Posted On by &filed under राष्ट्रीय.


देश भर में 1 अप्रैल से BS-3 गाड़ियों की बिक्री पर सर्वोच न्यालय ने लगाई रोक

देश भर में 1 अप्रैल से BS-3 गाड़ियों की बिक्री पर सर्वोच न्यालय ने लगाई रोक -देशभर में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने आज एक अहम फैसला सुनाया। 1 अप्रैल 2017 से ऑटो निर्माता कंपनियां बीएस-3 गाड़ियां नहीं बेच पाएंगी।
सर्वोच न्यालय ने देशभर में ऐसी गाड़ियां बेचने पर रोक लगा दी है। इससे कंपनियों को बड़ा झटका लगा है।कोर्ट ने कहा कि कंपनियों को पता था कि 1 अप्रैल से BS 4 गाडियां ही बेची जा सकेंगी, इसके बावजूद कंपनियों ने स्टॉक खत्म नहीं किया। कंपनियों के स्टॉक में करीब 8.2 लाख गाडियां हैं।

इन कंपनियों ने न्यायालय से यह भी कहा था कि उन्हें पहले भी 2005 में बीएस-दो और 2010 में बीएस-तीन प्रदूषण उत्सर्जन से संबंधित नयी प्रौद्योगिकी लागू किये जाने पर अपना पुराना स्टाक बेचने की अनुमति दी गयी थी मैनुफैक्चरर्स एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट से अपील की थी कि उन्हें प्रॉड्यूस हो चुके वाहनों के निस्तारण के लिए कुछ वक्त दिया जाए.  मैनुफैक्चरर्स की दलील थी कि इससे पहले जब BS-II और BS-III (क्रमशः 2005 और 2010 में) मानक आए थे, तब निर्धारित तारीख के बाद वाहनों के रजिस्ट्रेशन जारी रहे थे, सिर्फ आगे उनके उत्पादन पर रोक लगी थी.
कोर्ट ने कहा कि यह मामला सीधे-सीधे स्वास्थ्य से जुड़ा है और ऐसे मामले में हम कंपनियों के फायदे के लिए लोगों के स्वास्थ्य को खतरे में नहीं डाल सकते।

न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने एक अप्रैल से भारत स्टेज-चार के मानकों का पालन नहीं करने वाले वाहनों की बिक्री और पंजीकरण पर रोक लगाते हुये टिप्पणी की, ‘जनता का स्वास्थ्य आटो मोबाइल निर्माताओं के व्यावसायिक हितों से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है.’ प्रदूषण के उर्त्सजन से संबंधित भारत स्टेज चार मानक एक अप्रैल, 2017 से प्रभावी होंगे.

बीएस-IV का मतलब है भारत स्टेज-IV. ये गाड़ियों से होने वाले प्रदूषण के लिए निर्धारित मानक हैं. मार्च 31 के बाद सभी गाड़ियों को इन मानकों का पालन करना होगा. माना जाता है कि बीएस-3 के मुकाबले बीएस-4 मानक की गाड़ियों से कम प्रदूषण होता है.

सरकार का नए वाहनों पर जोर है, जिसके लिए 1 जनवरी 2014 को नोटि‍फि‍केशन जारी हुआ था, जिसमें कंपनियों को बीएस-4 लागू करने के निर्देश दिए हैं. नया नियम 1 अप्रैल, 2017 से लागू होना है. कार कंपनि‍यों का कहना है कि ये नोटिफिकेशन स्पष्ट नहीं है. गौर हो कि देश में बीएस-3 के वाहन काफी ज्यादा हैं. अनुमान है कि पैसेंजर व्‍हीकल्‍स में 20000, टू-व्‍हीलर्स में 7.5 लाख, थ्री व्‍हीलर्स में 4,500 और कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स में करीब 75 हजार बीएस-3 के वाहन हैं.

Comments are closed.