लेखक परिचय

तारकेश कुमार ओझा

तारकेश कुमार ओझा

पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ हिंदी पत्रकारों में तारकेश कुमार ओझा का जन्म 25.09.1968 को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में हुआ था। हालांकि पहले नाना और बाद में पिता की रेलवे की नौकरी के सिलसिले में शुरू से वे पश्चिम बंगाल के खड़गपुर शहर मे स्थायी रूप से बसे रहे। साप्ताहिक संडे मेल समेत अन्य समाचार पत्रों में शौकिया लेखन के बाद 1995 में उन्होंने दैनिक विश्वमित्र से पेशेवर पत्रकारिता की शुरूआत की। कोलकाता से प्रकाशित सांध्य हिंदी दैनिक महानगर तथा जमशदेपुर से प्रकाशित चमकता अाईना व प्रभात खबर को अपनी सेवाएं देने के बाद ओझा पिछले 9 सालों से दैनिक जागरण में उप संपादक के तौर पर कार्य कर रहे हैं।

Posted On by &filed under राजनीति.


-तारकेश कुमार ओझा-
media

जिस माहौल में अपना बचपन बीता वहां की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि मोहल्ले में किसी के यहां ब्याह- शादी या तेरहवीं भोज आदि होने पर सप्ताह भर पहले से मेनू व आयोजन से जुड़ी बातों की चर्चा शुरू हो जाती थी, जो आयोजन के एक सप्ताह बाद तक लगातार जारी रहती। भोजन में क्या खास है, और किस प्रकार की सजावट व गाने-बजाने की व्यवस्था है, इसकी विस्तार से चर्चा होती रहती। चूंकि तब कैटरिंग व्यवसाय का अस्तित्व था नहीं, लिहाजा यह चर्चा जरूर होती कि मेजबान ने व्यंजन तैयार करने के लिए कहां-कहां से हलवाई बुलाए हैं। आयोजन बीतने के बाद भी बतकही होती रहती कि सब्जी क्यों बेस्वाद हुआ और इतनी खट्टी दही तो इससे पहले कभी नहीं खाई। यही नहीं, लड़कियों की शादी के मौके पर इस बात पर भी विस्तार से चर्चा होती कि विदाई के समय परिजनों में कौन-कौन दहाड़े मार कर रोया, और कौन मगरमच्छ के आंसू बहाता रहा। देश के नए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मामले में कुछ एेसा ही हाल अपनी मीडिया का भी है। सरकार बनने से पहले अच्छे दिन आने वाले हैं… का खूब राग अलापा। बहुमत से सरकार बनी, तो कौन किस मंत्रालय में जाएगा, इसे लेकर अटकलबाजी। मंत्रीमंडल गठन के बाद श्रेय लेने की होड़ कि हमने पहले ही कहा था कि अमूक को फलां मंत्री बनाया जाएगा। दूसरे अंदाजी गोली चलाते रहे, लेकिन देखिए हमने बिल्कुल सटीक भविष्यवाणी की थी। इसीलिए हम है नबंर वन। अब सरकार बने एक महीना से अधिक समय हो गया है, तो फिर वहीं अटकलबाजी। मोदी का प्लान शीर्षक से तरह-तरह की खबरें चलाई जा रही है। सूखा पड़ा तो मोदी ये करेंगे, और जम कर बारिश हुई तो ये करेंगे। मीडिया का यह मोदी प्लान केवल मानसून या सूखा तक ही सीमित नहीं है। देश-विदेश से जुड़े तमाम मसलों पर हमेशा कोई न कोई चैनल अपना पिटारा खोल कर बैठ जाता है कि मोदी ने इस समस्या से निपटने के लिए फलां – फलां प्लान तैयार किया है। इन दावों के पीछे आधार चाहे जो हो, लेकिन सच्चाई यही है कि मीडिया का यह मोदी प्लान अब काफी हद तक कान पकाऊ हो चला है। चैनल सर्च करते समय किसी न किसी चैनल पर एेसे दावे नजर आ ही जाते हैं। जिससे उबकाई सी होने लगी है। मोदी के प्लान के बाबत चैनल वाले अपना दिमाग लगाना बंद कर दे, तो बेहतर होगा। मोदी जब खुद हनीमून पीरियड की बात कर रहे हैं, तो उनके कार्य के आकलन के बाबत थोड़ा और समय देना उचित होगा। साथ ही सही – गलत का फैसला दर्शक या कहें तो जनता के विवेक पर छोड़ना ही सही है। इसे लेकर अमूमन हर रोज बकलोली का कोई औचित्य नहीं है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz