Posted On by &filed under मीडिया.


सुंदरबन के बाघों की आबादी स्थिर : रिपोर्ट

सुंदरबन के बाघों की आबादी स्थिर : रिपोर्ट

जलवायु परिवर्तन के चलते खारे जल की पहुंच और वन्य भूमि की कटाई से ह्रास होते सुंदरबन के द्वीपों में पिछले कुछ वर्ष से बाघों की आबादी स्थिर बनी हुई है। नवीनतम रिपोर्ट में सुंदरबन में 86 बाघों की मौजूदगी का आकलन किया गया है।

पश्चिम बंगाल के वन विभाग एवं डब्ल्यूडब्ल्यूएफ ने अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा है कि सुंदरबन में कम से कम 83 बाघ हैं और नवंबर से मार्च के दौरान इनकी संख्या 128 तक बढ़ सकती है।

प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं मुख्य वन्यजीव वार्डन प्रदीप व्यास ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘‘सांख्यिकीय मॉडल के इस्तेमाल से हुई गणना में इनकी संख्या 86 बताई गई है। बाघों की गणना में मामूली इजाफा हुआ है इसलिए यह कहा जा सकता है कि बाघों की आबादी अभी बहुत हद तक स्थिर बनी हुई है।’’ चूंकि बाघ इस पारिस्थितिकी तंत्र में सबसे शीर्ष पर विद्यमान होते हैं, इसलिए इनकी आबादी का स्थिर बने रहना यह साबित करता है कि डेल्टा का पारिस्थितिक तंत्र भी ठीक है।

व्यास ने कहा, ‘‘सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि बाघों की संख्या पिछले साल की संख्या के करीब है, जो संख्या में स्थिरता साबित करता है। इनकी संख्या में मामूली इजाफा और कमी हो सकती है।’’ 2014 में भी इसी तरह की गणना की गई थी जिसमें बाघों की संख्या 76 थी।

डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के रातुल साहा ने कहा, ‘‘आप कह सकते हैं कि बाघों की संख्या स्थिर है। यह पिछले सर्वेक्षण से थोड़ा अधिक या कम है।’’ यह पहली बार है जब ना केवल सुंदरबन बाघ अभयारण्य क्षेत्र बल्कि शेष दक्षिण 24 परगना के वनखंड में भी कैमरे लगाए गए हैं।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz