लेखक परिचय

बीनू भटनागर

बीनू भटनागर

मनोविज्ञान में एमए की डिग्री हासिल करनेवाली व हिन्दी में रुचि रखने वाली बीनू जी ने रचनात्मक लेखन जीवन में बहुत देर से आरंभ किया, 52 वर्ष की उम्र के बाद कुछ पत्रिकाओं मे जैसे सरिता, गृहलक्ष्मी, जान्हवी और माधुरी सहित कुछ ग़ैर व्यवसायी पत्रिकाओं मे कई कवितायें और लेख प्रकाशित हो चुके हैं। लेखों के विषय सामाजिक, सांसकृतिक, मनोवैज्ञानिक, सामयिक, साहित्यिक धार्मिक, अंधविश्वास और आध्यात्मिकता से जुडे हैं।

Posted On by &filed under खान-पान.


kathalसामग्री – 1 कटहल एकदम कच्चा(सफेद सा, पीलापन न हो) सौंफ 50 ग्राम, राई50ग्राम, लाल मिर्च पिसी 50 ग्राम, मेथी दाना 2 चम्मच, अमचूर 50 ग्राम, हल्दी 3 चम्मच, नमक स्वादानुसार, सिरका 150 मि.लि.,200 मि.लि. सरसों का तेल।

विधि – कटहल के छोटे छोटे टुकड़े काट लें फिर पानी मे नमक डालकर उबाल लें । उबाल आते ही गैस बन्द करदें। 2 मिनट ढक कर रखदें। अब पूरा पानी निकालकर छलनी मे डाल कर रखें।एक मेज़ पर सूती कपड़ा डालकर उसे पूरा कटहल फैला दें। छाया मे6-7 घन्टे सूखने दें। सारे मसाले पीस लें, उसमे आधा सिरका और आधा तेल मिला लें।कटहल भी अच्छी तरह मिला कर बरनी मे दबा दबा कर भर दें। 2 दिन बाद बाककी सिरका और तेल भी डाल दें। यह अचार तैयार होनेमे कमसे कम 3 सप्ताह लगते हैं।

 

Leave a Reply

1 Comment on "कटहल का अचार"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
PRAN SHARMA
Guest

KATHAL KE ACHAAR KEE VIDHI BATAANE KE LIYE HARDIK DHANYAWAAD

wpDiscuz