लेखक परिचय

संजय द्विवेदी

संजय द्विवेदी

लेखक माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विवि, भोपाल में जनसंचार विभाग के अध्यक्ष हैं। संपर्कः अध्यक्ष, जनसंचार विभाग, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, प्रेस काम्पलेक्स, एमपी नगर, भोपाल (मप्र) मोबाइलः 098935-98888

Posted On by &filed under विविधा.


राज्योत्सव के प्रसंग पर विशेष

संजय द्विवेदी

अभिषेक बच्चन की पिछले दिनों आई फिल्म दिल्ली-6 के गाने-‘सास गारी देवे, देवर जी समझा लेवे, ससुराल गेंदा फूल…’. में रायपुर का भी जिक्र आता है। इस गाने के बोल छत्तीसगढ़ी भाषा में हैं, जिसे पहली बार रायपुर की ही प्रसिद्ध जोशी बहनों ने गाया है। हालांकि अब जोशी बहनों को दुख है कि इस गीत के लिए फिल्मकार ने छत्तीसगढ़ को क्रेडिट नहीं दिया है। वे दर्द से कहती हैं ‘हमें रूपया नहीं चाहिए बस इतना तो हो कि हमारे शहर या राज्य छत्तीसगढ़ का उल्लेख हो जाए।‘ जोशी बहनें ठीक ही कह रहीं हैं, लेकिन रायपुर अब किसी सिनेमा के गाने में नाम आने से कहीं अधिक बड़ा है। यह भारतीय गणराज्य के तीन सबसे नए राज्यों में एक की राजधानी भी बन चुका है। जाहिर है, उसकी अपनी साख कायम हो चुकी है। राजधानी ने उसे मंत्रालय का शक्ति केंद्र दिया है, जहां छत्तीसगढ़ के दो करोड़, दस लाख लोगों के भाग्य का फैसला करने वाली सरकार बैठती है। अब इस शहर को नई राजधानी का भी इंतजार है, जिससे यह शहर अचानक बढ़ आयी भीड़ का इलाज पा सके। कोई शहर जब राजधानी बनता है तो वह किस तरह खुद को रूपांतरित करता है यह देखना बहुत रोचक है।

राजधानी बनता एक शहरः रायपुर शहर का छत्तीसगढ़ प्रदेश की राजधानी बन जाना एक ऐसी घटना है जिसने एक बड़े गांव को महानगर बनने का रास्ता दे दिया है। तेलीबांधा से आगे महासमुंद रोड की ओर बढ़िए तो आपको माल नज़र आएगा जहां से रायपुर पहली बार मॉल संस्कृति से परिचित होता दिखता है। आईनाक्स में सिनेमा देखने का एक सुख है जो रायपुर के सिनेमाघरों से अलग है। अब इसी रोड पर एक और मॉल बन गया है तो पंडरी में भी एक और मॉल की धूम है। एडलैब्स का सिनेमाघर भी समता कालोनी में आ गया है। लालगंगा शापिंग मॉल से लेकर बिग बाजार, सालासर ही नहीं हर तरह के ब्रांड के शोरूम यहां की फिजां में रंग भर रहे हैं। लगभग हर बैंक ने अपनी शाखाएं राजधानी बनने के बाद यहां खोली हैं जिनमें तमाम ऐसे भी बैंक हैं जो सामान्य शहरों में नजर नहीं आते। रायपुर वैसे भी एक व्यापारिक शहर रहा है। पड़ोसी राज्यों मप्र, उड़ीसा, महाराष्ट्र से लगे जिले, इसके व्यापारिक वृत को विस्तार देते नज़र आते हैं। भिलाई के पास होने के नाते रायपुर ने औद्योगिक क्षेत्र में नई उड़ान ली है। बिलासपुर से आते समय आप देख सकते हैं किस तरह सड़क के दोनों किनारों पर धुंआ उगलती चिमनियां दिखती हैं। ये तमाम स्पंज आयरन और अन्यान्य उद्योगों के चलते आसमान तो काला हो ही रही है, किसानों की भी शिकायत है कि यह प्रदूषण अब उनकी धान की फसल को काला कर रहा है। रायपुर शहर वैसे भी धूल की समस्या से ग्रस्त है और तीन साल पहले उसे सर्वाधिक प्रदूषित शहर का दर्जा भी मिल चुका है।

राजपथ पर चलने के सुखः जीई रोड का मुख्यमार्ग अब राजपथ में बदल गया है जिसे सरकार ने गौरव पथ का नाम दिया है। चौड़ी होती सड़कें, सड़कों के किनारे आदिवासी शिल्प और संस्कृति से जुड़ते दिखने की सरकारी कोशिशें साफ नजर आती हैं। कलेक्ट्रेट से रेलवे स्टेशन जाने वाली सड़क भी अब काफी चौड़ी सी लगती है। इसी सड़क पर वह बहुचर्चित जेल भी है जहां मानवाधिकार कार्यकर्ता डा विनायक सेन लंबे समय तक कैद रहे । उन पर कथित तौर पर नक्सलियों से रिश्ते रखने का आरोप है। यहां कलेक्टर रहे आरपी मंडल ने जब शहर का कायाकल्प करना शुरू किया तो पहले कलेक्ट्रेट की बुढ़िया बिल्डिंग को चमकाया और उससे लगे पार्क को भी। यह ऐसा कि बाहर से तो कलेक्ट्रेट का परिसर और प्रांगण मंत्रालय से बेहतर नजर आता है। तोड़फोड़ और विस्तार का क्रम लगातार जारी है। मोतीबाग जहां प्रेस क्लब है के आसपास की दुकानें अब नजर नहीं आतीं। सब कुछ तोड़ू दस्ते की भेंट चढ़ चुका है। शहर के मुख्य चौराहे अब भी भीड़ की भांय-भांय से आक्रांत हैं। ट्रैफिक की व्यवस्था आम हिदुस्तानी शहरों की तरह ही बेहाल है। ऐसे में एक शहर में कई शहरों के सांस लेने जैसा ही प्रतीत होता है।

जिन गलियों में धड़कता है रायपुरः रायपुर दरअसल रिक्शों का भी शहर है, यहां उड़ीसा से काम की तलाश आए ज्यादतर लोग इसी पर अपनी जिंदगी बसर करते हैं। अब रिक्शा तो नहीं लेकिन अन्य छोटे-मोटे कामकाज की तलाश में बिहार, उत्तरप्रदेश के लोग भी रायपुर में पांव पसारने लगे हैं, जिन्हें गली मोहल्लों में सब्जी-भाजी बेचते पहचाना जा सकता है। कहने को तो यहां दो साल से लम्बी काया वाली सिटी बस भी चलने लगी है किंतु उसे चलते हुए कहना ठीक नहीं, अपितु रेंगती है। रायपुर की सड़कों पर प्रायः काम के सुबह-शाम स्पीड आठ किलोमीटर प्रति घंटा भी हो जाती है। रामसागरपारा, सदर बाजार, पुरानी बस्ती, ब्राम्हणपारा, मौदहापारा जैसी बस्तियां दरअसल पुराने रायपुर की घड़कनों की असल गवाह हैं। इनकी गलियों में ही असल रायपुर धड़कता है। रायपुर को महसूस करने के लिए दरअसल आपको इन्हीं तंग गलियों से गुजरना होगा। राज्य के पारंपरिक व्यंजन, तीज-त्योहार भी इन्हीं गलियों में दिखते हैं। अब राजभाषा का दर्जा पा चुकी छत्तीसगढ़ी की महक और खनक भी रायपुर के पुराने मुहल्लों में सुनाई देती है। छ्त्तीसगढ़ी भाषा का पहला अखबार निकालने वाले जागेश्वर प्रसाद राहत महसूस कर सकते हैं। उनका अखबार बंद भले हो गया पर भाषा पर सरकारी मोहर लग चुकी है। जागेश्वर की अपनी एक पार्टी भी जिसका नाम है छत्तीसगढ विकास पार्टी है।

इतिहास को समेटे एक शहरः रायपुर के बूढ़ापारा में मप्र के प्रथम मुख्यमंत्री पंडित रविशंकर शुक्ल का आवास आज भी एक इतिहास को समेटे हुए दिखता है। इस परिवार से निकले पंडित शुक्ल के बेटों पंडित श्यामाचरण शुक्ल और विद्याचरण शुक्ल के उल्लेख के बिना रायपुर ही नहीं संयुक्त मध्यप्रदेश का इतिहास भी अधूरा रह जाएगा। अब इस परिवार की तीसरी पीढ़ी के प्रतिनिधि के रूप में अमितेश शुक्ल राजिम से विधायक के रूप में दुबारा चुने गए हैं। वे छत्तीसगढ़ की पहली सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। रायपुर की राजनीतिक चेतना को यहां के दिग्गज नेताओं ने लगातार प्रखर बनाया है। शुक्ल परिवार के अलावा संत पवन दीवान का एक चेहरा ऐसा है जिसने लगातार छत्तीसगढ़ और उसकी अस्मिता से जुड़े सवालों को उठाया है। हालांकि बार- बार पार्टियां बदलकर दीवान अपनी राजनैतिक आभा तो खो चुके हैं किंतु एक संत के नाते उनके सादगीपूर्ण जीवन से लोगों में आज भी उनके प्रति आस्था शेष है।

भाजपा का रायपुरः आज के रायपुर में भाजपा की एक खास जगह बन चुकी है जिसकी खास वजह रमेश बैस, बृजमोहन अग्रवाल जैसे नई पीढ़ी के नेताओं को माना जा सकता है, जिन्होंने अपने दल के लिए निरंतर काम करते हुए यहां के समाज जीवन में एक खास जगह बना ली है। रायपुर से सांसद रमेश बैस एक ऐसे नेता हैं जिन्होंने विद्याचरण और श्यामाचरण शुक्ल दोनों को चुनाव मैदान में पराजित किया। रायपुर से दो बार सांसद रहे केयूर भूषण भी आज की राजनीति के एक उदाहरण हो सकते हैं जो आज भी अपनी आयु के सात दशक पूरे करने के बावजूद साइकिल से ही चलते हैं। रायपुर जैसे व्यापारिक शहर का दो बार सांसद रहे इस गांधीवादी नायक की सादगी प्रेरणा का विषय है। आज जबकि रायपुर राजधानी बन चुका है सो राजपुत्रों से इसका दैनिक वास्ता है बावजूद इसके कि चंद्रशेखर साहू, सत्यनारायण शर्मा, धनेंद्र साहू राजेश मूणत, राजकमल सिंहानिया जैसे नेता रायपुर ही नहीं पूरे प्रदेश में अपना प्रभाव रखते हैं। मूणत और साहू तो इस समय रमन मंत्रिमंडल के प्रभावी मंत्री भी हैं।

साहित्य में भी खास जगहः साहित्य के क्षेत्र में रायपुर आज भी खास लेखकों की मौजूदगी से गौरवांवित है। ‘नौकर की कमीज’ जैसे महत्वपूर्ण उपन्यास के लेखक विनोद कुमार शुक्ल इसी शहर के शैलेन्द्र नगर मुहल्ले में रहते हुए आज भी रचनाशील हैं। गजानन माधव मुक्तिबोध की यादों के साथ उनके बेटे इसी शहर में रहते हैं। परितोष चक्रवर्ती, जया जादवानी, गिरीश पंकज, जयप्रकाश मानस, आनंद हर्षुल, कनक तिवारी, पुष्पा तिवारी, डा चित्तरंजन कर जैसे तमाम लेखक आज भी यहां रचनाओं का सृजन कर हैं। जयप्रकाश मानस का अतिरिक्त उल्लेख यहां इसलिए प्रासंगिक है क्योंकि उन्होंने एक नई विधा में सार्थक काम करके अपनी जगह बनाई है। वे सृजनगाथा डाट काम नाम से एक मासिक साहित्यिक वेबसाइट चला रहे हैं और राज्य में वेब पत्रकारिता की शुरुआत भी इसी से मानी जाती है। इसके अलावा उन्होंने राज्य के कई लेखकों की कृतियों को आनलाइन करने का भी महत्वपूर्ण काम किया। सुधीर शर्मा ने वैभव प्रकाशन नाम से राज्य के रचनाकारों की लगभग चार सौ किताबें प्रकाशित करने का काम किया है जिससे स्थानीय रचनाकार सामने आ रहे हैं। यहां ऐसे लेखक भी हैं जो क्षेत्रीय स्तर पर भी सक्रिय हैं और जो कल के साहित्य जगत में एक बड़ा हस्तक्षेप कर सकते हैं। रायपुर राजधानी होने के पहले ही इस समूचे छ्तीसगढ़ क्षेत्र का एक केंद्र रहा है सो यहां साहित्य, संस्कृति, पत्रकारिता और कला के क्षेत्र में सार्थक हस्तक्षेप होते रहे हैं। यह शहर राजनारायण मिश्र, विष्णु सिंन्हा, रमेश नैयर, बसंतकुमार तिवारी, गोविंदलाल वोरा, बबन प्रसाद मिश्र, ललित सुरजन, सुनील कुमार जैसे पत्रकारों की उपस्थिति से भी जनमुद्दों पर संवाद की गुंजाइश तलाश ही लेता है।

हाशिए पर संस्कृतिः बालीबुड की तर्ज पर छालीवुड का सिनेमा भी अपनी जगह बनाने की जुगत में है। हालांकि भोजपुरी फिल्मों जैसा इस सिनेमा का बाजार तो नहीं दिखता किंतु एकमात्र सफल फिल्म ‘मोर छइयां-भुइयां’ ने एक उम्मीद तो जगाई ही थी। हां, एलबम का कारोबार जरूर चरम पर है, जिससे छत्तीसगढ़ की संस्कृति तो नहीं दिखती पर वे बालीवुड की भोंड़ी नकल जरूर साबित हो रहे हैं। सांस्कृतिक क्षेत्र में मुक्तिबोध नाट्य समारोह ने अपनी पहचान बनाई है। बावजूद इसके, रायपुर आज भी छ्त्तीसगढ़ की साझी सांस्कृतिक या सामाजिक संस्कृति का प्रतिनिधित्व नहीं करता है। इसे इस रूप से देखा जा सकता है कि राज्योत्सव के अलावा कोई बड़ा सांस्कृतिक हस्तक्षेप पूरे साल भर सुनाई नहीं पड़ता, उसमें भी मेले का माहौल ज्यादा रहता है, जबकि रायगढ़ के चक्रधर समारोह ने अपनी एक राष्ट्रीय पहचान कायम कर ली है। रायगढ़ घराने की सांस्कृतिक भावभूमि और राजनांदगांव जिले में पड़ने वाले खैरागढ़ में संगीत विश्वविद्यालय की मौजूदगी के बावजूद राजधानी में उसके प्रभाव नहीं दिखते। राज्य के तमाम कलाकार जिनकी देश-दुनिया में एक बड़ी जगह है, राजपुत्रों के दिलों में जगह नहीं बना पाते। कई पद्मपुस्कार प्राप्त कलाकार आज भी समाज के ध्यानार्षण की प्रतीक्षा में हैं। छत्तीसगढ़ के मायने सिर्फ रायपुर नहीं, उसे बृहत्तर परिपेक्ष्य में देखना होगा, क्योंकि राज्य के तमाम शिल्पकार, कलाकार, संस्कृति कर्मी रायपुर में ही नहीं रहते। इस मामले में छत्तीसगढ़ की सरकार मप्र के अनुभवों से प्रेरणा ले सकती है और छ्त्तीसगढ़ में अपने कलाकारों के मान- सम्मान की नई परंपराएं गढ़ सकती है। रायपुर के ही शेखर सेन ने अपनी विवेकानंद और कबीर की नाटिकाओं के माध्यम से एक खास जगह बना ली है तो भारती बंधु कबीर गायन में एक नामवर हस्ती हैं। ऐसे में राष्ट्रीय फलक पर रायपुर का हस्तक्षेप धीरे-धीरे मुखर, प्रखर और प्रभावी हो रहा है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz