लेखक परिचय

हिमकर श्‍याम

हिमकर श्‍याम

वाणिज्य एवं पत्रकारिता में स्नातक। प्रभात खबर और दैनिक जागरण में उपसंपादक के रूप में काम। विभिन्न विधाओं में लेख वगैरह प्रकाशित। कुछ वर्षों से कैंसर से जंग। फिलहाल इलाज के साथ-साथ स्वतंत्र रूप से रचना कर्म। मैथिली का पहला ई पेपर समाद से संबद्ध भी।

Posted On by &filed under कविता, धर्म-अध्यात्म.


[नव संवत्सर, सरहुल और रामनवमी पर दोहे]

 

नव संवत्, नव चेतना, नूतन नवल उमंग।

साल पुराना ले गया, हर दुख अपने संग।।

 

चैत शुक्ल की प्रतिपदा, वासन्तिक नवरात।

संवत्सर आया नया, बदलेंगे हालात।।

 

जीवन में उत्कर्ष हो, जन-जन में हो हर्ष।

शुभ मंगल सबका करे, भारतीय नव वर्ष।।

 

ढाक-साल सब खिल गए, मन मोहे कचनार।

वन प्रांतर सुरभित हुए, वसुधा ज्यों गुलनार।।

 

प्रकृति-प्रेम आराधना, सरहुल का त्योहार।

हरी-भरी धरती रहे, सुख-संपन्न घर बार।।

 

रघुकुल में पैदा हुए, जग के पालनहार।

कौशल्या हर्षित हुई, धन्य हुआ संसार।।

 

कण-कण में जो हैं बसे, पावन जिनका नाम।

पीड़ा हरने आ गए, सबके दाता राम।।

 

मर्यादा आदर्श के, रघुवर हैं प्रतिरूप।

धीरज, धरम, त्याग व तप, राम चरित के रूप।।

 

-हिमकर श्याम

Leave a Reply

4 Comments on "नूतन नवल उमंग"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Asha Joglekar
Guest

नव संवत्सर और राम जन्म के सुंदर दोहे।

हिमकर श्‍याम
Guest
हिमकर श्याम

सराहना तथा प्रोत्साहन के लिए आप सभी का हृदय से धन्यवाद एवं आभार !
~सादर

anup
Guest

सुंदर रचना…मंगलकामनाएँ

मानव गर्ग
Guest
मानव गर्ग

श्रीमन् हिमकर जी,

अति सुन्दर ! कविता के लिए धन्यवाद ।

wpDiscuz