लेखक परिचय

शिवेन्दु राय

शिवेन्दु राय

 मूलत: जमुआँव, जिला – सिवान (बिहार) के रहनेवाले। जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय से मीडिया विषय में परास्नातक की शिक्षा प्राप्‍त की | वर्तमान में महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यलय में पीएचडी शोधार्थी (संचार एवं मीडिया) है | इसके साथ ही देश के तमाम प्रतिष्ठित एवं राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में सम्पादकीय पृष्ठों के लिए समसामयिक एवं वैचारिक लेखन | राष्ट्रवादी रुझान की स्वतंत्र पत्रकारिता में सक्रिय एवं विभिन्न विषयों पर नया मीडिया पर नियमित लेखन।

Posted On by &filed under व्यंग्य, साहित्‍य.


gossipलेखक-शिवेन्दु राय
कॉमरेड, डेढ़ साल से देश की तरह मेरे गाँव में भी बड़ी चकचक मची हुई है, शोर हुआ है और लोग यहां-वहां गाँव के लिए तथाकथित सार्थक बहस करते पाए गए हैं | जब से मोदी प्रधानमंत्री बने हैं मेरे गाँव के सभी गेटकीपर वैज्ञानिक विधि से बातचीत करने लगे हैं | परन्तु इस घटना का एक अच्छा असर यह हुआ है कि देश की तरह मेरे गाँव के लोगों को भी काम मिल गया है | जो फालतू बैठे थे, वे शोर करने लगे है ,संपादक के नाम पत्र भी लिखने लगे है | नहर की पुलिया पर बैठ के मूडीज जैसी संस्थाओं की समीक्षा करने लगे हैं | आज तक जिनका अवैध संबंध भी नहीं था राजनीति से वो तकनिकी पहलुओं पर बतियाने लगे हैं | भाई अपने देश में परम्परा रही है बतियाने की, ज्वलंत प्रश्न है मोदी सरकार, शहर के लोग ही समीक्षा कर सकते है क्या? गाँव का भी तो हक़ बनता है ?
राजेन्द्र जी का लड़का जहाज में सफ़र कर रहा है चाचा ! अरे भाई क्यूँ न करे पीएचडी कर रहा है सरकारी वजीफा जो मिल रहा है | मेरा भी तो लड़का कर रहा है उसको तो नहीं मिलता जहाज लायक वजीफा | साला, जब देखो मेरे से ही मांगता रहता है पापा ये, पापा वो | भाई तुम पीएचडी करा रहे हो अपने लौंडे को कोई साधारण बात नहीं है शोध कार्य , शोध कार्य आसान नहीं होता है बहुत घूमना पड़ता है ,ट्रेन से लेकर जहाज तक ,रेलवे प्लेटफार्म पर सोना भी पड़ता है ,फ़िल्में भी देखनी होती है | ऑब्जरवेशन के लिए पता नहीं और क्या-क्या करना होता है | अगर तुमको और ज्यादा जानना है तो लखनऊ वाले विकसवा से पूछ लेना | यार देश में क्या-क्या हो रहा है और तुम पीएचडी-फियेचडी के चक्कर में टाइम ख़राब कर रहे हो |
एक बात सुने हो कि नहीं ? नितिशवा ने शराब बंद कर दिया | सुने है भाई, बिपत की घड़ी है हम लोगों के लिए | मनोहर भाई हम लोगों को कौन रोक सकता है पीने से ,किस सरकार में दम है क्या ? आप चिंता क्यूँ करते हैं ,जमुआँव गाँव को पाटकर रख देंगे नूरी, लैला से | ठीक है भाई तुमसे इस गाँव को बहुते उम्मीद है |
लाल बाबु भाई कहाँ फंस गए हम लोग शराब के चक्कर में देश में और भी तो मुददे हैं | साला देश का प्रधानमंत्री हमेसा विदेशे में रहता है जब देखो , देश का विकास कैसे होगा ? इस दिशा में हम लोगों को सोचने की जरुरत है |आप लोग नाराज़ नहीं होंगे तो मैं भी एक बात बोलू ? बोलो भाई क्यूँ कोई नाराज होगा | क्यूँ ना हम वर्कशॉप लगा कर देश की चिंता करे | बबन तिवारी नाच पार्टी के सभी कलाकार बेकार बैठे हैं ,उनको भी बुला लेते हैं ,’सांस्कृतिक संध्या के साथ देश के लिए चिन्तन’ विषय रखते हैं | कैसा लगा आप लोगों को ये आईडिया ? बहुत बढ़िया गुलाब तुम तो छा जाने वाली बात बोले हो | पंडित जी आप नूरी लैला का जुगाड़ कर दीजियेगा | ठीक है ,कर दूंगा !
लाल बाबु आप ईमानदार किसको मानते हैं नितीश या मोदी को ? भाई मैं तो नितीश को ही मानता हूँ क्यूँ कि वो काला धन छुपाने विदेश तो नहीं जाता है | मोदी इतना विदेश क्यूँ जा रहे हैं इसके पीछे यही कारण है काला धन छुपाना | रहने दीजिये आप मोदी विरोधी है कुछ भी बकवास करते रहते हैं | मोदी विरोधी हूँ मैं तो आप राम मंदिर क्यूँ नहीं बनवा देते हैं | बनेगा मंदिर इंतजार कीजिये | आपके दादा स्वर्गीय हो गए मंदिर के इंतजार में अब आप बचे है | दादा का नाम न लीजिये बेकार हो जायेंगे आप, निपटा दूंगा आपको | देखियें आप कितना असहिष्णुता फैला रहे हैं | मोदी का विरोध किया तो हिंसा पर उतर आए | भाई आपको तो संसद में खड्गे जी ने देश का माना ही नहीं है,हम लोग सही मायने में देश के वासी है | खड्गे जी ने कल ही प्रमाण पत्र दिया है | लाल बाबु जी तो क्या हम अभी तक हवा में रह रहे हैं ? लगता है कल आपने राजनाथ जी को नहीं सुना, सही बात आप लोग सुनते कहाँ है | बस आलोचना करवा लो आपसे |
शर्मा जी आप देख लीजियेगा ,उत्तर परदेश में चुनाव में मोदी को अपनी औकात पता चल जायेगा,राम मंदिर अगर नहीं बना तो 20 सीट भी मिलना मुश्किल हो जायेगा,दाल सब गुजरात भेज दिए है | दाल महंगा हुआ है इसके पीछे मोदी का हाथ है | आज मेरी गाय नहीं खा रही है जानते है क्यूँ ? साला चोकर गुजरात का बना हुआ है | उसमें खून मिला है, जानवर तो सब समझ जाते हैं |
आप दोनों लोग मेन मुद्दे से भटका रहे हैं देश को | आज भारत मैंच जीता है ,कोहली बहुत बढ़िया कप्तान बन गया हैं | अभी तक मैच हार रहे थे इसके पीछे कारण धोनी था, क्यूँ संतोष जी क्या कहते हैं आप ? मैं क्या कहूँ सचिन होता तो जीत का मजा ही अलग होता | वो भगवान है | आप लोगों को पता है अभी तक मैंच हार रहे थे मोदी के कारण, खेलने ही नहीं देते है खिलाडिओं को , सबको मेंटली डिस्टर्ब कर दिया है मोदी ने |
भाई अब भैंस दुहने का समय हो गया है मैं जा रहा हूँ | चाचा मैं भी चलता हूँ ,अब कल चर्चा नियत समय पर करेंगे |

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz