लेखक परिचय

रवि कुमार छवि

रवि कुमार छवि

(भारतीय जनसंचार संस्थान)

Posted On by &filed under खेल जगत, जन-जागरण.


साल 2016 में टीम इंडिया का प्रदर्शन

साल 2016 टीम इंडिया के लिए शानदार रहा। टीम इंडिया ने इस दौरान इस एक भी टेस्ट मैच नहीं गंवाया। तो वहीं कोहली की अगुआई में टीम ने टेस्ट रैंकिग में नंबर एक की पोजिशन पर काबिज हुई। धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया टी-20 विश्व कप में सेमीफाइनल तक भी पहुंची जहां वो वेस्टइंडी़ज से हार का सामना करना पड़ा। इसके अलावा ये साल पूरी तरह से विराट कोहली और उनकी बल्लेबाजी पर केंद्रित रहा। कोहली ने इस साल अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाए। साथ ही कोहली एक ही साल में तीन दोहरे टेस्ट शतक लगाने वाले पहले टेस्ट खिलाड़ी बने थे। इसके अलावा बहुत कुछ रहा इस साल भारतीय क्रिकेट के लिए आइए एक नजर डालते हैं… भारतीय क्रिकेट के साल के सफर पर

भारत का ऑस्ट्रेलिया दौरा-

टीम इंडिया ने साल की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया के साथ पांच मैचों की वनडे सीरीज़ के साथ की। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस सीरीज़ में टीम इंडिया को 4-1 से हार का सामना करना पड़ा। इस सीरीज़ में दोनों टीमों के बल्लेबाज़ों का बोलबाला रहा। टीम इंडिया ने पांचवे वनडे में ऑस्ट्रेलिया को हराकर कुछ हद तक अपनी लाज रखी।

टी-20 सीरीज में कंगारुओं का सफाया
वनडे सीरीज़ हारने के बाद टीम इंडिया को तीन टी-20 मैचों की सीरीज़ खेलनी थी। लेकिन खेल के इस छोटे प्रारुप में ऑस्ट्रेलिया को चारों खाने चित्त कर दिया। टीम इंडिया ने अपने बल्लाबाजों और गेंदबाजों के साहसिक प्रयास से ऑस्ट्रेलिया को उसीके घर में 3-0 से मात देकर सीरीज़ पर कब्जा किया। इस प्रारुप में ऑस्ट्रेलिया कहीं भी टीम इंडिया के बराबर नहीं दिखी। और टीम इंडिया ने  पहली बार ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में पहली बार किसी सीरीज़ में क्लीन स्वीप किया।

श्रीलंका से मारी बाजी

टीम इंडिया ने श्रीलंका को घरेलू टी-20 सीरीज़ में मात देकर अपने विजयी अभियान को जारी रखा। तीन मैचों की इस सीरीज़ में टीम इंडिया ने श्रीलंका को 2-1 से मात दी।
एशिया के सिकंदर बने

बांग्लादेश में हुए एशिया कप मे टीम इंडिया ने बाजी मार एशिया के सिकंदर बनने का तमगा हासिल किया। ये पहली बार था जब एशिया कप टी-20 फार्मेंट में खेला गया। एशिया कप के फाइनल में टीम इंडिया ने बांग्लादेश को फाइनल में 8 विकेट से हराकर एशिया कप के खिताब पर कब्जा किया।

चूक गए खिताब से

एशिया कप जीतने के बाद टीम इंडिया के हौंसले बुंलद थे… ऐसे में भारत में होने वाले टी-20 विश्व कप में टीम इंडिया को खिताब की प्रबल दावेदार माना जा रहा था। लेकिन पहले ही मैच में टीम इंडिया को न्यूज़ीलैंड ने पटखनी देकर बता दिया कि टीम इंडिया का विश्व चैंपियन बनना इतना आसान नहीं है..हालांकि इस हार के बाद टीम इंडिया ने शानदार कमबैक करते हुए पाकिस्तान,ऑस्ट्रेलिया,और बांग्लादेश को हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया जहां टीम इंडिया को एक बेहद रोमांचक मैच में वेस्टइंडीज से हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ ही टीम इंडिया का विश्व कप में अभियान भी खत्म हो गया। बाद में वेस्टइंडीज ने दूसरी बार खिताब हासिल किया।

IPL के नए सरताज

साल 2016 के आईपीएल का संस्करण में डेविड वॉर्नर की अगुआई वाली सनराईजर्स हैदराबाद ने जीता। सनराईजर्स ने फाइनल में विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम आरसीबी को हराकर अपना पहला खिताब जीता। विराट कोहली ने पूरे टूर्नामेंट में अपनी छाप छोड़ी और वो प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट बने। इस दौरान विराट कोहली ने 973 रन बनाए।

वेस्टइंडीज में बजाया डंका

इस साल टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज़ का दौरा किया। जहां टीम इंडिया को चार टेस्ट मैचों की सीरीज़ खेलनी थी. इस सीरीज़ मे विराट कोहली की कप्तानी की अगुआई वाली टीम इंडिया का सामना एक ऐसी टीम से था जो अपने घर में हमेशा खतरनाक रहती है.. लेकिन टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज़ को आसानी से सीरीज़ में 2-0 से हरा दिया। ये टी इंडिया के इतिहास में पहली बार हुआ था जब उसने वेस्टइंडीज की सरज़मी पर दो टेस्ट मैच जीते थे। इसके साथ ही विराट कोहली ने कप्तान के तौर पर टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक जड़ा। कोहली वेस्टइंडीज में बतौर कप्तान दोहरा शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बने।

फिर हारे वेस्टइंडीज से 

टेस्ट सीरीज़ के बाद टीम इंडिया टी-20 क्रिकेट में वेस्टइंडीज से एक बार फिर से भिड़ने के लिए तैयार थी। इस बार की सीरीज़ अमेरिका में खेली गई थी। लेकिन सीरीज़ के पहले मैच में टीम इंडिया एक बार फिर से नाकम हो गई। और उसे पहले ही मैच में एक रन की करीबी हार का सामना करना पड़ा। हालांकि सीरीज के दूसरे मैच में टीम इंडिया के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया लेकिन बारिश के कारण ये मैच धुल गया। इस तरह से वेस्टइंडीज ने टीम इंडिया को 1-0 से हरा दिया। टीम इंडिया का वेस्टइंडीज से टी-20 विश्व कप मे मिली हार का बदला लेने का सपना भी टूट गया।

कीवियों से किया क्लीन स्वीप

न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाली सीरीज साल 2016 में भारत में खेली गई पहली टेस्ट सीरीज थी। और इसकी शुरुआत हुई न्यूजीलैंड से। ऐसा लगा न्यूजीलैंड टीम इंडिया को कड़ी टक्कर देगा लेकिन टीम इंडिया ने कीवियों के ऐसे पंख कतरे कि वो उड़ना ही भूल गई और नतीजा ये रहा कि टीम इंडिया ने सीरीज़ के सभी मैचों में न्यूजीलैंड के हर दांव को बौना साबित कर सीरीज़ में न्यूजीलैंड का सफाया कर दिया। सीरीज़ में अश्विन ने कुल 27 विकेट लिए। पूरी सीरीज़ में अश्विन को शानदार प्रदर्शन के कारण मैन ऑफ द सीरीज़ का खिताब दिया गया। इसी के साथ टीम इंडिया के नंबर वन बनने पर कोहली को आईसीसी गदा दी गई।

वनडे सीरीज़ में फतह

टेस्ट सीरीज़ में न्यूजीलैंड को 3-0 से हराने के बाद टीम इंडिया के हौंसले बुंलद थे। कप्तान धोनी की अगुआई में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को पांच मैचों की वनडे सीरीज़ में 3-2 से मात दी. दी। पूरी सीरीज़ में शानदार प्रदर्शन के कारण अमित मिश्रा को मैन ऑफ द सीरीज़ का खिताब दिया गया। वहीं विराट कोहली ने शानदार 358 रन बनाए।

इंग्लैंड को सिखाया सबक

इंग्लैंड को पांच टेस्ट मैचों की सीरीज़ के लिए भारत का दौरा करना था। टीम इंडिया के लिए ये सीरीज सबसे कठिन होने जा रही थी। इंग्लैंड ऐसी टीम थी जिसने साल 2012 में भारत को भारत में हराया था। इसके साथ ही पिछली तीन टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया इंग्लैंड के खिलाफ जीत हासिल नहीं कर पाई थी। ऐसे में टीम इंडिया के दिमाग में ये बात कहीं कहीं ना थी. कि किस तरह से इंग्लैंड से बदला लिया जाए। हालांकि सीरीज के पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने टीम इंडिया के खिलाफ शानदार खेल दिखाया। एक बारगी तो लगा कि टीम इंडिया फिर से ये मैच नां गंवा दे। लेकिन विराट कोहली ने राजकोट टेस्ट मैच को जैसे तैसे ड्रा करा कर सीरीज में इंग्लैंड की बढ़त लेने के मंसूबों पर पानी फेर दिया। लेकिन सीरीज के बाकी चार टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने अपने दमदार खेल के दम पर इंग्लैंड को चारों खाने चित्त कर दिया। टीम इंडिया ने इतिहास रचते हुए इंग्लैंड को पहली बार किसी सीरीज में चार टेस्ट हराए। टीम इंडिया ने पांच मैचों की टेस्ट सीरीज 4-0 से अपने नाम की। विराट कोहली ने इस सीरीज में शानादार प्रदर्शन किया। कोहली ने एक मोर्चे से अगुआई करते हुए ना सिर्फ अपनी कप्तानी से बल्कि बल्ले से भी कमाल का प्रदर्शन किया। कोहली ने सीरीज में 655 रन बनाए। और इस कारण वो सीरीज के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए।

नायर बने सितारा

चेन्नई में भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए पांचवे टेस्ट मैच में टीम इंडिया की जीत से ज्यादा युवा बल्लेबाज करुण नायर का तिहरा शतक यादों में रहा। करुण नायर ने सिर्फ अपने तीसरे टेस्ट मैच में ही तिहरा शतक जड़कर इतिहास रच दिया। सहवाग के बाद वो भारते के दूसरे बने जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में तिहरा शतक बनाया। नायर सबसे कम पारियों में तिहरा शतक जड़ने वाले भी पहले बल्लेबाज बने। सिर्फ यहीं नहीं नायर टेस्ट क्रिकेट इतिहास के केवल तीसरे बल्लेबाज बने जिन्होंने अपने पहले ही शतक को तिहरे शतक में बदला था। नायर के तिहरे शतक की बदौलत टीम इंडिया ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे बड़ा स्कोर बनाया।
रवि कुमार छवि

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz