लेखक परिचय

रामदास सोनी

रामदास सोनी

रामदास सोनी पत्रकारिता में रूचि रखते है और आरएसएस से जुडे है और वर्तमान में भारतीय किसान संघ में कार्य कर रहे है।

Posted On by &filed under राजनीति.


अंग्रेजी गुलामी के कालखण्ड में पत्रकारिता की भूमिका नवचैतन्य का प्रतीक थी। संसाधनों का अभाव, सरकारी जुल्मोसितम, हर समाचार पर सरकार की कड़ी नजर के बावजूद भारतीय पत्रकारिता व उस कालखण्ड के मूर्धन्य पत्रकार स्वतंत्रता की अलख जगाने में कामयाब रहे तो उसका श्रेय उनके राष्ट्र व समाज के प्रति समर्पण, दृ़ इच्छाशक्ति, विदेशी गुलामी के बंधनों से देश को मुक्त कराने की उत्कट चाह व उन्हे मिले समाज के समर्थन को था। अंग्रेजीकाल में निष्पक्ष, बेबाक, निर्भीक, वस्तुपरक समाचार प्रकाशित करने पर पत्रकारों व सम्पादकों को अमानवीय यातानाओं का सामना भी करना पड़ा। संसाधनों की कमी व सरकारी नियंत्रण होते हुए भी (यद्यपि समाचार पत्रों की प्रसार संख्या सीमित थी) अगर प्रकाशित समाचारों का समाज में विद्युत गति से सम्प्रेषण सभंव हो सका तो उसका एक बड़ा कारण था कि प्रकाशित समाचार देश व समाज की वास्तविकता पर आधारित थे, सामाजिक मूल्यों व राष्ट्रीय भावों से ओतप्रोत थे।

आज भारत को स्वतंत्र हुए मात्र 63 साल हुए है, हमारा स्वयं का तंत्र विकसित हुआ है, समाचार पत्र प्रकाशन के साथसाथ इलेक्ट्रिनिक मीडिया का प्रादुर्भाव हो गया है किंतु प्रकाशित या प्रसारित दोनो प्रकार के समाचारों से देश व समाज विलुप्त हो गए है अगर कोई आया है तो या तो टीआरपी / प्रसार संख्या ब़ाने वाले कथित सनसनीखेज समाचार या विभिन्न प्रकार से किसी ज्ञातअज्ञात का महिमामण्डन करते पेड समाचार। ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता के लिए अखबार निकालने वालों का स्थान कारपोरेट घरानों ने ले लिया है, जान हथेली पर रखकर सच सामने लाने वाले पत्रकारों की कलम सच की जगह अब प्रायोजित समाचार लिखने लगी है। इस कारण से समाचार पत्रों या न्यूज चौनलों में प्रकाशित / प्रसारित सामग्री में व्यवसायिकता इस कदर झलकने लगी है कि आम आदमी भी समाचार की सत्यता / असत्यता कर नीरक्षीर निर्णय करने लगा है।

लोकतंत्र का चौथा खंबा आज अपनी अस्मिता को बचाने की गुहार लगा रहा है। महात्मा गांधी का कहना था कि पत्रकारिता को हमेशा सामाजिक सरोकारों से जुड़ा होना चाहि,, चाहे इसके लिए कोई भी कीमत चुकानी पड़े। एक पत्रकार समाज का सजग प्रहरी है,उसमें मानवीय मूल्यों की समझ होना बेहद जरुरी है। तभी वो समाज से जुड़े मुद्दों को सरकार के सामने उचित ंग से रख पायेगा। लेकिन वर्तमान परिदृश्य बिल्कुल बदल गया है,आज पत्रकारिता को मानवीय और सामाजिक मूल्यों से कोई सरोकार नहीं। सनसनीखेज खबरें,पेड न्यूज,पीत पत्रकारिता, स्वहित आज पत्रकारिता पर भारी पड़ गया है। आज चाहे प्रिंट हो या इलैक्ट्रानिक मीडिया केवल सामाजिक सरोकारों का दंभ भरते दिखाई देते हैं। कोई भी समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने का प्रयास नहीं करता।

आज स्थिति यह है कि अगर देश के संत, धर्माचार्य, कोई समाजसेवी व्यक्तित्व, स्वयंसेवी संगठन किसी प्रकार से भारतवासियों के उत्थान के लिए कार्य करता है तो वो मीडिया में सुर्खिया नहीं बन पाता, उसके ठीक उल्ट भारत के संतो या धर्माचार्यो के विरूद्ध गाहेबेगाहे लगने वाले कथित आरोप हेडलाईन बनते है। अन्ना हजारे, नानाजी देशमुख जैसे कर्मयोगियों द्वारा समग्र ग्राम विकास के क्षेत्र में किए जा रहे काये मीडिया को नहीं दिखाई देते, नारायण सेवा संस्थान द्वारा विकलांगों के क्षेत्र में किए गए कार्यो का प्रकाशन समाचार पत्रों में आज तक क्यों नहीं हुआ।

वर्तमान दौर में समाचारों व न्यूज चौनलों में उन्ही समाचारों को स्थान मिल रहा है जो कि समाचार पत्र मालिक या कारपोरेट घरानों को पंसद हो, ऐसा प्रतीत होता है कि पत्रकारिता के ये आधुनिक पुरोधा भारत की जनता या अपने पाठकों को वो ही पॄाना दिखाना चाहते है जो कि उन्हे स्वयं अच्छा लगे।

विभिन्न राष्ट्रीय महत्व की बातों को सत्ता में बैठे लोगो की सुविधा और नजरीये से हमारा मीडिया कैसे प्रस्तुत कर रहा है आईये देखे

1. केंद्र सरकार के ईशारे पर तमिलनाडू की जयललिता सरकार ने 2004 में दीपावली पर जगदगुरू शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती को गिरफ्तार किया। हिन्दु समाज के सर्वोच्च धर्मगुरू को हिन्दुस्तान में ही बिना किसी ठोस कारण मात्र राजनैतिक साजिश के कारण जेल में बंद कर दिया गया किंतु हमारे मीडिया में पूज्य शंकराचार्य को एक दुर्दान्त अपराधी के रूप में प्रचारित किया गया, हर न्यूज, ब्रेकिंग न्यूज में ऐसेऐसे मनग़ंत समाचार प्रसारित किए गए कि मानो विश्व का सबसे बड़ा आतंकवादी, मोस्ट वांटेड पकड़ा गया हो।

2. जन्माष्टमी के दिन उड़ीसा में स्वामी लक्ष्मणानंद की हत्या। उड़ीसा के जनजातीय क्षेत्र में आदिवासियों के बाच हिन्दु धर्म की अलख जगाने वाले स्वामी लक्ष्मणानंद ही हत्या समाचार पत्रों की सुर्खिया नहीं बन पाई।

3. गुजरात के डांग जिले में धर्मजागरण व धर्मान्तरण रूकवाने गए स्वामी असीमानंद को मालेगांव विस्फोट का मुख्य षडयंत्रकारी बनाने की साजिश हुई जिसको हमारे मीडिया ने खूब चटखारे लेकर प्रकाशित व प्रसारित किया।

4. संत आसाराम एंव सुधांशु महाराज का कथित स्टिंग आपरेशन करके उनको तंत्रमंत्र करने वाला, अपराधियों को पनाह देने वाला, परस्त्रीगामी सिद्ध करने की कोशिश, जो कि उनके विरोधियों द्वारा की गई, को सोलह आने सही मानते हुए हमारे ही मीडिया द्वारा प्रकाशित किया गया जबकि विभिन्न प्रकार की जांचों में उक्त संतो के विरूद्ध ऐसा कोई तथ्य नहीं पाया गया।

5. कांग्रेस के नेता और नेहरूगांधी राजवंश के चश्मोचिराग राहुल गांधी द्वारा राष्ट्रवादी संगठन आरएसएस की तुलना प्रतिबंधित आतंकी संगठन सिमी से की जाने पर उसको देशभर के सभी मीडिया चैनलों और अखबारों ने प्रमुखता से स्थान दिया जबकि संघ द्वारा देश हित में किए जा रहे कार्यो का आज तक मीडिया द्वारा कोई उल्लेख नहीं किया गया। क्या भारत का मीडिया संघ और इसके आनुषंगिक संगठनों के बारे में या उनके द्वारा किए जा रहे कार्यो को नहीं जानता। इसके विपरित 10 नवम्बर को संघ के बैनर तले संघ विरोधी दुष्प्रचार के विरूद्ध आयोजित धरने प्रदशनों को उतनी कवरेज नहीं मिल सकी क्यों।

6. बुकर पुरस्कार विजेता लेखिका अरूधंति राय व जम्मूकश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुला द्वारा जम्मूकश्मीर को लेकर कहा गया कि यह भू भाग कभी भारत का हिस्सा नहीं रहा, कश्मीर का भारत में विलय अंतिम नहीं था, को सभी समाचार पत्रों व चैनलों द्वारा प्रमुखता दी गई क्या यह उचित था। जबकि दूसरी ओर इसके विरोध में अपना मत प्रकट करने वाले संगठनों को कोई तवज्जों नहीं मिली।

7. हाल ही में 10 नवम्बर को आरएसएस के पूर्व प्रमुख केएस सुदर्शन द्वारा कांग्रेस पार्टी व यूपीए अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के बारे में पत्रकारों से हुई वार्ता में तीन बातें कही गई पहली यह कि सोनिया गांधी एंटोनिया सोनिया माइनो हैं। दूसरी यह कि सोनिया के जन्म के समय उनके पिता जेल में थे और तीसरी बात यह कि उनका संबंध विदेशी खुफिया एजेंसी से है और राजीव और इंदिरा की हत्या के बारे में जानती हैं। गौरतलब है कि ये तीनों बातें पहली बार नहीं कही गई हैं। जनता पार्टी के नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी सार्वजनिक रूप से कई बार इन बातों को बोल चुके हैं। प्रख्यात लेखक एस गुरूमुर्ति व कई अन्य लेखक इस बारे में लिख चुके है तो क्या कारण था कि कांग्रेस के संघ विरोधी आरोपो को प्रमुखता से स्थान देने वाला हमारा मीडिया इस बारे में पूर्वाग्रहग्रस्त हो गया और वास्तविकता को दबाकर पूरे समाचार को इस प्रकार से प्रस्तुत कर दिया गया कि मानों भारत पर कोई विदेशी आक्रमण हो गया हो या फिर ओसामा बिन लादेन ने आकर भारत में प्रेस वार्ता कर ली हो। बाल की खाल निकालने में माहिर मीडिया ने इस प्रकरण में इस बात को अनदेखा किया कि वाजपेई सरकार के समय भी इन तथ्यों को लेकर संसद में हंगामा हुआ था, जांच कराने का भी प्रयास हुआ किंतु सेकुलर मीडिया व कांग्रेसी बिरादरी के कारण वो प्रयास सिरे नहीं च़ सका। गअर बारबार किसी सार्वजनिक व्यक्तित्व पर आरोप लग रहे है तो सामान्यतः वो स्वयं इसका खण्डन करता है अन्यथा लोकतांत्रिक व्यवस्था में प्रेस द्वारा सभी तथ्यों को उजागर किया जाता है इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण बोफोर्स घूस कांड में द हिन्दु की भूमिका हमारे सामने है, तो सुदर्शन सोनिया प्रकरण में सभी मापदण्ड क्यों ताक पर रख दिए गए। सुदर्शनजी जिन्होने अपना सम्पूर्ण जीवन वीरव्रती के समान भारत और समाज की संवा में लगा दिया उनके लिए प्रयुक्त शब्दों की बानगी इस प्रकार की थी मानों कि वे कोई समाज से बहिष्कृत अपराधी हो।

8. दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी द्वारा प्रेस वार्ता में पत्रकारों से मारपीट करने का समाचार कितने समाचार पत्रों ने प्रकाशित किया।

9. एटीएस द्वारा अजमेर दरगाह ब्लास्ट केस में कोर्ट में पेश चार्जशीट में संघ के इन्देश कुमार का नाम ना होने के बावजूद मीडिया द्वारा बिना तथ्यों के शोर मचाया गया तो उसी दिन शाम को एटीएस द्वारा ऐसा वक्तव्य दिया गया कि इन्दे्रश कुमार से भी पूछताछ हो सकती है।

10. यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके पुत्र राहुल गांधी, केन्द्रीय मंत्री प्रणव मुखर्जी, पी चिदम्बरम, कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह आदि द्वारा एक नहीं अनेकों बार हिन्दु समाज के लिए हिन्दु आतंकवाद, भगवा आतंकवाद, संघ और सिमी एक समन है, संघ के लोग देशद्रोही है जैसे जुमलों का प्रयोग किया गया किंतु हमारे मीडिया द्वारा कभी भी उनकी सच्चाई सामने लाने का प्रयास क्यों नहीं किया गया।

वर्तमान में भारतीय मीडिया जिस दिशा में ब़ रहा है वो अप्रत्यक्ष रूप से अधिनायकवाद की गूंज का आभास देता है यानि समाचार पत्रों में वही प्रकाशित होगा, वही पॄाया जायेगा, उसी तरीके से छापा जायेगा जैसा हमारे सत्ता के ठेकेदार कहेगे, सत्ता के विरोध में या देशद्रोहियों के विपक्ष में उठने वाले स्वरों को मीडिया में कोई स्थान नहीं मिलेगा। ऐसे में भारतीय मीडिया की दशा और दिशा, जो हमारे सामने है ,को सही करने की आवश्यकता है अन्यथा सरकार का पिछलग्गु बनता हुआ मीडिया अपनी विश्वसनीयता खो देगा इसमें कोई संदेह नहीं है।

Leave a Reply

5 Comments on "सत्ताधीशों की कठपुतली बनता हमारा प्रिन्ट और इलेक्ट्रानिक मीडिया"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Mayank Verma
Guest

मीडिया को पैसा देकर सच और झूट को स्थापित करना वैसा ही है जैसे ….ओपरेसन करा के लिंग परिवर्तित करवाना.

Anil Sehgal
Guest
सत्ताधीशों की कठपुतली बनता हमारा प्रिन्ट और इलेक्ट्रानिक मीडिया – by – रामदास सोनी समाचार पत्र, इलेक्ट्रिनिक मीडिया से देश / समाज के समाचार विलुप्त. टीआरपी बढाने सनसनीखेज या पेड समाचार का प्रसार. यह व्यापार बन गया है. कारपोरेट प्रायोजित समाचार लिखवाने लगे हैं. समाचारों में व्यवसायिकता आयी. आम आदमी का समाचार की सत्यता से विश्वास उठ गया है. लोकतंत्र का चौथा खंबा अब व्यापारी बन गया है. यह वाजपेयी सरकार या सोनिया जी द्वारा नहीं लाया गया है. यह भारतीयों का पत्तन दर्शाता है. यह धन का करिश्मा है. पुरानी बात : Band master plays the tunes of the… Read more »
sunil patel
Guest

श्री रामदास जी सही कह रहे है. वाकई आज जरुरत है निष्पक्ष मीडिया की जो क्रिकेट, फिल्म जगत, उलुल जुलूल ब्रेकिंग न्यूज़ से हटकर सत्य को निष्पक्षता से दिखाए.

श्रीराम तिवारी
Guest

यह कोई अनहोनी नहीं है ….जब एन ड़ीये की सरकार थी तो ६ साल तक जो भी अटलजी ने चाहा,प्रमोद महाजन ने चाहा ,शौरी ने चाहा ,संघ ने चाहा -मीडिया ने वही लिखा वही दिखाया ,वही सुनाया ….यु पि में वही छाप रहा है जो बहिन जी चाहती हैं .मध्यप्रदेश में हर अखवार हर पन्ना शिवभक्ति {भजपा शाशन }में लीन है ….रघुकुल रीति सदा ……..

हरपाल सिंह
Guest

aap ense ummeed na kare ye to videsho ke paise par hi chal rahe hai apni or se pahal jaruri hai yahi smadhan hai

wpDiscuz