लेखक परिचय

मिलन सिन्हा

मिलन सिन्हा

स्वतंत्र लेखन अब तक धर्मयुग, दिनमान, कादम्बिनी, नवनीत, कहानीकार, समग्रता, जीवन साहित्य, अवकाश, हिंदी एक्सप्रेस, राष्ट्रधर्म, सरिता, मुक्त, स्वतंत्र भारत सुमन, अक्षर पर्व, योजना, नवभारत टाइम्स, हिन्दुस्तान, प्रभात खबर, जागरण, आज, प्रदीप, राष्ट्रदूत, नंदन सहित विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में अनेक रचनाएँ प्रकाशित ।

Posted On by &filed under कविता, व्यंग्य.


-मिलन सिन्हा- cricket

उसने पहले ढंग से

जाना गेम का सब ट्रिक्स

फिर मैच को

अच्छे से किया फिक्स

जब शोर हुआ  तब

राजनीति से किया उसे मिक्स

पकड़ा गया

फिर भी शर्म नहीं

किसी बात का

कोई गम नहीं

क्योंकि उसे मालूम है

यहां मैच को

करके मिक्स और फिक्स

कैसे

मारा जाता है सिक्स !

Leave a Reply

1 Comment on "मिक्सिंग और फिक्सिंग"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Kumar Navneet
Guest

Good One !!!!

wpDiscuz