Posted On by &filed under टेक्नॉलोजी.


startupनेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलाॅजी (एनआईटी) हमीरपुर में चल रहे निंबस कार्यक्रम के दौरान संस्थान से इंजीनियरिंग कर चुके इंजीनियर गौरव गर्ग और उनकी टीम ने गेस्ट लेक्चर प्रस्तुत किए। स्काइकैंडल डोट काम के संस्थापक गर्ग ने आयोजित कार्यक्रम में कहा कि हाल के वर्षों में हमने देखा है कि कैसे भारत दुनिया के स्टार्टअप हब की राजधानी बन गया। अब हिमाचल भारत का दूसरा स्टार्टअप हब होगा। हिमाचल में अच्छी शिक्षा और उच्च साक्षरता दर मौजूद है। जिसके दम पर हिमाचल को भारत का दूसरा स्टार्टअप हब बनाया जा सकता है।

गर्ग ने अपनी कम्पनी की चर्चा करते हुए कहा कि एक साल पहले स्काइकैंडल ने 50 हजार के निवेश से अप्रैल 2015 में काम शुरू किया जो 11 माह में ही तीन मिलियन को क्राॅस कर गया है। इसमें युवा साथियों की मेहनत एवं कुछ नया करने का होसला मुख्य है। कंपनी हिमाचल में आइटी विंग से भविष्य में शुरुआत करेगी। गर्ग युवाओ को उद्यमिता एवं आधुनिक तकनीक से जुडे़ व्यापार में हिस्सेदारी के लियेे सरकार की भूमिका को महत्वपूर्ण मानते हैं। उनका मानना है कि सरकार की नीतियां एवं प्रोत्साहन मिले तो भारत का युवा देश की तस्वीर बदल सकता है।

हिमाचल के एक छात्र के रूप में वे मानते हैं कि हिमाचली छात्रों को उच्च क्षमता और नवाचार में एक विचार को बदलने की क्षमता है। उन्होंने हिमाचल में स्टार्टअप या उद्यमी संस्कृति के विकास का समर्थन एनआईटी हमीरपुर से शुरू करने में गहरी रुचि दिखाई है।

गर्ग ने एनआईटी के स्टूडेंट्स के प्रश्नों के उत्तर देते हुए कई तरह के आइडिया दिए कि आप जाॅब करने की बजाए स्टार्टअप के जरिए दूसरों को जॉब दे सकते है। रोजगार ढूंढने की बजाय रोजगार देने वाला बनने के लक्ष्य को हासिल करने के लिये गौरव ने संस्थान से शिक्षा हासिल करने वाले अपने कुछ दोस्तों के साथ सबसे पहले स्काईकैंडल डाॅट इन कंपनी का निर्माण किया। कंपनी के आईटी विंग ने आॅनलाइन टेªडिंग शुरू की है। इसके जरिए कंपनी सस्ती दरों पर उत्पाद को निर्माता से सीधे ग्राहक तक पहुंचाती है।

हमीरपुर में आयोजित पत्रकार वार्ता में गौरव गर्ग और उसके सहयोगियों ने बताया कि स्काईकैंडल कंपनी आॅनलाइन बिजनेस करती है। भारत के अलावा देश से बाहर पांच देशों में इनके कार्यालय हैं। विदित हो श्री गौरव गर्ग को विज्ञान भवन में उदय इंडिया के छठवीं वर्षगांठ समारोह पर आयोजित मेक इन इंडिया सेमिनार में केन्द्रीय आदिवासी मंत्री श्री जुअल ओराम ने ‘यंग एंटरप्रन्योर अवार्ड’ से सम्मानित किया गया है। यह अवार्ड उन्हें युवा व्यवसायी के रूप में विभिन्न कारोबारी क्षेत्रों में उनकी उपलब्धियों के लिए दिया गया था। विशेषतः उन्हें यह सम्मान आॅनलाइन व्यवसाय में उनकी सक्रिय भागीदारी के लिए प्रदत्त किया गया था।

इस मौके पर वह एनआईटी हमीरपुर के निदेशक डाॅ. रजनीश श्रीवास्तव से भी मिले।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz