Posted On by &filed under राजनीति.


nagar nigamमहाकोशल की सबसे बड़ी नगर निगम कर्ज के बोझ में डूबी है । पर राजस्व विभाग कर वसूली में अपना लक्ष्य पूरा नहीं कर पा रहे हैं । एक तो नगर निगम को करोंडों रूपये का कर्ज चुकाना है, उपर से बिजली, स्वास्थ्य, सफाई, जलपूर्ति और अग्निशमन पर खर्चों ने नगर सत्ता का बजट बिगाड़ दिया है । २०१४-१५ में निगम अपने कर वसूली के लक्ष्य डेढ़ अरब तक नहीं पहुंच सका । वसूली के मामले में राजस्व महकमा २३ करोड़ से पीछे रह गया । जबकि इस वर्ष एडीबी सें लिए गए ऋण की किस्त १५ करोड़ और हुडक़ो से लिए ऋण की किस्त १२ करोड भी चुकाना है ।

निगम को २०२९ तक स्टा्म वाटर डे्नेज परियोजना के लिए लिया गया ऋण की राशि १३ करोड़ ७२ लाख रूपये भी चुकाना है । इसके अलावा मुख्यमंत्री शहरी अधोसंरना के लिए प्राप्त ऋण की किस्त ४ करोड ८१ लाख ४८ हजार रूपये भी चुकाना है । निगम कर दाताओं से जल कर और सुपत्ति कर की बड़ी राशि नहीं वसूल पा रहा है । निगम के राजस्व विभाग को जल कर के १ अरब ५ करोड़ रूपये वसूलना है । जबकि संपत्तिकर के १ अरब २ करोड वसूलना है। निगम अधिकारियों का कहना है जिन कर दाताओं से कर वसूली नहीं हो पा रही है। उनमें ज्यादातर ने या तो न्यायलय में अपील कर रखा है । जबकि बड़ी संख्या में करदाता ऐसे भी हैं, जिनके घरों में संपत्ति विवाद होने के कारण कर वसूली नहीं हो पा रही है।

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz