Posted On by &filed under राजनीति.


image1केरल में मानसून ने दी दस्तक
नई दिल्ली,। काफी लंबे समय से भीषण गर्मी की मार झेल रहे केरलवासियों को मानसून की पहली बारिश से आज बडी राहत मिली है । पूरे केरल में दोपहर से ही तेज बारिश का दौर जारी है । मौसम विभाग के मुताबिक इस वर्ष 88 प्रतिशत बारिश होने की संभावना है ।भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के पूर्वानुमान के हिसाब से मानसून इस साल छह दिन विलंब से केरल तट पर पहुंचा है । पहले मानसून आने की तारीख तीस मई बताई गई थी । राज्य में मानसून के आने की सामान्य तारीख एक जून है । केरल में मानसून आने के बाद पूरे देश में इसकी शुरूआत मानी जाती है । वहीं, मौसम विभाग के प्रमुख डी एस पई ने बताया कि केरल के बाद 15 जुलाई तक पूरे देश में तेज बारिश होने की संभावना है । कमजोर मानसून की आशंका के बीच कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने राहत भरा बयान देते हुए कहा कि अगर कम बारिश हुई तो सरकार बिजली, डीजल और बीज पर सब्सिडी देगी। वहीं, सरकार के सूत्रों का कहना है कि यदि सामान्य से कम बारिश हुई तो डीजल पर सब्सिडी से किसानों को राहत मिलेगी।
गौरतलब है कि आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और राजस्थान में पहले ही भीषण बारिश हो रही है। आने वाले दो दिन उत्तरी भारत में भी अच्छी बारिश की उम्मीद है । मानसून ने अंडमान निकोबार में समय से पहले दस्तक दी थी। इसके बाद यह श्रीलंका के तट पर पहुंचा लेकिन बंगाल की खाड़ी में चक्रवात और ‘अल नीनो’ प्रभाव के चलते मानसून की रफ्तार धीमी हो गई। जिसकी वजह से मानसून आने में पूर्व निर्धारित तिथि से छह दिन की देरी हुई। पिछले साल औसत से 12 प्रतिशत कम बारिश हुई थी। मौसम विभाग ने इस बार भी सामान्य से कम बारिश की आशंका जताई है।
मौसम विभाग के मुताबिक, 96 से 104 प्रतिशत बारिश को सामान्य, 90 से 96 प्रतिशत को सामान्य से कम और 90 प्रतिशत से कम बारिश को सूखा मानता है। चार महीने के मानसून सीजन (जून-सितंबर) में पूरे साल के दौरान होने वाली बारिश में इसकी तीन चौथाई हिस्सेदारी होती है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz