लेखक परिचय

विजय कुमार

विजय कुमार

शिक्षा : एम.ए. राजनीति शास्त्र, मेरठ विश्वविद्यालय जीवन यात्रा : जन्म 1956, संघ प्रवेश 1965, आपातकाल में चार माह मेरठ कारावास में, 1980 से संघ का प्रचारक। 2000-09 तक सहायक सम्पादक, राष्ट्रधर्म (मासिक)। सम्प्रति : विश्व हिन्दू परिषद में प्रकाशन विभाग से सम्बद्ध एवं स्वतन्त्र लेखन पता : संकटमोचन आश्रम, रामकृष्णपुरम्, सेक्टर - 6, नई दिल्ली - 110022

Posted On by &filed under महिला-जगत.


विजय कुमार 

download316 दिसम्बर को हम भारत भर में ‘विजय दिवस’ के रूप में मनाते हैं। 1971 में इसी दिन ढाका में हमारे वीर सैनिकों ने पाकिस्तान के 93,000 सैनिकों को हथियार डालने पर मजबूर कर दिया था।

पर राष्ट्रीय गौरव का यह दिन वर्ष 2012 में ‘राष्ट्रीय कलंक’ का दिन बन गया। देश की राजधानी दिल्ली में, पुलिस की नाक के नीचे, एक 23 वर्षीय युवती के साथ चलती बस में जो दुष्कर्म हुआ, वह इस वर्ष की क्रूरतम घटना है। हर वर्ष 16 दिसम्बर को हमें उस अनाम युवती की याद आएगी, जो अब इस संसार में नहीं रही।

इस कांड ने देश की सुप्त आत्मा को झकझोर दिया है। पूरे देश में हुए स्वयंस्फूर्त प्रदर्शनों से यह प्रकट होता है। दिल्ली में जंतर-मंतर और इंडिया गेट से लेकर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति आवास तक इसके गवाह रहे। भारत का शायद ही कोई नगर या गांव हो, जहां इस कांड के विरोध में प्रदर्शन न हुए हों या उस युवती की कुशलता के लिए प्रार्थना न की गयी हो। हर वर्ग के लोग इसके लिए सड़कों पर उतरे। उन सबकी एक ही मांग थी कि इन दुष्कर्मियों को तुरंत फांसी दी जाए, जिससे फिर कोई ऐसा गंदा काम न कर सके।

दिल्ली की प्रान्तीय और केन्द्रीय सरकार ने आक्रोशित युवाओं को सड़कों से हटाने और उनका ध्यान बंटाने के लिए उस युवती को सफदरजंग अस्पताल के चिकित्सकों की इच्छा के विरुद्ध रात के अंधेरे में चुपचाप सिंगापुर भेज दिया। उसकी मृत देह को भी अंधेरे में ही दिल्ली लाये तथा लोगों को जानकारी दिये बिना, भारी पुलिस की सुरक्षा में उसका दाह संस्कार कर दिया।

युवती की मृत्यु के बाद सड़क पर हो रहे प्रदर्शन धीरे-धीरे शांत हो गये; पर इन प्रदर्शनों में एक बात यह भी देखने में आयी कि इसका नेतृत्व युवाओं के हाथों में था। उन्होंने किसी नेता, अभिनेता, बाबा या तथाकथित समाजसेवी, एन.जी.ओ. आदि को महत्व नहीं दिया। इस कारण सभी दलों को अपने अलग कार्यक्रम करने पड़े।

भाजपा ने दिल्ली में श्रद्धांजलि सभा की, तो मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने पुलिस के संरक्षण में शांति मार्च निकाला, जिसमें कांग्रेस की महिला कार्यकर्ताओं के साथ-साथ स्त्री शक्ति केन्द्र तथा आंगनबाड़ी की महिलाओं को सरकारी छुट्टी दिलाकर शामिल किया गया। इस राजनीतिक पाखंड को देखकर ही युवाओं में राजनीतिक व्यवस्था के प्रति घृणा उत्पन्न हो रही है।

इस कांड पर टिप्पणी कर अनेक बयानवीरों ने अपनी जुबानी खुजली मिटाई और निन्दा के पात्र बने। इनमें आंध्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बोत्सा नारायण राव, म0प्र0 में कृषि वैज्ञानिक अनिता शुक्ला, राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के पुत्र और कांग्रेस सांसद अभिजीत मुखर्जी, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उन्हीं के दल के एक विधायक चिरंजीत चक्रवर्ती तथा हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता धर्मवीर गोयल आदि प्रमुख हैं।

ऐसे ही विषय पर टिप्पणी कर बंगाल के प्रमुख वामपंथी नेता और पूर्व मंत्री अनीसुर्ररहमान तथा उ0प्र0 कांग्रेस की तत्कालीन अध्यक्ष श्रीमती रीता (बहुगुणा) जोशी भी बदनामी झेल चुकी हैं। यद्यपि जब इनके बयानों की आलोचना हुई, तो इन्होंने इसके आरोप मीडिया पर मढ़ते हुए क्षमा मांग ली; पर इससे स्पष्ट होता है कि शिक्षित और नेता कहलाने वाले लोगों के दिमाग में कितना कूड़ा भरा है।

इस कांड के बाद जन दबाव के कारण समय का चक्र काफी तेजी से घूमा है। जहां एक ओर दुष्कर्मियों पर न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल हो गया है, वहां कई तीव्र गति के न्यायालय भी चालू हो गये हैं। पहले ऐसी घटनाएं गांव या थाने में ही दबा दी जाती थीं; पर अब ये समाचार पत्रों में स्थान पाने लगी हैं।

कुछ वर्ष पूर्व तक जाति, क्षेत्र, धन या अन्य किसी कारण से स्वयं को ऊंचा मानने वाले कुंठित लोग ऐसा करते थे; पर अब तो विद्यालय के छात्र अपनी सहपाठियों के साथ दुष्कर्म कर रहे हैं। इतना ही नहीं, तो वे मोबाइल फोन से इनकी वीडियो बनाकर यू ट्यूब पर प्रसारित कर रहे हैं। मानो दुष्कर्म न हुआ, एक नया मनोरंजन हो गया। दिल्ली कांड के छह लोगों में से भी एक अव्यस्क है।

दुष्कर्म के अपराधियों के दंड पर आजकल समाचार माध्यमों में खूब चर्चा हो रही है। अनेक वकील, राजनेता व समाजशास्त्री अपने विचार व्यक्त कर रहे हैं। अधिकांश लोग फांसी या नपुंसकता के पक्ष में हैं। मृत्युदंड के विरोधियों के अनुसार इससे न्याय मिलने में बहुत देरी होगी। क्योंकि इसके लिए बहुत पक्के साक्ष्यों की आवश्यकता होती है, जो प्रायः ऐसे मामलों में नहीं मिल पाते, अतः दोषी छूट जाएंगे। इतना ही नहीं, तो अपराधी प्रायः दुष्कर्म के बाद पीडि़ता की हत्या कर देंगे, जिससे वह अपनी बात बता ही न सके; लेकिन इस पर तो सब सहमत हैं कि दंड कठोर और शीघ्र हो। अर्थात न्याय होने के साथ होता हुआ दिखाई भी दे।

इस कांड के कारण हो रही प्रतिक्रियाओं का स्वागत करते हुए हमें अन्तर्मुखी होकर इस पर भी विचार करना होगा कि ऐसी घटनाएं क्यों हो रही हैं तथा इन्हें कैसे रोका या कम किया जा सकता है ?

इन घटनाओं का सबसे बड़ा कारण तो दूषित मानसिकता ही है। इसे चाहे कुछ भी नाम दें; पर इससे एक पक्ष अपना प्रभुत्व दूसरे पर स्थापित करना चाहता है। वह दूसरे पक्ष को बताना चाहता है कि मेरी हैसियत सदा तुमसे ऊपर ही है। यद्यपि ऐसी घटनाएं सदा से ही होती रही हैं; पर पिछले कुछ समय से इनकी संख्या तेजी से बढ़ी है।

किसी समय ‘यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते, रमन्ते तत्र देवता’ कहकर नारी को सदा पुरुष से अधिक मान-सम्मान दिया जाता था। गली-मोहल्ले के झगड़े में कई तरह की गाली लोग एक-दूसरे को देते हैं; पर मां-बहिन तक बात पहुंचते ही मारपीट हो जाती है। लेकिन अब पश्चिम के प्रभाव के कारण नारी-पुरुष समानता का भ्रामक दौर चल पड़ा है। अब नारी मां, बहिन या पूज्या नहीं, पुरुष की तरह पैसा कमाने वाली एक वस्तु हो गयी है।

राष्ट्र सेविका समिति की वरिष्ठ कार्यकर्ता प्रमिला ताई मेढ़े ने एक प्रसंग बताया। एक बस अड्डे पर चाय वाले ने एक महिला से पूछा कि माताजी आप क्या लेंगी ? इस पर वह महिला उससे लड़ने लगी कि क्या मैं इतनी बूढ़ी हूं, जो तुम मुझे माताजी कह रहे हो ?

महिला के साथ एक बच्चा भी था। बात बढ़ते देख प्रमिला ताई ने पूछा कि तुम इस बच्चे की क्या हो ? महिला ने उत्तर दिया – मां। प्रमिला ताई ने कहा, ‘‘इसका अर्थ है कि तुम मां तो हो ही। ऐसे में यदि इस चाय वाले ने तुम्हें मां कह दिया, तो क्या हुआ ? पुरुष महिला को मां की तरह देखे, तो यह सम्मान है या अपमान ?’’ इस पर वह महिला चुप होकर बस में बैठ गयी।

अर्थात किसी समय अपनी पत्नी को छोड़कर बाकी सबको मां और बहिन माना जाता था; पर अब मामला उल्टा हो गया है। विचार करें कि क्या इस मानसिकता का भी दुष्कर्म से कुछ सम्बन्ध है ?

एक दूसरे पहलू से देखें तो केवल दुष्कर्म ही क्यों, कई आपराधिक घटनाओं का कारण घर-परिवार में संवाद का अभाव है। इन दिनों भागदौड़ भरे जीवन में सब लोग साथ बैठकर खाना खा सकें, ऐसा कम ही होता है। शहरीकरण और बेरोजगारी ने इस समस्या को और अधिक बढ़ाया है। यद्यपि फेसबुक और ट्विटर के कारण दुनिया भर से संवाद होने लगा है; लेकिन परिवार और वहां से मिलने वाले संस्कार कहीं छूटते जा रहे हैं।

ऐसे में मन बहलाने का साधन फिल्म और दूरदर्शन ही रह गया है। इन पर आने वाले कार्यक्रमों का स्तर कितना गिरा है, यह किसी से छिपा नहीं है। ए और यू श्रेणी की फिल्मों का भेद अब समाप्त हो गया है। नंगापन फिल्म और दूरदर्शन के बाद कम्प्यूटर और मोबाइल फोन में आ गया है। और फिर इसके बाद शराब। इन सबके मिलन से अपराध नहीं तो और क्या होगा ?

संवाद केवल परिवार ही नहीं, तो समाज में भी आवश्यक है। परिवार में सामूहिक भोजन के दौरान यह संवाद होता है। इसी प्रकार मंदिर और विद्यालय आदि में होने वाले कार्यक्रम सामाजिक संवाद को बढ़ाते हैं। इस दृष्टि से कुछ प्रयोग किये जा सकते हैं।

हिन्दू परिवारों में कन्या पूजन, रक्षाबंधन तथा भैया दूज पर्व मनाये जाते हैं। इन्हें घर पर मनाने के बाद यदि सामूहिक रूप से विद्यालय तथा सार्वजनिक स्थानों पर भी मनाएं, तो इससे वातावरण बदल सकता है। कन्या पूजन में मोहल्ले का हर युवक, मोहल्ले की हर कन्या के पैर छूकर उसकी पूजा करे। ऐसे ही रक्षाबंधन एवं भैया दूज में हर कन्या मोहल्ले के हर लड़के को राखी बांधकर टीका करे। जब होली का पर्व विद्यालयों में मनाया जा सकता है, तो रक्षाबंधन और भैया दूज क्यों नहीं मनाये जा सकते ?

इन कार्यक्रमों से से पुरुष वर्ग, विशेषतः युवाओं में नारी समाज के लिए आदर का भाव जाग्रत होगा। विद्यालय या अन्य किसी काम से बाहर जाने वाली लड़की अपने मोहल्ले, बिरादरी या गांव के युवक को देखकर डरने की बजाय स्वयं को सुरक्षित अनुभव करेगी। उस पर यदि कोई संकट आया, तो वह युवक अपनी बहिन के लिए प्राण देने में भी संकोच नहीं करेगा।

जहां तक कानून की बात है, तो वह महत्वपूर्ण है; पर केवल उससे काम नहीं होगा। कानून तो दहेज और कन्या भू्रण हत्या के विरोध में भी हैं, फिर भी ऐसी घटनाएं बढ़ रही हैं। वस्तुतः कठोर कानून और शीघ्र न्याय के साथ ही समाज का वातावरण भी बदलना चाहिए। इसमें घर, परिवार और विद्यालयों के साथ ही सामाजिक और धार्मिक संस्थाओं की भूमिका भी बहुत महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz