Posted On by &filed under राजनीति.


यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने लखनऊ में की अखिलेश यादव के प्रिय प्रोजेक्ट गोमती रिवर फ्रंट की समीक्षा की. अवैध बूचडखानों पर सरकार ने किया आश्वस्त, कहा-लाइसेंस लेकर काम करने वालों की डरने की जरुरत नहीं.
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के गोमती रिवर फ्रंट का दौरा किया और करीब 40 मिनट तक अधिकारियों के साथ बैठक की। यहां उनके साथ उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा भी मौजूद थे।

इसके अलावा रिवर फ्रंट से जुड़े हुए इंजीनियर भी उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री की इस रिव्यू मीटिंग का मकसद परियोजना से जुड़ी जानकारियों के बारे में जानना है। इस अवसर पर स्वाति सिंह, रीता बहुगुणा जोशी और ब्रजेश पाठक भी योगी आदित्यनाथ के साथ गोमती रिवर फ्रंट पर मौजूद रहे।

वहीं अवैध बूचड़खानों को बंद करने के योगी सरकार की कार्रवाई के विरोध में उत्तर प्रदेश के मांस कारोबारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। सरकार के फैसले का विरोध करते हुए मटन और चिकन विक्रेताओं के बाद अब मछली कारोबारियों ने भी इस बेमीयादी हडताल में शामिल होने का एलान कर दिया है।

इस हड़ताल के तहत मांस की सभी दुकानें बंद रहेंगी। हालांकि मांसाहार का होटल चलाने वाले कुछ लोगों ने अवैध बूचड़खाने बंद किए जाने का स्वागत किया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि प्रशासन द्वारा सिर्फ अवैध बूचड़खानों के ही खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

यूपी सरकार में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने लखनऊ में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जिन बूचड़खानों के पास वैध लाइसेंस है उन्हे डरने की जरुरत नहीं है।

Comments are closed.