Posted On by &filed under मीडिया.


उत्तर भारत का प्रसिद्घ गढ़मुक्तेश्वर मेला पांच से 16 नवंबर तक

उत्तर भारत का प्रसिद्घ गढ़मुक्तेश्वर मेला पांच से 16 नवंबर तक

पड़ोस के जनपद हापुड़ के गढ़मुक्तेश्वर में लगने वाला उत्तर भारत का प्रसिद्घ कार्तिक मेला पांच नवम्बर से प्रारम्भ होकर 16 नवम्बर 2016 तक चलेगा। आयुक्त आलोक सिन्हा ने आज यहां बताया कि गढ़ मेले के नाम से चर्चित इस मेले में मुख्य रूप से दो स्नान क्रमश: 10 नवम्बर :एकादशी: और 14 नवम्बर :कार्तिक पूर्णिमा: को पड़ेंगे। मेले में बड़ी संख्या में लोगों के आने की उम्मीद है। उन्होंने उत्तर भारत की शान माने जाने वाले गढ़ मेले के सफल आयोजन के लिये प्रबंधकीय मेला कमेटी गठित कर सभी तैयारियां समय से पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। बैठक में हापुड़ के जिलाधिकारी अजय ढींगरा ने कहा कि गढ़ मेले के लिये मेला क्षेत्र को 21 सैक्टर में विभाजित कर 21 सैक्टर मजिस्ट्रेट बनाये गये हैं तथा उनके साथ एक-एक पुलिस अधिकारी लगाया गया है। उन्होंने बताया कि मेला क्षेत्र में 10 घाट तथा कैमिकल टायलेट बनाये जायेंगे। गढ़ क्षेत्र में मेले का आयोजन जिला पंचायत द्वारा किया जाता है तथा समानान्तर चलने वाले ब्रजघाट क्षेत्र में मेले का आयोजन नगर पालिका गढ़ द्वारा किया जाता है। ढींगरा ने बताया कि यहां पशु मेला भी लगाया जाता है। मेले के दौरान करीब 1,500 दुकानें लगाई जाती हैं और मेरठ सैक्टर तथा दिल्ली सैक्टर बनाये जाते हैं। उन्होंने बताया कि मेले में पर्याप्त सड़क, पेयजल, प्रकाश, प्रचार, छिड़काव, पम्पिंग, बैरीकेडिंग, 30 जन शिकायत निवारण केंद्र, पांच वॉच टावर, तीन हवालात, खोया-पाया केन्द्र, सूचना पट के अलावा 10 बिस्तरों वाला एक चिकित्सालय तथा एक पशु चिकित्सालय भी बनाया जाता है। ढींगरा के अनुसार, पूरी व्यवस्था के सफल संचालन के लिए गढ़मुक्तेश्वर के उप जिलाधिकारी को मेला अधिकारी बनाया गया है।

( Source – पीटीआई-भाषा )

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz