लेखक परिचय

गोपाल बघेल 'मधु'

गोपाल बघेल 'मधु'

President Akhil Vishva Hindi Samiti​ टोरोंटो. ओंटारियो, कनाडा

Posted On by &filed under कविता.


-गोपाल बघेल ‘मधु’-

poetry-sm

झकझोरता चित चोरता, प्रति प्राण प्रण को तोलता;
रख तटस्थित थिरकित चकित, सृष्टि सरोवर सरसता ।

संयम रखे यम के चखे, उत्तिष्ठ सुर उर में रखे;
आभा अमित सुषमा क्षरित, षड चक्र भेदन गति त्वरित ।
वह थिरकता रस घोलता, स्वयमेव सबको देखता;
आत्मा अलोड़ित छन्द कर, आनन्द हर उर फुरकता ।

कर प्रवाहित मन्दाकिनी, ब्रह्माण्ड की हर हिय- कणी;
दे दीक्षा ले परीक्षा, घूमे फिरे हर कुण्डली ।
हर मन सुकोमल भाव दे, सुकृति प्रकृति में ढालता;
हर ‘मधु’ के उर बोलता, हृद सभी के रह खेलता ।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz