लेखक परिचय

तारकेश कुमार ओझा

तारकेश कुमार ओझा

पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ हिंदी पत्रकारों में तारकेश कुमार ओझा का जन्म 25.09.1968 को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में हुआ था। हालांकि पहले नाना और बाद में पिता की रेलवे की नौकरी के सिलसिले में शुरू से वे पश्चिम बंगाल के खड़गपुर शहर मे स्थायी रूप से बसे रहे। साप्ताहिक संडे मेल समेत अन्य समाचार पत्रों में शौकिया लेखन के बाद 1995 में उन्होंने दैनिक विश्वमित्र से पेशेवर पत्रकारिता की शुरूआत की। कोलकाता से प्रकाशित सांध्य हिंदी दैनिक महानगर तथा जमशदेपुर से प्रकाशित चमकता अाईना व प्रभात खबर को अपनी सेवाएं देने के बाद ओझा पिछले 9 सालों से दैनिक जागरण में उप संपादक के तौर पर कार्य कर रहे हैं।

Posted On by &filed under विविधा.


-तारकेश कुमार ओझा-
ND Tiwari marriage

अब काफी बुजुर्ग हो चुके वयोवृद्ध राजनेता नारायण दत्त तिवारी को मैं तब से जानता हूं, जब 80 के दशक में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाधी की हत्या के बाद उनके पुत्र राजीव गांधी प्रचंड बहुमत के साथ देश के प्रधानमंत्री बने थे। बेशक उनकी सरकार में नंबर दो की हैसियत मध्य प्रदेश के अर्जुन सिंह की थी। लेकिन राजीव गांधी के मंत्रीमंडल में शामिल रहे नारायण दत्त तिवारी उस जमाने के निर्विवाद नेता के रूप में जाने जाते थे। संयोग से राजीव गांधी के प्रधानमंत्री बनने के शुरुआती कुछ महीनों के बाद ही उनके मंत्रीमंडल के सदस्य बागी तेवर अपनाते हुए एक-एक कर उनका साथ छोड़ते गए। जिनमें अरुण नेहरू, अरुण सिंह, विश्वनाथ प्रताप सिंह, मोहम्मद आरिफ खान आदि शामिल थे। बोफोर्स कांड व स्विस बैंक प्रकरण के चलते राजीव गांधी काफी मुश्किलों से घिरे थे। तभी देश में आवाज उठी कि राजीव गांधी को अपने पद से इस्तीफा देकर नारायण दत्त तिवारी को प्रधानमंत्री बना देना चाहिए। तिवारी के दबदबे का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि तब प्रचार माध्यमों में खबर चली कि नारायण दत्त तिवारी भी राजीव से किनारा करने वाले हैं। बताया जाता है कि तब राजीव गांधी ने स्वयं तिवारी को बुला कर उनकी इच्छा जानी और कहा कि यदि आप भी मेरा साथ छोड़ रहे हैं, तो मैं अभी इस्तीफा देता हूं। खैर बात अाई-गई हो गई।

राजीव गांधी के जीवनकाल तक तो कांग्रेस में तिवारी का कद काफी ऊंचा रहा, लेकिन उनकी अचानक मृत्य के बाद तिवारी का हाशिये पर जाना शुरू हो गया। मुझे याद है पीवी नरसिंह राव के प्रधानमंत्रीत्व काल में एक बार नारायण दत्त तिवारी ने उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव सरकार को बर्खास्त करने की मांग पर अनशन शुरू किया। इससे नरसिंह राव काफी दबाव में आ गए। लेकिन खुद मुलायम सिंह यादव ने कहा कि तिवारीजी को वे अपना गुरु मानते हैं और उनके खिलाफ किए जा रहे आंदोलन के बावजूद उन्हें पंडितजी से कोई शिकायत नहीं है। उत्तर प्रदेश के विभाजन के बाद उत्तराखंड बनने और तिवारी का उक्त राज्य का मुख्यमंत्री बनने तक भी सब कुछ ठीक-ठाक ही चलता रहा। कांग्रेस में सीताराम केसरी और सोनिया गांधी का कद बढ़ने के बाद से ही यूं तो तिवारी हाथिये पर जाते रहे, लेकिन कुछ साल पहले आंध्र प्रदेश का राज्यपाल रहने के दौरान तिवारी सेक्स स्कैंडल में जो फंसे, तो फंसते ही चले गए। उनके पितृत्व विवाद, पहले इन्कार और फिर स्वीकार तथा सबसे अंत में लगभग 90 की उम्र में व्याह का ताजा प्रकरण सचमुच हैरान करने वाला है। विश्वास नहीं होता कि ये वहीं एनडी हैं, जो किसी जमाने में निर्विवाद और सर्वमान्य नेता माने जाते थे। जारी घटनाक्रम व विवादों में तिवारी कितने दोषी हैं, यह तो वही जाने, लेकिन उनकी मौजूदा हालत देखकर अफसोस जरूर होता है। एक वयोवृद्ध राजनेता की एेसी दुर्दशा। साथ ही यह सीख भी मिलती है कि किसी भी इंसान के जीवन में समय एक सा कभी नहीं रहता।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz