लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under विधि-कानून.


प्रतिभा सक्सेना 

downloadअनायास ही मन में प्रश्न उठता है – न्यायालय किसलिये स्थापित किये गये हैं ? लंबे समय के वाद-विवादों,गवाहियों,प्रमाणों और साक्षियों के बाद जो निर्णय लिये जाते हैं इसीलिये न कि दोषी के दंड का औचित्य सिद्ध हो , जन-मन में उचित-अनुचित का बोध जागे जिससे कि वह अपराध से विरत रहें. , उनके विवरण और नतीजे जन-जन के लिए उदाहरण बने रहे. न्याय की भाषा अगर अनजानी हो तो कैसे किसी का समाधान करेगी!

न्याय का आधार और उसकी कार्य-विधि ,विवादों के सारे दाँव-पेंच और नतीजे क्या केवल न्यायाधीशों वकीलों, और गिनती के अंग्रेज़ी-दाँ अति-समर्थ लोगों के जानने की चीज हैं.और इसमें पूरी तौर से जो लोग इन्वाल्व्ड और प्रभावित उसे समझ ही न सकें . यह लोक-तंत्र की भावना के विपरीत है , अन्याय है .

न्यायालय की कार्यवाहियों तक कुछ गिने-चुने समर्थ लोगों की पहुँच में होने से कुछ नहीं सधेगा.जनता के और विशेष रूप से, अति साधारण या कठिन जीवन जीनेवाले जिन्हें, पग-पग पर मनमाने सुख और सुविधाओं का लोभ विचलित कर सकता है, जाने-समझे तो इसका असली उपयोग है.

नागरिकों की न्याय में भागीदारी हो तो और भी अच्छा ! अमेरिका में नागरिकों की एक आवश्यक ड्यूटी होती है- मुकद्दमों के निस्तारण के लिये उन्हें उनके क्रमानुसार जूरी-मंडल में आमंत्रित किया जाता है. वे वादों के निस्तारण में अपने मत देते हैं. नियम-क़ानून समझ कर उनके क्रियान्वन में सबका सहयोग लेना जन-भाषा के बिना संभव ही नहीं हो सकता. पर भारतीय व्यवस्था में यह क्या सोचा भी जा सकता है?

न्याय कोई कारोबार नहीं है जिसके ट्रेड-सीक्रेट पता चलने से और जनता उसे हथियाने और अरक्षित हो जाने का डर हो . जन के न्याय-विचार को यदि सजग रखना है तो न्यायालयों की कार्य-प्रणाली जन-भाषा में हो यह आवश्यक है. तभी आम लोग उसे जानने-समझने में रुचि ले कर अंगीकार कर सकेंगे.

Leave a Reply

2 Comments on "न्याय की भाषा अगर अनजानी हो तो कैसे किसी का समाधान करेगी"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest

सटीक प्रश्न उठाया है

डॉ. मधुसूदन
Guest

“चरम-मौलिक” बिंदु उठाया है, लेखिका ने।
==>यदि प्रादेशिक भाषाओं में न्यायालय की कार्यवाहियाँ होगी, तो आपही आप न्याय पारदर्शक होगा, क्यों कि सरलता से, सभी के समझमें आएगा।==> इस के कारण, न्यायिक बुद्धि, सार्वजनीन होगी।==> इस सार्वजनीन समझ के कारण, अपराध हुए तो भी न्यूनमात्र होंगे। ==>फलतः न्याय अधिक परिणामकारी होगा।और न्यायालय का काम अधिक सफल होगा।
न्यायालयों को और क्या चाहिए?
अत्यौचित विषय उठाने के लिए, लेखिका को धन्यवाद।

wpDiscuz