लेखक परिचय

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

लेखन विगत दो दशकों से अधिक समय से कहानी,कवितायें व्यंग्य ,लघु कथाएं लेख, बुंदेली लोकगीत,बुंदेली लघु कथाए,बुंदेली गज़लों का लेखन प्रकाशन लोकमत समाचार नागपुर में तीन वर्षों तक व्यंग्य स्तंभ तीर तुक्का, रंग बेरंग में प्रकाशन,दैनिक भास्कर ,नवभारत,अमृत संदेश, जबलपुर एक्सप्रेस,पंजाब केसरी,एवं देश के लगभग सभी हिंदी समाचार पत्रों में व्यंग्योँ का प्रकाशन, कविताएं बालगीतों क्षणिकांओं का भी प्रकाशन हुआ|पत्रिकाओं हम सब साथ साथ दिल्ली,शुभ तारिका अंबाला,न्यामती फरीदाबाद ,कादंबिनी दिल्ली बाईसा उज्जैन मसी कागद इत्यादि में कई रचनाएं प्रकाशित|

Posted On by &filed under बच्चों का पन्ना.


बहुत दिनों बाद इंदौर आना हुआ तो पुराने साथियों की याद आ गई|जय प्रकाश गुप्ता और मैं कई साला एक ही विभाग में काम करते रहे|नदी के उस पार ‘क्षिप्रा’ में मैं पदस्थ था और वह इस पार ‘बरलई’ में|वहीं रहते हुये उसने इंदौर में एक प्लाट खरीदकर मकान बनवा लिया था| एक बार में उसका मकान बनता हुआ देख भी आया था|फिर सरकारी नौकरी की मजबूरी कि इधर उधर स्थानान्तरण होते रहे | मुलाकात का सिलसिला बंद हो गया|आज लगभग पच्चीस साल बाद जबकि मुझे सेवानिवृत हुये दस साल हो चुके हैं मैं गुप्ता के यहां जाने के मन्सूबे लेकर एक आटो रिक्सा लेकर घर से निकल पड़ा|सोचता जा रहा था कि जैसे ही घंटी बजाने पर गुप्ता दरवाजा खोलेगा मुझे देखकर भौंचक्का रह जायेगा|शायद न पहचाने|मेरी सूरत की तरफ देखता रहेगा|मैं पूँछूगा,’पहचाना’

‘चेहरा कुछ देखा सा तो लग रहा है|’वह कहेगा|

‘पी. डी. श्रीवास्तव क्षिप्रा’

‘अरे तुम कहाँ थे यार अब तक’,वह मुझसे लिपट जायेगा|हाथ पकड़कर भीतर ले जायेगा|मैं भी अंदर से गदगद होकर उसके साथ खिचता चला जाऊंगा|’अरे देखो कौन आया है वह भीतर अपनी पत्नी को आवाज़ लगायेगा|’

‘बाबूजी शेखर कालोनी आ गई है बताईये कहां उतरना है|’आटो वाले ने टोका तो मेरी तंद्रा भंग हुई,बस एक मिनिट, और मैंनें पुरानी स्मृति के आधार पर वह घर ढूंढ निकाला|’बस यही घर है रोक दो|’निश्चित तौर पर मैं सही जगह पहुंचा था|

मैंने दरवाजे पर पहुंचकर इत्मीनान से घंटी बजाई|दरवाजा एक विचित्र से व्यक्ति ने खोला|

‘किससे मिलना है,क्यों वक्त बेवक्त घंटी बजाते रहते हो सूरत से तो समझदार लगते हो क्या अक्ल बाज़ार में बेच आये हो..

यहां मिस्टर गुप्ता रहते…’मैंने कहना चाहा|

..यहाँ कोई गुप्ता सुप्ता नहीं रहता… भागो यहां से…’

‘अरे भाई…..मैंने कुछ फिर कुछ बोलने की कोशिश की|

‘जाते हो कि नहीं……’

और उसने मुझे कुछ बोलने का मौका दिये बिना ही दरवाजा बंद कर लिया|

दरवाजे के बाजू में दीवार पर लिखा था “यहां कुत्ते रहते हैं .कुत्तों से सावधान”

अब मुझॆ दीवार पर लिखी इबारत बिल्कुल सही मालूम पड़ रही थी|यह समझ में भी आ गया था कि यहां मिस्टर गुप्ता नहीं कुत्ते रहते हैं|

Leave a Reply

2 Comments on "यहां कुत्ते रहते हैं"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
प्रभुदयाल श्रीवास्तव
Guest

आपकी जय स्वीकार
प्रभुदयाल

बी एन गोयल
Guest

प्रभु दयाल श्रीवास्तव जी की जय हो —–

wpDiscuz