पढ़ मुझे एक लघु कथा याद हो आई। संक्षिप्त में कथा लक्कड़हारे की है जो बाहर की ओर दौड़ते न्योले के मुहं पर खून देख उसे यह सोच कर मार देता है कि अवश्य ही न्योले ने कुटिया के अंदर उसके नवजात बच्चे को हानि पहुंचाई है। कुटिआ के अंदर जा लक्कड़हारा मीठी नींद सो रहे बालक के समीप कटे मरे सांप को देख अपनी गलती का प्रायश्चित करता है। संजय द्विवेदी जी द्वारा तथाकथित बुद्धिजीविओं को अपने निबंध में बुद्धिजीवी कह संबोधन करने पर आप उनसे लक्कड़हारे सा व्यवहार कर बैठे हैं। आपने तो अपने नाम के… Read more »
इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest
संजय जी ने अपने लेख में तर्क कम और अपनी निष्‍ठा का प्रदर्शन ज्‍यादा किया है. अगर कुछ लोग, जो आज तक तो बहुमत में रहे हैं….मोदी और भाजपा का सत्‍ता में आना देश के लिये अहितकर मानते हैं तो इसमें बुराई क्‍या है. यह अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंञता है. जो मोदी को सपोर्ट नहीं करेगा वह देशभक्‍त और राष्‍टृभक्‍त नहीं है यह ठेका आपको कौन सी एजंसी से ि‍मला है…आज तक भाजपा को इस देश का बहुमत ठुकराता रहा है क्‍या यह सच नहीं है…आज अगर एनडीए को बहुमत या सबसे बड़े गठबंधन का दर्जा मिलेगा तो इसकी वजह उसका… Read more »
narendrasinh
Guest
r.r.sinh or p,mina ,nirankush, do saheb hai matlab angrejo ki soch se ab bhi bahar nahi aaye ya fir aisa sochne or likhne ke liye inko kuchh milta hoga varna aaj desh me jo hava chal rahi hai ya ban rahi hai vo ise na samaj sake itne nadan nahi hai . maine kai bar in dono ko padha hai muje lagta hai ye dono khokhle budhdhijivi hai or kyon na ho aaj aise budhdhijivio ko hi bhrast shasan ne pal rakha hai jo unke karname ko sahi or jan manas ko galat batate rehte hai ……… hame budshdhinistho ki… Read more »
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
मूल लेख को पढ़ने के लिए “अब मोदी के खिलाफ बुद्धिजीवियों का प्रलाप” पर क्लिक करें। 1-लेखक का आलेख आद्योपांत पढ़ा और मैं पढ़कर यह सोचने को विवश हूँ कि आखिर इस आलेख को प्रवक्ता पर प्रकाशित क्यों कर किया गया है, जबकि इस लेख में कुछ बुद्धिजीवियों को कोसने के आलावा नया कुछ भी नहीं है? क्योंकि इस लेख में लिखी गयी बातें, तर्क या विचार संघ, भाजपा, हिदुत्व से जुड़े लेखकों के प्रवक्ता पर प्रकाशित हर उस तीसरे चौथे लेख में मिल जाएंगे जो आपने आप को स्वंभू राष्ट्रवादी कहते हैं! प्रायोजित और मनगढ़ंत विचारों के बार-बार दोहराव… Read more »
आर. सिंह
Guest
यह कौन सा तर्क है कि मुलायम सिंह दंगे करवा रहे हैं,इसलिए नमो के विरुद्ध कोई जबान न खोले. यह कौन सा तर्क है कि जब नमो तीसरी बार गुजरात के मुख्य मंत्री बन गए हैं,तो उनके विरुद्ध कोई आवाज न उठाये. शीला दीक्षित तो चौथी बार मुख्य मंत्री बनने जा रही थी,अतः उनके विरुद्ध तो किसी को खड़ा ही नहीं होना चाहिए था.अरविन्द केजरीवाल ने कितनी बड़ी गलती की कि न केवल उन्हें ललकारा ,बल्कि चुनाव में उन्हें बुरी तरह हराया भी और अब उसकी जुर्रत देखिये कि वह ईश्वर तुल्य नेता के विरुद्ध भी लडने के लिए कमर… Read more »
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

श्री आर सिंह जी के तर्क वास्तव में तार्किक हैं और उत्तर मांगते हैं।

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’

wpDiscuz