लेखक परिचय

तारकेश कुमार ओझा

तारकेश कुमार ओझा

पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ हिंदी पत्रकारों में तारकेश कुमार ओझा का जन्म 25.09.1968 को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में हुआ था। हालांकि पहले नाना और बाद में पिता की रेलवे की नौकरी के सिलसिले में शुरू से वे पश्चिम बंगाल के खड़गपुर शहर मे स्थायी रूप से बसे रहे। साप्ताहिक संडे मेल समेत अन्य समाचार पत्रों में शौकिया लेखन के बाद 1995 में उन्होंने दैनिक विश्वमित्र से पेशेवर पत्रकारिता की शुरूआत की। कोलकाता से प्रकाशित सांध्य हिंदी दैनिक महानगर तथा जमशदेपुर से प्रकाशित चमकता अाईना व प्रभात खबर को अपनी सेवाएं देने के बाद ओझा पिछले 9 सालों से दैनिक जागरण में उप संपादक के तौर पर कार्य कर रहे हैं।

Posted On by &filed under मीडिया, व्यंग्य.


-तारकेश कुमार ओझा-

dawood_ibrahim_20051128अपना बचपन  फिल्मी पर्दो पर डाकुओं की जीवन लीला देखते हुए बीता। तब कुछ डाकू अच्छे भी होते थे, तो कुछ  बुरे भी। किसी के बारे में बताया जाता कि फलां डाकू है तो काफी नेक, लेकिन परिस्थितियों ने उसे हाथों में बंदूक थामने को मजबूर कर दिया। कुछ डाकू जन्मजात दुष्ट प्रकृति के भी बताए जाते। लेकिन डाकुओं की जिंदगी पर बनी किसी फिल्म में देशद्रोही डाकू कभी देखने को नहीं मिला फिर फिल्मी पर्दों से डाकू एकाएक गायब होते गए। उनका स्थान पहले तथाकथित दादा औऱ फिर  गुंडे – मवाली लेने लगे। लेकिन 90 के दशक में संगठित  माफियाओं का चित्रण फिल्मी पर्दों पर होने लगा। 1993 में मुंबई में हुए सीरियल बम धमाकों में लिप्तता के लिए एेसे ही एक माफिया दाऊद इब्राहिम और उसके शार्गिदों का नाम पहली बार सुन कर मैं अवाक रह गया। आदमी की प्रकृित चाहे जैसी हो  लेकिन कोई उसी मिट्टी को खून से रंगने पर आमादा हो जाए जिस पर उसने जन्म लिया। अपने उन्हीं निरपराध भाई – बहनों की जानें लेकर वह खुश हो, जिसके साथ वह पला – बढ़ा यह बात कल्पना से भी परे है। लेकिन मुंबई बम धमाके के समय से हम जिस दाऊद इब्राहिम का नाम एक कुख्यात अपराधी के रूप में सुनते आ रहे हैं,  हमारे राजनेताओं की अक्षमता ने उसे दाऊद पुराण में तब्दील कर दिया है। जिसकी कारस्तानियां खत्म होने के बजाय लगातार नया रूप लेती जा रही है।बिल्कुल किसी मेगा सीरियल की तरह कि जब लगे कि अब कुछ होगा तभी कहानी में नया टवी्स्ट। मुंबई बम धमाकों के ताजा जख्मों के दिनों में कभी – कभार अखबारों में उसके और उसके अनगिनत भाईयों के पाकिस्तान में बैठ कर राजा – महाराजाओं जैसी जिंदगी की कहानियां पढ़ – सुन कर खून खौलने लगता। फिर चैनलों का दौर आया तो इस पर भी उसके कारनामों की जब – तब चर्चा होती ही रहती। कभी दाऊद की अकूत धन संपत्ति की तो कभी उसके बाल – बच्चों की शाही शादियों की चर्चा देख – सुन कर सिर लज्जा से झूक जाता कि एक अपराधी के आगे हमारे देश के कर्णधार किस कदर बेबश हैं। चैनलों पर दाऊद के कराची स्थित शाही कोठे के नजारे भी अनगिनत बार देखने को मिले। कई बार चैनलों पर दाऊद की कथित आवाज भी सुनने को मिली।जिसका प्रचार कुछ इस अंदाज में किया जाता रहा मानो कुछ देर बाद फलां चैनल पर देववाणी सुनाई जाएगी। चुनावी मौसम व राजनैतिक क्राइसेस के दौर में अक्सर दाऊद की गिरफ्तारी की अटकलें भी लगती। लेकिन नतीजा फिर सिफर वाली बात। एक दौर में कई फिल्मों के बारे में सुनने को मिला कि यह दाऊद इब्राहिम की जिंदगी पर आधारित है। यह सोच कर फिल्म देखने गया कि इसमें उसके कारनामों के बारे में देखने को मिलेगा। लेकिन कहां … फिल्म में तो घूमा – फिरा कर दाऊद इब्राहिम का महिमामंडन ही नजर आया। अब हाल में एक रिटायर्ड पुलिस अधिकारी के मार्फत यह जानने का मौका मिला कि दाऊद इब्राहिम सरेंडर होना चाहता था, लेकिन किसी वजह से यह नहीं हो सका। इससे संदेश तो यही मिलता है कि जैसे दाऊद तो देश पर एहसान करने को तैयार था, लेकिन यह हमारी नाकामी है कि हम उससे एेसा नहीं करवा पाए। बहरहाल दूसरे अहम मुद्दों की तरह इस मामले में भी उक्त अधिकारी ने  मीडिया पर बयान को तोड़ – मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगाते हुए अपना पिंड किसी तरह छुड़ा लिया। लेकिन संसद से लेकर सत्ता के गलियारों तक में दाऊद को लेकर बयानबाजी का दौर लगातार जारी है। जिसे पढ़ – सुन कर माथा पीट लेने का मन करता है। क्योंकि  हमारे राजनेताओं का यह दाऊद पुराण अब देशवासियों के लिए असह्य हो चला है। करोड़ों देशवासियों की ओर से राजनेताओं से विनम्र  प्रार्थना है कि वह दाऊद इब्राहिम को उसके अंजाम तक पहुंचाने में सक्षम न हों तो और बात है। लेकिन मेहरबानी करके यह दाऊद पुराण बांचना अब पूरी तरह से बंद किया जाए। क्योंकि यह हर भारतीय को गहरी टीस देता है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz