लेखक परिचय

हिमकर श्‍याम

हिमकर श्‍याम

वाणिज्य एवं पत्रकारिता में स्नातक। प्रभात खबर और दैनिक जागरण में उपसंपादक के रूप में काम। विभिन्न विधाओं में लेख वगैरह प्रकाशित। कुछ वर्षों से कैंसर से जंग। फिलहाल इलाज के साथ-साथ स्वतंत्र रूप से रचना कर्म। मैथिली का पहला ई पेपर समाद से संबद्ध भी।

Posted On by &filed under कविता.


-हिमकर श्याम-
nature

-पर्यावरणीय दोहे-

वायु, जल और यह धरा, प्रदूषण से ग्रस्त।
जीना दूभर हो गया, हर प्राणी है त्रस्त।।

नष्ट हो रही संपदा, दोहन है भरपूर।
विलासिता की चाह ने, किया प्रकृति से दूर।।

जहर उगलती मोटरें, कोलाहल चहुंओर।
हरपल पीछा कर रहे, हल्ला गुल्ला शोर।।

आंगन की तुलसी कहां, दिखे नहीं अब नीम।
जामुन-पीपल कट गए, ढूंढ़े कहां हकीम।।

पक्षी, बादल गुम हुए, सूना है आकाश।
आबोहवा बदल गयी, रुकता नहीं विनाश।।

शहरों के विस्तार में, खोये पोखर ताल।
हर दिन पानी के लिए, होता खूब बवाल।।

नदियां जीवनदायिनी, रखिए इनका मान।
कूड़ा-कचड़ा डाल कर, मत करिए अपमान।।

ये प्राकृतिक आपदाएं, करतीं हमें सचेत।
मौसम का बदलाव भी, देता अशुभ संकेत।।

कुदरत तो अनमोल है, इसका नही विकल्प।
पर्यावरण की संरक्षा, सबका हो संकल्प।।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz