लेखक परिचय

मृत्युंजय दीक्षित

मृत्युंजय दीक्षित

स्वतंत्र लेखक व् टिप्पणीकार लखनऊ,उप्र

Posted On by &filed under राजनीति.


swami prasad maurya
मृत्युंजय दीक्षित
जिस समय बसपा नेत्री मायावती पूरे जोर- शोर के साथ सरकार विरोधी लहर के बीच मिशन -2017 की तैयारियों में जुटी हुई थीं और अपने कार्यकर्ताओं को 300 सीटें जीतने का लक्ष्य देकर उनमें उत्साहवर्धन कर रही थीं ठीक उसी समय बसपा के दूसरे सबसे बड़े कददावर नेता और विधानसभा में नेत प्रतिपक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा से बगावत करके प्रदेशवासियों को चोंका दिया है। स्वामी प्रसाद मौर्य की बगावत बसपा के लिए एक बहुत बड़ा आघात है। मौर्य की बगावत से बसपा के मिशन -2017 को भी करारा झटका लगा है। स्वामी प्रसाद मौर्य की अपनी जाति में अच्छी छवि है तथा उनके अच्छे खासे वोटर हैं। कहा जा रहा है कि मौर्य के साथ अभी कई और नेता ,विधायक व सांसद हैं जहां आगे चलकर बसपा नेत्री को चोंकाने वाले हैं। स्वामी की बगावत निश्चय ही बसपा के लिए हतप्रभ करने वाली घटना है। माना जा रहा है कि मौर्य का जिन पिछड़ी जातियों में वर्चस्व हैं उनकी प्रदेशभर में 8 से 9 प्रतिशत तक जनसंख्या है। अब देखना यह है कि जो बहुजन समाजवादी पार्टी अभी तक हर प्रकार के सर्वे में सबसे आगे चल रही थी और बसपा सुप्रीमो मायावती पीएम मोदी और सपा सरकार पर लगातार हमलावर हो रही थीं वह मौर्य की चुनौती से किस प्रकार से निपट पाती हैे। हालांकि अभी सवामी और माया एक दूसरे पर आरोपों – प्रत्यारोपों की झड़ी लगा रहे हैं।
एक टीवी चैनल में आयोंजित कार्यक्रम व मीडिया में स्वामी प्रसाद मौर्य जिस प्रकार से अपने साक्षात्कार दे रहे हैं उससे भी अभी यह साफ संकेत नहीं मिल पा रहा है कि वे भविष्य में क्या करने वाले हैं , किस दल में जायेंगे सपा, भाजपा या फिर स्वयं अपना दल बनाकर बसपा के लिए सीधे नया संकट पैदा करेंगे और चुनावांे के बाद संख्या बल के आधार पर अपना राजनैतिक स्वार्थ साधेंगे। स्वमी प्रसाद मौर्य का कहना हे कि बसपा इस समय टिकटों की नीलामी का सबसे बड़ा अड्डा बन गयी है।वहां पर टिकटों की नीलामी का रेट एक करोड़ से दसकरांेड़ तक हो गया है। वहीं मायावती स्वामी को गददार कहकर संबोधित कर रही हैं और आरोप लगा रही हैं कि स्वामी अपने बेटे और बेटी के लिए टिकट मंाग रहे थे। मायावती स्वामी पर वंशवादी परम्परा को आगे बढ़ाने का आरोप लगा रही हैे। वहीं राजनैतिक हलको ंमें यह भी चर्चा है कि मायावती को यह भी जानकारी हो चुकी थी कि मौर्य के सपा सरकार के साथ अंदर ही अंदर अच्छे संबध है। मौर्य क सपा सरकार में सारे काम भी बिना रोकटोक के हो रहे थे। वहीं विधानसभा सत्र के दौरान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव स्वामी प्रसाद मौर्य की प्रशंसा भी समय – समय पर करते रहते थे। बसपा सुप्रीमो मायावती का कहना भी है कि यदि मौर्य बगावत न करते तो हम उनको पार्टी से स्वयं निकाल देते उन्होनें बहुजन समाज के साथ गद्दारी की है। फिलहाल सपा, भाजपा व कांग्रेस बसपा की बगावत का मजा ले रहे हैं तथ वहां की गतिविधियों पर बारीक नजर भी रख रहे हैं।
प्रदेश के सभी राजनैतिक दल अब मौर्य के अगले बड़े सियासी धमाके पर नजर गड़ाये बैठे हैं। हालांकि अभी तक स्वयं स्वामी प्रसाद मौर्य का रूख स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। लेकिन राजनैतिक क्षेत्रों से यह संकेत अवश्य मिल रहे हैं कि मौर्य के भाजपा नेताओं के साथ लगातार संपर्क बना हुआ है। इससे पूर्व जब मौर्य ने बसपा से बगावत का ऐलान किया था उस समय उन्होनें बसपा सुप्रीमो मायावती पर भाजपा को मजबूत करने का आरोप लगाया था। अपनी प्रेसवार्ता के बाद मौर्य ने सपा नेता आजम खां और शिवपाल यादव से मुलाकात भी की थी। अब पूरे प्रदेशभर में इस बात के कायस लगाये जा रहे हैं कि मौर्य के साथ अभी कितने और नेता बसपा को गहरा झटका देने वाले हैं। खबरें यह भी आ रही हैं कि बसपा नेत्री मायावती ने अपने सबसे प्रमुख मुस्लिम नेता नसीमुददीन सिददीकि सहित तमाम नेताओं पर जासूस बिठा दिये हैं। बसपा सुप्रीमो को मौर्य के आघात के बाद अब अपने किसी बड़े नेता पर विश्वास ही नहीं रह गया है। कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनावों में मोदी लहर में बसपा की करारी पराजय के बाद बसपा में ही असंतोष का ज्वालामुखी गहरा रहा है जो कभी -कभी फटता रहता है लेकिन अब विधानसभा चुनाव जैसे – जैसे आगे बढें़गे वैसे- वैसे बसपा को आघात लगते चले जायेंगे। ज्योतिष की नजर में भी बसपा का भविष्य कोई बहुत अच्छा नहीं दिखलायी पड़ रहा है। मौर्य की बगावत से बसपा में असंतुष्टों के हौसले नए सिरे से परवान चढेंगे।
बसपा के सामने अब सबसे बड़ी चुनौती यह आकर खड़ंी हो गयी है कि उसे अब पिछड़े वर्ग को आकर्षित करने के लिए एक नया चेहरा तलाशना होगा। फिलहाल बसपा ने गया प्रसाद दिनकर को अपना विधायक दल का नेता चुना गया है और तृणमूल कांग्रेस के एकमात्र विधायक को पार्टी में शामिल करके डैमेज कंट्रोल करने का काम किया है । अभी स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने पत्ते खुलकर नहीं खोले हैं। संकेत मिल रहे हैं कि भाजपा व कांग्रेस के कई नेता उनसे संपर्क साध रहे हैं लेकिन स्वयं मौर्य भी इस बात का संकेत कर चुके हैं कि समाजवादी पार्टी गुंडों की पार्टी है और कांग्रेस में कम से कम जाना नहीं हैं। वहीं बगावत के समय मौर्य ने भाजपा को सांप्रदायिक कहकर कटाक्ष किया था। वहीं यह भी माना जा रहा है कि मौर्य अपने साथियांे के साथ मिलकर अंबेडकरवादी व कांशीराम के विचारों का पालन करते हुए कोई नया दल व मंच बनाकर पीस पार्टी व औवेशी आदि की पार्टियों के साथ चुनावी तालमेल कर सकते हैं। भाजपा में मौर्य का स्वागत तो हैं लेकिन मनुवाद के खिलाफ उनके तेवरों और देवी -देवताओं के प्रति अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल इसमें एक बड़ी बाधा है । लेकिन सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने व पिछड़ी जाति के एक बड़े नेता का साथ लेने के लिए कुछ भी किया जा सकता है। वैसे भी आज की राजनीति के दौर में सब कुछ जायज है।
इससे पूर्व बसपा से अलग होने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा नेत्री मायावती पर गंभीर आरोप लगाये। मौर्य ने एक बार फिर बसपानेत्री मायावती को ”दौलत की बेटी“ कहा और कहा कि बसपा में पैसे देकर टिकट दिये जा रहे हैं। बसपानेत्री सांप्रदायिक ताकतों से मिली हुई है तथा धन के लालच में भाजपा को मजबूत कर रही हें। स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपानेत्री पर आरोप लगाते हुए कहाकि उन्होनें कांशीराम के नारे “जिसकी जितनी संख्या उसकी उतनी भगीदारी ” को बदलकर ”जिसकी जितनी थैली भारी,उसकी उतनी भगीदारी” का नारा लगा दिया है।“
अभी तक बसपा नेत्री मायावती प्रतिदिन केवल और केवल पीएम मोदी व केंद्र सरकार के साथ प्रदेश की समाजवादी सरकार पर ही हमलावर होती रहती थीं । समय से पहले ही जिताऊ उम्मीदवारों को टिकट दे रही थीं लेकिन मौर्य बगावत ने तो उनका खेल ही बिगाड़ कर रख दिया है। अब उनके सामने सबसे बड़ संकट पार्टी के असंतोष और उससे उपज रही बगावत को रोकना भी हो गया है। यदि कहीं आगे चलकर बसपा के कई और नेता बगावत करते हैं तो मुस्लिम समाज जो मायावती के प्रति आकर्षित हो रहा था उसमें भी बदलाव आ सकता है तब बसपा के लिए हालात और गंभीर हो जायेंगे। उधर यह लेख लिखे जाने तक समाचार प्राप्त हुआ है कि मायावती द्वारा बुलायी गयी विधायक दल की बैठक में विधायक अनुपस्थित रहे हैं जिनको लेकर भी सुगबुगाहट शुरू हो गयी है।वहीं बसपानेत्री मायावती का कहना है कि स्वामी प्रसाद मौर्य की बगावत का बसपा की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz