Posted On by &filed under अपराध.


हिमांशु तिवारी आत्मीय

आतंक के तौर पर जाना, पहचाना जाने वाला पाकिस्तान अपनी ही आदतों में गुम होता नजर आ रहा है। कत्लेआम का दौर जारी है। मासूम बच्चों महिलाओं को निशाना बनाया जा रहा है। रविवार शाम करीबन 6 बज कर 20 मिनट पर पाकिस्तान के इकबाल टाउन के गुलशन-ए-पार्क में आत्मघाती हमले में 58 लोग मारे गए। इस बात की जानकारी प्रांतीय अधिकारियों के हवाले से दी गई। सूत्रों की मानें तो इस हमले में 200 से ज्यादा लोग घायल हुए।

बच्चों और महिलाओं को बनाया गया निशाना

इकबाल टाउन के पुलिस अधीक्षक डॉ0 मुहम्मद इकबाल ने इस बात की पुष्टि की कि यह एक आत्मघाती हमला था और इसके लिए बच्चों के पार्क के बाहर की जगह तय की गई थी। जहां बड़ी संख्या में परिवार, विशेष तौर पर महिलाएं और बच्चे मौजूद थे।

आत्मघाती का सिर बरामद

रिटायर्ड जिला सहकारी अधिकारी मुहम्मद उस्मान ने बताया कि आत्मघाती हमलावर का सिर बरामद किया गया है। साथ ही मौका-ए-वारदात पर बॉल बीयरिंग भी मिली हैं।

लाहौर के इकबाल टाउन में हुई है घटना

यह क्षेत्र लाहौर का जाना माना आवासीय क्षेत्र है। पाकिस्तान के अखबार डॉन के मुताबिक धमाका गेट के बाहर हुआ, जहां से चंद कदमों की दूरी पर बच्चे झूला झूल रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि घटना के बाद खंभों पर खून के धब्बे और शरीर के अलग अलग अंग पड़े हुए थे।

मौके पर मौजूद एक व्यक्ति ने बताया कि घायलों को रिक्शे और टैक्सी की मदद से अस्पताल पहुंचाया गया है। साथ ही उसने यह भी कहा कि ईस्टर पर्व की वजह से जिस जगह हमला हुआ वहां काफी लोग मौजूद थे।

सुरक्षा बल नहीं था मौके पर मौजूद

घटना स्थल पर उपस्थित प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पार्क के बाहर कोई भी सुरक्षा व्यवस्था नहीं थी। उनमें से एक ने मीडिया को ये भी बताया कि पार्क काफी बड़ा है और कई सारे प्रवेश द्वार हैं। वहां किसी भी किस्म के सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए थे।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz