लेखक परिचय

मयंक चतुर्वेदी

मयंक चतुर्वेदी

मयंक चतुर्वेदी मूलत: ग्वालियर, म.प्र. में जन्में ओर वहीं से इन्होंने पत्रकारिता की विधिवत शुरूआत दैनिक जागरण से की। 11 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय मयंक चतुर्वेदी ने जीवाजी विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के साथ हिन्दी साहित्य में स्नातकोत्तर, एम.फिल तथा पी-एच.डी. तक अध्ययन किया है। कुछ समय शासकीय महाविद्यालय में हिन्दी विषय के सहायक प्राध्यापक भी रहे, साथ ही सिविल सेवा की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों को भी मार्गदर्शन प्रदान किया। राष्ट्रवादी सोच रखने वाले मयंक चतुर्वेदी पांचजन्य जैसे राष्ट्रीय साप्ताहिक, दैनिक स्वदेश से भी जुड़े हुए हैं। राष्ट्रीय मुद्दों पर लिखना ही इनकी फितरत है। सम्प्रति : मयंक चतुर्वेदी हिन्दुस्थान समाचार, बहुभाषी न्यूज एजेंसी के मध्यप्रदेश ब्यूरो प्रमुख हैं।

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


डॉ. मयंक चतुर्वेदी


फिल्म डायरेक्टर संजय लीला भंसाली एक श्रेष्‍ठ फिल्‍म निर्देशक हैं, आज इस बात को कोई नकार नहीं सकता हैं । अभी तक की अपनी निर्देशित फिल्‍मों बाजीराव मस्तानी, गोलियों की रासलीला , साँवरिया, ब्लैक, देवदास, हम दिल दे चुके सनम, खामोशी जैसी फिल्‍मों में जिस तरह उन्‍होंने अपनी प्रतिभा का कमाल निर्देशन के जरिए दिखाया है, निसंदेह उसकी चहुंओर तारीफ हुई है। किेंतु इस बार उन्‍हें समुचे देश में ही नहीं दुनिया के तमाम देशों से पद्मावती फिल्‍म को लेकर लगातार आलोचना का शिकार होना पड़ रहा है। हलांकि यह भी सत्‍य है कि जिस तरह राजपूत करणी सेना ने फिल्‍म निर्माण के सेट पर उनसे बदसुलूकी की है, उसके बाद से फिल्‍मी दुनिया के कई कलाकार एवं निर्माता-निर्देशक इस कृत्‍य को सीधे अभिव्‍यक्‍ति पर किए गए कुठाराघात के रूप में देख रहे हैं । जो लोग इसे अभिव्‍यक्‍ति पर हमला मान रहे हैं उनसे आज यह सीधे जरूर पूछा जाना चाहिए कि क्‍या अपने इतिहास को या अपने एतिहासिक महान चरित्रों को विकृत करके दिखाना, उसे कला – प्रदर्शन मात्र मानकर उससे साथ खिलवाड़ करने को वे कहां तक उचित ठहराएंगे ? भारतीय संविधान तो इस बात की इजाजत नहीं देता कि आप दूसरों की भावनाओं को आहत करें।

वस्‍तुत: वीर रानी पद्मावती का चरित्र तो बिल्‍कुल ऐसा नहीं कि उसके साथ एतिहासिक खिलवाड़ करने की थोड़ी भी गुंजाईश हो । इस वक्‍त जिस तरह से सोशल मीडिया पर भंसाली को लेकर कमेन्‍ट आ रहे हैं, उन्‍हें देखें तो वे साफ कह रहे हैं कि राजपूत वीरों के इतिहास के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं होगी। पहले छोटे परदे पर यही काम एकता कपूर भी अपने सीरियल जोधा-अकबर के माध्‍यम से कर चुकी हैं जिसका कि भारी विरोध किया गया था। यह सर्वविदित है कि इस सीरियल में इतिहास को तोड़-मरोड़ कर जोधा को गलत तरीके से पेश किया गया था। वस्‍तुत: आज वही इतिहास को गलत तरीके से प्रस्‍तुत करने का कार्य कला, मनोरंजन के नाम पर भंसाली रानी पद्मावती फिल्‍म बनाकर करने जा रहे हैं। जिस रानी ने अपनी शील, चरित्र एवं संस्‍कारों की रक्षा के लिए एक मलैच्‍छ के पास जाने की अपेक्षा मौंत को अंगीकार करना उचित समझा हो, उसके लव सीन तैयार कर देश की वर्तमान पीढ़ी को एतिहासिक आधार पर गुमराह करने का यह प्रयत्‍न क्‍यों किया जा रहा है ?

संजय लीला भंसाली को क्‍या यह साफ-साफ नहीं दिखाई दे रहा है कि रानी पद्मावती चित्तौड़गढ़ की रानी और राजा रतनसिंह की पत्नी थीं। खिलजी वंश का शासक अलाउद्दीन खिलजी खूबसूरती से मोहित हो पद्मावती को पाना चाहता था। रानी को जब ये पता चला तो उन्होंने अलाउद्दीन के पास जाने के बजाय कई दूसरी 16 हजार राजपूत महिलाओं के साथ अपने कुल और देश की मर्यादा के लिए जौहर व्रत (आग में कूदकर आत्मदाह कर लेना ) उचित समझा । राजस्‍थान की धरती, परंरागत गीतों में इसके सत्‍य प्रमाण आज मौजूद हैं । प्रश्‍न यह है कि फिल्‍म निर्माण और मनोरंजन के नाम पर इस साक्ष्‍य को जुठला देना कहां तक उचित माना जाना चाहिए? सच पूछिए तो रानी पद्मावती भारत की हर उस स्‍त्री का आदर्श और गौरव हैं जो यह मानती है कि स्‍वाभिमान और आत्‍मसम्‍मान से बढ़कर जीवन में कुछ भी नहीं है।

भंसाली अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मिनी पर बन रही अपनी इस फिल्म ‘पद्मावती’ की शूटिंग के दौरान उन दोनों के बीच कथित लव सीन दर्शा भी कैसे सकते हैं, जबकि यह बिल्‍कुल असत्‍य है। इसलिए ही भंसाली की इस फिल्‍म को लेकर इस वक्‍त राजस्‍थान में आक्रोश है, वहां चहुंओर कहा यही जा रहा है कि हम राजपूतों की धरती पर अपने पूर्वजों को लेकर दिखाई जा रही अश्‍लीलता को बर्दाश्त नहीं करेंगे। जबकि दूसरी ओर भंसाली के सपोर्ट में बॉलीवुड है। सेंसर बोर्ड के चेयरमैन पहलाज निहलानी ने कहा कि ऐसे में राज्य सरकार क्या कर रही थी ? फिल्म क्रू को सिक्योरिटी क्यों नहीं दी गई? श्याम बेनेगल ने कहा कि इस तरह से फिल्म बनाने वालों पर हमले होंगे तो वे डरने लगेंगे। ऋतिक रोशन का कहना है कि मिस्टर भंसाली सर, मैं आपके साथ हूं , ये वास्तव में गुस्सा दिलाने वाला है। करण जौहर ने ट्वीट किया, संजय भंसाली के साथ जो हुआ, उससे मैं चौंक गया। इस वक्‍त इंडस्ट्री के सभी लोगों को उनके साथ होना चाहिए।

निश्‍चित ही उनके साथ जो मार-पीट हुई उसकी भर्स्‍सना सभी को करनी चाहिए, किंतु क्‍या आज यह फिल्‍म इंडस्‍ट्री के उन तमाम लोगों को जो आज भंसाली के समर्थन में आवाज उठा रहे हैं नहीं सोचना चाहिए कि फिल्‍म निर्माण और मनोरंजन के नाम पर इतिहास के साथ छेड़छाड़ करना कहां तक उचित ठहराया जाना चाहिए। वह इतिहास ही है जो अपनी भावी पीढ़ी को आत्‍मसम्‍मान का भान कराता है । अपने पुरखों पर गौरव करना सिखाता है, अपने कल से सीख लेकर बेहतर भविष्‍य का निर्माण करना सिखाता है । ऐसे इतिहास के साथ खिलबाड़ करने को निश्‍चित ही कहीं से सही नहीं ठहराया जा सकता है । मिस्‍टर भंसाली इतिहास को इतिहास की तरह ही प्रस्‍तुत करें तो ही बेहतर है, अन्‍यथा इस फिल्‍म निर्माण का कोई औचित्‍य नहीं ।

Leave a Reply

30 Comments on "इतिहास से छेड़छाड़ को अभिव्‍यक्‍ति का नाम देना"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
इंसान
Guest
डॉ. मधुसूदन जी और रमश सिंह जी के बीच वार्तालाप पढ़ सोचता हूँ कौन इतिहासकार और किस इतिहास की बात करते हैं और उस पर इतिहास लेखन में इतिहासकारों, विशेषकर विदेशी इतिहासकारों के अच्छे बुरे उद्देश्य को भूल कल के इतिहासकारों को क्यों सिर पर बिठाए हुए हैं? अब तक राष्ट्रद्रोहियों द्वारा रचाया अथवा व्याख्यित किया इतिहास केवल हमें बांटने, हमारी संस्कृति, हमारी परम्पराओं को निर्बल करने का क्रूर प्रयास रहा है| कल के इतिहासकार भारतीयों को निरंतर शोषित करते “समय है बलवान” के समय को बांधे बैठे हैं जबकि सामान्य भारतीय के लिए परम्परा सदैव उसका साथ देती रही… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन
इतिहास में संशोधन करनेवालों को ध्यान में लेना चाहिए कि (१) इतिहास लिखनेवालों की प्रदत्त सामग्री कौनसी है? (२) किसने वह इतिहास लिखवाया है? ————————————————————————————————— बाबरनामा, जहाम्गिरनामा ऐसी प्रायः ३२ (?) तवारिखें लिखी गयी थीं; जिसका उपयोग कर, हजार हजार पन्नोंके,आंठ ग्रन्थ लिखे गए; जो भारत में नेहरू ने, प्रतिबंधित किए, ये ग्रंथ जॉहन्सन और डाव्सन (?) ने संपादित किए। ————————————– (क)१८५७ के स्वातंत्र्य युद्ध को “विप्लव” कहना। (ख) स्वातंत्र्य के आंदोलन में, सुभाष, सावरकर, अरविन्द, इत्यादि को उपेक्शित। (ग)हमारा अंक का योगदान उपेक्षित (घ) संस्कृत उपेक्षित (च) आर्यों की घुसपैठ का भ्रम फैलाना (छ)संस्कृत की पाण्डुलिपियाँ चुराना (ज) रॉयल… Read more »
आर. सिंह
Guest

डॉक्टर साहिब, आप इतिहास लेखन का मूल सिद्धांत भूल रहे हैं.इतिहास में हमेशा संशोधन होता आया है.जैसे जैसे अनुसन्धान में प्रगति होती है,वैसे वैसे इतिहास में संशोधन की आवश्यकता पड़ती है. मोहन जोडारो और हरप्पा के सभ्यता की खोज इसका ज्वलंत उदाहरण हैं. इतिहास का बहुत सा अंश किम्बदंतियों और चारण की रचना पर आधारित होता है,पर उसको वास्तविक इतिहास समझना भूल है.इतिहास लेखक कहानीकार नहीं होता,उसे वास्तविकता तक पहुँचने के लिए इससे बहुत आगे सोचना पड़ता है.

अमर प्रताप
Guest
अमर प्रताप

जिस इतिहास के लिये राजस्थान की मिट्टी ह्जारो सालो तक खुन मे रंग दि गयी हो
उस इतिहास की कोमा या खडीपाइ भी हटाने नही देंगे

डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

सिंह साहब, कृपया आप *इतिहास में संशोधन* विषय पर, *संदर्भ सहित*, सटीक आलेख लिखिए। फिर बिन्दूवार चर्चा सरल होगी। यह अनुरोध करता हूँ।

आर. सिंह
Guest
मुझे ऐसी कोई आकांक्षा नहीं है.मैंने इस विषय पर बोलना इसलिए उचित समझा ,क्योंकि मुझे लग रहा था कि इस विषय पर इस तरह का लेखन एक तो मौलिकता और सृजनात्मकता को चुनौती दे रहा है,दूसरी तरफ एक ऐसे इतिहास को प्रमाणिकता दे रहा है,जिसका आज पद्मावत और राजस्थान में फैले हुए कुछ चारणीय तुकबंदियों के अतिरिक्त कोई आधार नहीं है.चूंकि एक ख़ास जाति के,जिससे मैं भी सम्मिलित हूँ,झूठी दम्भ को हवा दी जा रही थी ,जिसे मैं उचित नहीं समझता,इसलिए मुझे भी इस विवाद में कूदना पड़ा.इतिहास लेखन के बारे में मैंने जो टिपण्णी लिखी है,वह पूर्ण विश्व के… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

कमसे कम इतिहास संशोधन के सिद्धान्त पर आलेख का अनुरोध करता हूँ।

आर. सिंह
Guest
हर टिपण्णी पर आलेख लिखना संभव है क्या? मैंने मोहन जोदड़ो और हरप्पा की खुदाई के पहले और बाद के इतिहास का उदाहरण दिया था. बहुत कालों का इतिहास इसी तरह दफ़न है और उस पर पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई किये जाने का असर पड़ता है.आप किसी भी देश के पुरातत्व विभाग से संपर्क कर यह पूछ सकते हैं.इस पर आलेख लिखने की मैं कोई आवश्यकता नहीं समझता,आपके लिए यह काम ज्यादा आसान है,क्योंकि आप एक प्रसिद्ध व्यक्ति हैं.ऐसे मेरे इस कथन की पुष्टि भी पुरातत्व विभाग कर देगा.अगर आप फिर भी अपनी बात कुतर्क द्वारा मनवाना चाहते हैं ,तो… Read more »
इंसान
Guest

रमश सिंह जी से ऐसा अनुरोध कर आपने तो विषय पर वार्तालाप को सदा के लिए विश्राम दे दिया है| संदर्भ सहित इतिहास में संशोधन करेंगे तो ऊपर अन्तरिक्ष में बैठे लेखकों द्वारा प्रस्तुत लेखों और पाठकों द्वारा उनकी टिप्पणी का निरीक्षण करते रमश सिंह जी को पहले धरती पर लौट अपना दृष्टिकोण बदलना होगा| यह स्थिति मेरी मातृभाषा में “ਸੱਪ ਦੇ ਮੂੰਹ ਵਿਚ ਕੋਹੜ ਕਿਰਲੀ,” अर्थात सांप के मुंह में विषैली छिपकली जो न छोड़े बने और न ही निगलते बने को सार्थक करती है!

डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

aajtak.in [Edited By: विष्णु नारायण]

नई दिल्ली, 28 जनवरी 2017, अपडेटेड 19:24 IST

बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक संजय लीला भंसाली द्वारा बनाई जा रही फिल्म ‘पद्मावती’ पर हुए बवाल के बाद से फिल्म की शूटिंग रोक दी गई है. गौरतलब है कि बीते दिन राजस्थान की करणी सेना ने उन पर इतिहास और तथ्य से खिलवाड़ का आरोप लगाते हुए हमला कर दिया था. उन्होंने जयपुर में हो रही फिल्म की शूटिंग पर रोक लगा दी है.

आर. सिंह
Guest
हमलोगों ने इतिहास में पढ़ा था कि अल्लाउदीन खिलजी ने पद्मिनी के रूप की गाथा सुनकर महाराज रतन सिंह से अनुरोध किया था कि उसे महारानी की एक झलक दिखला दी जाये तो वह संतुष्ट हो जायेगा.इस अनुरोध को मानते हुए रतन सिंह ने महारानी की झलक दर्पण के माध्यम से उसको दिखला दी थी.क्या मैंने यह गलत पढ़ा था? अगर यह सही है,तो उन्होंने ऐसा क्यों किया था?क्या उनको नहीं मालूम था कि इससे उसकी सौंदर्य लोलुपता और भड़केगी?हुआ वही.उसके बाद तो वह पद्मिनीको प्राप्त करने के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार हो गया.इसके बाद जो हुआ,वह… Read more »
आर. सिंह
Guest

यह ऐसा विषय था कि मुझे आगे भी खोज करनी पडी.अब तो यह तथ्य उभर कर आया है कि इतिहास लेखक इस पर भी सहमत नहीं हैं कि वास्तव में पद्मिनी /पद्मावती नामक कोई ऐसी रानी रतन सेन के रनिवास में मौजूद थी भी या नहीं .इस पर इतिहास लेखक अवश्य सहमत हैं किअल्लाउदीन खिलजी ने चित्तौड़ पर चढ़ाई की थी और जौहर हुआ था,पर इसका कारण पद्मिनी थी,यह कोई नहीं मानता.इसका मतलब हमलोगों ने जो स्कूल में पढ़ा था ,वह भी शायद आज गलत प्रमाणित ओ चूका है.

डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन
(१)भणसाली ऐतिहासिक विषयों को छोडकर अपना धंधा करे। इतिहास पर ये चोर लोग Disclaimer डाल देते हैं। (२)प्रश्न: ==>*तो फिर ऐतिहासिक नाम ही क्यों रखते हो?* कला का स्वातंत्र्य आपको झूठ प्रसारित करने की अनुमति नहीं देता। ऐसे धंधेबाजों के प्रति हमें कोई आदर नहीं है। (३) इतिहास को विकृत कर के पैसा बनानेवालों का कठोरतम विरोध होना चाहिए। झूट जब परदेपर दिखाया जाता है; तो भोला युवा प्रेक्षक उसी को सच्चा इतिहास मान लेता है। और कहीं पर, शीघ्र गति से Disclaimer चढा देते हैं, जो पढा भी नहीं जा सकता। (४) देश की परम्परा और इतिहास को विकृत… Read more »
आर. सिंह
Guest

डॉक्टर मधुसूदन,सच सच बताइये,क्या इसके पहले महाराज रतन सिंह,महारानी पद्मिनी और बादशाह अल्लाउदीन सम्बंधित इस कहानी के बारे में कुछ भी जानते थे?ऐसे” भारत का इतिहास हमारी गलतियों की कहानी “नामक एक आलेख प्रवक्ता पर मौजूद है.अगर समय मिले तो उसको पढ़ कर देखिये कि ,हमलोगों ने क्या किया है?भारतीय इतिहास में राजपूतों की मूर्खता और उनकी गद्दारी की कहानी भी कम नहीं है.

अमर प्रताप
Guest
अमर प्रताप

ताऊ सा ,एक बार राजस्थान आकर देखो ,
फ़िर बात करना राजस्थान के इतिहास की ,

आर. सिंह
Guest

अमर प्रताप जी,मैं राजस्थान बहुत बार जा चूका हूँ और राजस्थान के इतिहास से भी वाकिफ हूँ.वैसे आपको बुरा लागेगा,पर मेरे विचार से राजपूतों का इतिहास उनके वीरता के साथ साथ उनकी मूर्खता से भी भरा हुआ है.वहां गद्दार भी कम नहीं पैदा हुए हैं.

अमर प्रताप
Guest
अमर प्रताप

ताऊ सा ,एक बार राजस्थान आकर देखो ,
फ़िर बात करना राजस्थान के इतिहास की ,

डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

aajtak.in [Edited By: विष्णु नारायण]

नई दिल्ली, 28 जनवरी 2017, अपडेटेड 19:24 IST

बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक संजय लीला भंसाली द्वारा बनाई जा रही फिल्म ‘पद्मावती’ पर हुए बवाल के बाद से फिल्म की शूटिंग रोक दी गई है. गौरतलब है कि बीते दिन राजस्थान की करणी सेना ने उन पर इतिहास और तथ्य से खिलवाड़ का आरोप लगाते हुए हमला कर दिया था. उन्होंने जयपुर में हो रही फिल्म की शूटिंग पर रोक लगा दी है.

आर. सिंह
Guest

अपने को स्वयंभू मानने वाले और भारत की पौराणिक गरीमा की सुरक्षा का दावा करने वाले बहुत से दलाल आजकल मैदान में उतर आये हैं.उचित मूल्य देकर बहुतों का मुंह बंद कराया जाता रहा है,पर संजय भंसाली ने शूटिंग रोक कर इनके सारे मंसूबों पर पानी फेर दिया.

डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

(१)आप कहते हैं; *उचित मूल्य देकर बहुतों का मुंह बंद कराया जाता रहा है* आप चालाकी से,अप्रत्यक्ष रीति से, ऐसा सूचित कर, निश्चित ही, भ्रष्टाचार को प्रोत्साहित कर रहे हैं।
(२) नोट बन्दी के कारण अब इसकी संभावना भी मोदी ने कम कर दी है। बोलो जय भारत।
(३) और, संजय लैला भणसाली को भी शायद इतना दुःख नहीं हुआ होगा?

अमर प्रताप
Guest
अमर प्रताप
चूडावतों के सरदार जैतसिंह चूडावत की कहानी ! मेवाड़ के महाराणा अमरसिंह की सेना की दो राजपूत रेजिमेंट चूडावत और शक्तावत में अपनी श्रेष्ठता साबित करने के लिए एक प्रतियोगिता हुई थी ! इस प्रतियोगिता को राजपूतों की अपनी आन, बान और शान के लिए अपने प्राण तक न्यौछावर कर देने का अद्भुत उदाहरण माना जाता है ! मेवाड़ के महाराणा अमरसिंह की सेना में ,विशेष पराक्रमी होने के कारण “चूडावत” खाप के वीरों को ही “हरावल” यानी युद्ध भूमि में अग्रिम पंक्ति में रहने का गौरव प्राप्त था व वे उसे अपना अधिकार समझते थे ! किन्तु “शक्तावत” खाप… Read more »
आर. सिंह
Guest
इसमें दोनों को आप वीरता का नाम देंगे,पर कम से कम चूडावत सरदार के कार्य को तो मैं वीरता नहीं मान सकता,पर यह सब बहसआखिर क्यों?बात जब पद्मिनी या पदमावती की है,तो उसको वहीँ तक क्यों न सीमित रखा जाये.बात तो सच पूछिए तो वह भी नहीं है.बात केवल सर्जानत्मकता की है.इतिहास कारों में अल्लाउदीन खिलजी के पद्मावती पर आसक्ति के बारे में भी एकमतता नहीं है. जायसी के पद्मावत में अतिशयोक्ति है,अतः उसको प्रामाणिक इतिहास नहीं माना जा सकता.मेरे विचार से पद्मावत एक मौलिक सृजन है.पद्मावती वहां केवल प्रतीक रूप में है.भंसाली भी मूल आधार के साथ बिना छेड़… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

आप कहते हैं, कि *सपने में अल्लाउदीन की फंतासी दिखलाई भी गयी थी ,तो उससे वास्तविकता में क्या अंतर पड़ रहा था?* ऐसी फंतासी भी खिलजी ने बयाँ की थी क्या? जो घटा ही नहीं उसका भी फंतासिक अस्तित्व आप के लिए, ऐतिहासिक प्रमाण, बनता है। इस फंतासी को आपने कहाँ पढा?
या एक ही विषय को आप दो अलग मानकों पर कस रहे हैं?
कुछ उत्तर देंगे?वाह! वाह!!==> फंतासी को भी सुविधा से, प्रमाण माननेवाला विद्वान।

आर. सिंह
Guest

डॉक्टर मधुसूदन जी,एक नेक सलाह. आप जब मुझसे विवाद कर रहे हों या विचार विमर्श कर रहे हों तो अपने साथ जुड़े हुए तगमों को भूल जाइये,क्योंकि मुझ पर उसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता,क्योंकि मैं विवाद के विषय को देखता हूँ,उसके पीछे के व्यक्ति को नहीं.

आर. सिंह
Guest
फंतासी तो फंतासी है,इसका इतिहास से क्या सम्वन्ध?अगर फंतासी किसी के अपने दिमाग की उपज हो,तो वह व्यक्ति उक्त वर्णन कर भी सकता है,पर अगर कोई लेखक किसी दूसरे की फंतासी के बारे में सोचेगा,तो उसका कोई आधार नहीं हो सकता.यह लेखक या कवि की सृजनशीलता है. वह उस चरित्र से एकात्मकता कायम कर लेता है,जिस चरित्र का वह वर्णन कर रहा है.अगर सभी इसकों आत्मसात कर लेते तो कोई भी लेखक या कवि बन जाता,.वास्तविकता यह है कि वे तो इसे समझ भी नहीं ,जो सृजनात्मक लेखन में समर्थ नहीं है.
डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

फंतासी यदि है, तो सच्चे ऐतिहासिक नाम नहीं लेने चाहिए।
यदि कोई आर सिंह को फंतासी में अपशब्द कहे तो कैसे सहेंगे? मैं भी उसका विरोध ही करूँगा। यही तर्क सही है। कोई फंतासी में आप को अपशब्द कह रहा है। और कहता है, कि, यह फंतासी है। क्या कहते हैंं आप?

आर. सिंह
Guest

इस टिपण्णी में मेरा मखौल उड़ाए जाने के बाद मैंने जो टिपण्णी की है,उसे क्यों प्रकाश में नहीं लाया जा रहा है?यह तो अच्छा मजाक है?कोई गाली दे रहा है और मैं उसका प्रतिकार भी नहीं कर सकता.

आर. सिंह
Guest

मैं इसका उत्तर दे चूका हूँ.क्या प्रवक्ता.कॉम उसे सामने लाएगा या यह उत्तर भी डॉक्टर साहिब के प्रति श्रद्धा को भेंट हो जायेगा?

आर. सिंह
Guest
डॉक्टर साहिब ,अब तो आप बच्चों जैसी बातें करने लगे.क्या आप कल्पना और फतांसी का अर्थ एक दम नहीं समझते या बेबुनियादी तर्क करना चाहते हैं?आप अपनी टिपण्णी को फिर से पढ़िए.कल्पना या फंतासी का यही पहलू हैं. जो इतने कवि या कल्पित कथा लेखक हैं,वे क्या करते हैं?लेखकों के लिए अधिकतर एक आधार होता है,जिस पर वे अपनी कल्पना के सहारे बड़े बड़े उपन्यास तक लिख डालते हैं.कहानियां तो लिखी ही जाती है.कविता में तो बहुत बार वह आधार भी नहीं होता.छायावाद और रहस्यवाद की अधिकतर रचनाएँ इसी श्रेणी में आती है.मेरी बीस से अधिक कहानियां प्रवक्ता.कॉम पर हैं,उसमे… Read more »
आर. सिंह
Guest
इसमें दोनों को आप वीरता का नाम देंगे,पर कम से कम चूडावत सरदार के कार्य को तो मैं वीरता नहीं मान सकता,पर यह सब बहसआखिर क्यों?बात जब पद्मिनी या पदमावती की है,तो उसको वहीँ तक क्यों न सीमित रखा जाये.बात तो सच पूछिए तो वह भी नहीं है.बात केवल सर्जानत्मकता की है.इतिहास कारों में अल्लाउदीन खिलजी के पद्मावती पर आसक्ति के बारे में भी एकमतता नहीं है. जायसी के पद्मावत में अतिशयोक्ति है,अतः उसको प्रामाणिक इतिहास नहीं माना जा सकता.मेरे विचार से पद्मावत एक मौलिक सृजन है.पद्मावती वहां केवल प्रतीक रूप में है.भंसाली भी मूल आधार के साथ बिना छेड़… Read more »
wpDiscuz