लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


-गिरीश बिल्लोरे-
narendra modi-mother

दूरूह पथचारी
तुम्हारे पांवों के छालों की कीमत
तुम्हारी अजेय दुर्ग को भेदने की हिम्मत
को नमन!
निशीथ-किरणों से भोर तक
उजाला देखने की उत्कंठा
सटीक निशाने के लिये तनी प्रत्यंचा
महासमर में नीचे पथ से ऊंची आसंदी
तक की जात्रा में लाखों लाख
जयघोष आकाश में
हलचल को जन्म देती जड़-चेतन सभी ने देखी है
तुम्हारी विजय विधाता की लेखी है
उठो.. हुंकारो.. पर संवारो भी
एक निर्वात को सच्ची सेवा से भरो
जनतंत्र और जन कराह को आह को
वाह में बदलो…
————————————

सुनो,
कूड़ेदान से भोजन निकालते बचपन
को संवारो..
अकिंचन के रूखे बालों को संवारो…
देखो रेत मिट्टी मे सना मजूरा
तुम्हारी ओर टकटकी बांधे
अपलक निहार रहा है…
धोखा तो न दोगे
यही विचार रहा है!
मौन है पर अंतस से पुकार रहा है..
सुना तुमने…
वो मोमिन है..
वो खिस्त है..
वो हिंदू है…
उसे एहसास दिला दो पहली बार कि
वो भारतीय है…
उसे हिस्सों में प्यार मत देना
शायद मां ने तुम्हारे सर पर हाथ फ़ेर
यही कहा था… है न…
चलो… अब सैकड़ों संकटों के चक्रव्यूह को भेदो..
तुम्हारी मां ने यही तो कहा था है न!
————————————-

विश्व हतप्रभ है…
कौन हो तुम ?
जानना चाहता है..
बता दो.. शून्य का विस्फोट हूं
जो बदल देगा… अतीत का दर्दीला मंज़र…
तुम जिस पर विश्वास किया है..
बता दो विश्व को…
कौन हो तुम!
कह दो कि
पुनर्जन्म हूं…
शेर के दांत गिनने वाले का….
————————————–

चलना ही होगा तुमको
कभी तेज़ कभी मंथर
सहना भी होगा तुमको
कभी बाहर कभी अंदर
पर याद रखो
जो जीता वही तो है सिकंदर

Leave a Reply

1 Comment on "बता दो.. शून्य का विस्फोट हूं!"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
गिरीश बिलोरे
Guest
गिरीश बिल्लोरे

आभार अमलेन्दु जी

wpDiscuz