लेखक परिचय

आदर्श तिवारी

आदर्श तिवारी

लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार व ब्लॉगर हैं।

Posted On by &filed under खेत-खलिहान, विविधा.


 

उत्तर प्रदेश के मथुरा में पिछले 17 साल से भटक रहे लगभग पच्चीस हजार किसानों ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को पत्र लिखकर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सामूहिक आत्महत्या करने की अनुमति मांगी हैl मथुरा गोकुल बैराज पीड़ित किसान लगभग 17 साल से मुआवज़े के लिए भटक रहे हैंl पिछले वर्ष नवंबर  में किसानों ने अपने हक के लिए धरना भी दिया था, उसके बदले किसानों पर पुलिस ने बर्बरतापूर्वक गोलीबारी और लाठियां बरसाई थीं और उनके आंदोलन को कुचलने की कोशिश की गई थीl हद तो तब हो गई जब गरीब किसानों पर प्रशासन ने लूट, डकैती और हत्या जैसे संगीन आरोप लगाकरअन्यायपूर्ण तरिके से 526 किसानों को जेल में डाल दिया थाl गोकुल बैराज बाँध में 11 गावं के किसानों की तकरीबन 700 एकड़ जमीन जलमग्न हो गई है, जिससे 943 परिवारों के पच्चीस हजार सदस्य भूमिहीन हो गए हैंl इससे पहले भी इनके परिवारों के लोग पैसे की कमी के कारण बीमारी और भूखमरी के शिकार होकर काल के गाल में समाते रहे हैंl प्रशासन के आकलन के अनुसार किसानों की मुआवजा राशि 800 करोड़ है लेकिन इन किसानों की सुध न तो प्रशासन ले रहा और न ही शासनl 17 साल से यह समस्या नौकरशाही और सियासत के मकड़जाल में फंसकर विकराल रूप धारण कर लिया हैl फलस्वरूप किसानों ने ये घातक कदम उठाने का फैसला लिया हैl किसानों की आत्महत्या की फेहरिस्त हर रोज़ बढती जा रही है, फिर भी सरकार इस मसले पर गंभीरता नहीं दिखा रही हैl नैशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आकड़े को देखें तो हमारे देश में अन्नदाताओं की हालत का पता चलता हैl

farmer suicide31 मार्च 2013 तक के आकड़े बताते है कि 1995 से अब तक 2,96 438 किसानों ने ये घातक कदम मजबूरन उठाया है, इन 18 सालों के दरमियान  यूपीए के हाथ में भी सत्ता रही तो वहीँ कुछ साल एनडीए ने भी सत्ता का स्वाद चखा, हुकुमत बदली लेकिन किसानों के हालात में सुधार नहीं हुआl इस कृषि प्रधान देश में कृषि और किसान कितने मुश्किलों से गुज़र रहे हैंl किसानों की बदहाली का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले 18 वर्षो में लगभग तीन लाख किसान आत्महत्या कर चुके हैं फिर भी सरकार मौन रहती हैं, जो अन्नदाता दुसरों के पेट को भरता है आज उसी अन्नदाता की सुध लेने वाला कोई नहीं, किसान उर्वरक के बढ़ते दामों से परेशान है तो, कभी नहर में पानी न आने से परेशान है और अब तो मौसम भी किसानों पर बेरहम हो गयी है, बेमौसम बरसात और बाढ़ ने किसानों को तबाह कर दिया है l आखिर गरीब किसान किस पर भरोसा करेl सरकार किसानों की आत्महत्या रोकने के लिए ऋण माफी,बिजली बिल माफी समेत कई राहत पैकेज आदि तो देती रहती है,परन्तु ये भी उन्हें समय पर नहीं मिलता ,न कि उनकी समस्याओं का स्थानीय समाधानl भारत सरकार किसानों की समस्या का स्थानीय समाधान क्यों नहीं ढूढ़ती इस यक्ष प्रश्न का सटीक जबाब सरकार के पास नहीं हैl भारत वह देश है जहां की दो-तिहाई आबादी विशुद्ध रूप से खेती पर निर्भर हैlलेकिन इन विकट समस्याओं से किसान इस कदर तंग आ गया है कि वो खेती छोड़ना चाहता है ,एनएसएसओ के आकड़े पर गौर करे तो 42  फीसदी  किसान खेती हमेशा के लिए छोड़ने को तैयार हैं लेकिन विकल्प न होने के कारण वे खेती करने के लिए मजबूर हैंl एक कृषि प्रधान देश में कृषि मजबूरी बस की जा रही है इससे बड़ा दुर्भाग्य देश के लिए और क्या हो सकता है l आज़ादी के इतने सालों के बाद भी किसान अपनी किस्मत सहारे अपनी जिन्दगी जीने को मजबूर हैl समय से वर्षा नहीं हुई तो फसल चौपट होने का डर तथा बेमौसम बरसात का डर बाढ़ से फसल डूब जाने की चिंता आज भी किसानों को सोने नहीं देती l देश में चाहे कितने बांध और नहरें क्यों ना बनी हों लेकिन तीन-चौथाई किसान आज भी इंद्र देवता की मेहरबानी को ही अपना नसीब मानते हैंl

प्रधानमंत्री को यह एहसास भी होना चाहिए कि उनके द्वारा चलाई गई योजनायें भी किसानों तक ठीक से नहीं पहुंच रही हैंl सरकार की योजनाएं ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले गरीब किसानों, मजदूरों को केवल सुनाई देती हैं, उन तक पहुंचती नहींl प्रधानमंत्री मोदी अपनी सरकार को हर सरकार से अलग रखते है अब ये देखने वाली बात होगी की मोदी योजनाओं के सही क्रियान्वयन के लिए क्या करते हैl उल्लेखनीय है कि  सरकार मुआवजे की घोषणा तो कर देती है लेकिन किसानों तक मुआवज़ा पहुंचते–पहुंचते काफी लंबा वक्त गुज़र जाता है और किसान सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट-काट के थक जाता है और हार मान लेता हैl फलस्वरूप आत्महत्या जैसा कड़ा कदम उठाने को मजबूर हो जाता हैl बहरहाल,सरकार ने भले ही जनधन योजना के जरिये 13 करोड़ से अधिक खाते खोल दिए हों और आधर कार्ड के जरिये किसानों से सीधे सम्पर्क साधने की बात कह रही हो पर,जमीनी हकीकत इससे परे हैl किसानों के लिए वही पुरानी लंबी और लचर व्यवथा बनी हुई हैl क्या मोदी कुछ ऐसा बड़ा फैसला लेंगे जिससे किसान आत्महत्या जैसे कदम न उठायेl क्या मोदी कुछ ऐसा करेंगे जिससे किसानों तक सीधे सरकार द्वारा दिया गया मुआवजा या योजना का लाभ आसानी से मिल सके ताकि किसान आत्महत्या जैसा निर्णय लेने को मजबूर न होl प्रधानमंत्री हर रोज़ एक- एक कानून खत्म करने की बात तो करते हैं,अच्छा होगा की मोदी कानून के साथ कृषि के क्षेत्र में जो किसानों की जटिलता है उसे खत्म करें l राजनेताओं के लम्बे –चौड़े वादे सुन –सुन कर किसान त्रस्त आ चुके हैंl हर एक राजनीतिक दल सत्ता को पाने के लिए किसानों के हित में बात करते हैं परन्तु  चुनाव जीतने के बाद भूल जाते हैंl मोदी ने भी किसानों के लिए बड़े –बड़े वायदें किये हैं,इस सरकार से किसानों को बहुत उम्मीदें हैंl अब समय आ गया है कि मोदी किसानों की उम्मीदों पर खरा उतरें l किसानों को आत्महत्याओं से बचाने के लिए सरकार को गंभीर होने की जरूरत है उन समस्याओं का निवारण करना सरकार की पूर्णतया जिम्मेदारी है,जिसके चलते किसान आत्महत्या जैसा कदम उठाने को मजबूर हो जाते हैं ,ऐसे गंभीर विषय पर सरकार को जल्द से जल्द कोई बड़ा फैसला लेने की जरूरत है साथ ही सरकार को इन बातों का ख्याल भी रखना चाहिए कि किसानों को बिजली, खाद,पानी के साथ – साथ सरकार द्वारा मिल रहे मुआवज़े  तथा योजनाओं का लाभ समय पर मिल सकेl

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz