लेखक परिचय

प्रमोद भार्गव

प्रमोद भार्गव

लेखक प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार है ।

Posted On by &filed under राजनीति.


प्रमोद भार्गव

पाकिस्तानी फौजियों द्वारा भारतीय सीमा में घुसकर दो सैनिकों की हत्या स्तब्ध कर देने वाली घटना है। इस घटना ने अंतरराष्ट्रीय सीमा के उल्लंघन और संघर्श विराम की शर्त को एक बार फिर खुली चुनौती दी है। रिश्तों में सुधार की भारत की ओर से ताजा कोशिशों के बावजूद पाकिस्तान ने साफ कर दिया है कि वह शांति कायम रखने और निर्धारित शर्तों को मानने के लिए कतर्इ गंभीर नहीं हैं। और हम है कि मुंह तोड़ जवाब देने की वजाए, मुंह ताक रहे हैं। पाकिस्तान के प्रति रहमदिली का रुख रखने वाले प्रधानमंत्री डा मनमोहन सिंह के सीमा सुरक्षा के लिए बलिदान हो जाने वाले सैनिकों की बहादुरी व शहादत के लिए अब तक न तो संवेदना के दो बोल फूटे और न ही पाक प्रायोजित घटना की निंदा की। महज भारत स्थित पाक उच्चायुक्त सलमान बशीर को बुलाकर विदेश सचिव रंजन मथार्इ ने ऐसी घटना दोबारा न होने की नसीहत देकर एक तरह से घटना का पटाक्षेप कर दिया। दूसरी तरफ पाक विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने इस घटना को पाक सैनिकों द्वारा अंजाम दिए जाने की हकीकत को ही सिरे से झुठला दिया। उनका दावा है कि जमीनी जांच में ऐसा कुछ नहीं पाया गया। दरअसल पाकिस्तानी फौज एक तो इस्लामाबाद के नियंत्रण में नहीं है, दूसरे वहां की सेना की वर्दी में आतंकवादियों की भी संख्या बढ़ रही है।

पाक सैनिकों ने पूंछ इलाके के मेंढर क्षेत्र में करीब आधा किलोमीटर भीतर घुसकर न केवल दो भारतीय सैनिकों की हत्या कर दी, बलिक एक शहीद का सिर भी काट ले गए। कारगिल युद्ध के समय ऐसी ही हिंसक बर्बरता पाक सैनिकों ने कप्तान सौरभ कालिया के साथ बरती थी। यही नहीं सौरभ का शरीर क्षत-विक्षत करने के बाद शव बमुश्किल लौटाया था। अब वैसी ही हरकत की पुनरावृतित हुर्इ है। युद्ध के समय भी अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक ऐसी विभत्सा बरतने की इजाजत नहीं है। ये वारदातें युद्ध अपराध की श्रेणी में आती हैं। लेकिन भारत सरकार इस दिशा में कोर्इ पहल ही नहीं करती और युद्ध अपराधी, निरपराधी ही बने रहते हैं। भारत की यह सहिष्णुता विकृत मानसिकता के पाक सैनिकों की क्रूर सोच को प्रोत्साहित करती है। यहां एक दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति यह भी है कि ऐसी जघन्य हालत में पाक के साथ भारतीय सेना नायक क्या बर्ताव करें, इस परिप्रेक्ष्य में भारत के नीति-नियंताओं के पास कोर्इ स्पष्ट नीति ही नहीं है। यही वजह है कि बड़ी से बड़ी घटना भी आश्वासन और आशवित के छदम बयानों तक सिमटकर रह जाती है। भारत इन घटनाओं को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाने का भी साहस नहीं दिखा पाता। नतीजतन संबंध सुधार के द्विपक्षीय प्रयास इकतरफा रह जाते हैं।

इस ताजा घटना के संदर्भ में गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर एक दशक से जारी युद्धविराम भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध सुधारने की दिशा में सबसे पुख्ता शर्त है। 26 नवंबर 2003 को यह शर्त लागू हुर्इ थी। वरना इस रेखा पर कमोबेश अघोषित हमले जैसी स्थिति बनी रहती थी और सुरक्षा के लिए तैनात सिपाही शहीद होते रहते थे। हमले की जद में आने वाले ग्रामों के लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी भी बेहाल थी। युद्धविराम से इन क्षेत्रों में सिथरता आर्इ। आपसी सौहयार्द बढ़ा। आगे संबंध और प्रगाढ़ करने की खासतौर से भारत की ओर से पहल हुर्इ। भारत-पाक रिश्तों को मधुर बनाने के लिए क्रिकेट-कूटनीति अपनार्इ गर्इ। हाल ही दिसंबर-जनवरी में टी-20 और तीन एक दिवसीय क्रिकेट खेल श्रृंखला संपन्न हुर्इ। इस श्रृंखला की सफलता के तारतम्य में ही दोनों देशों के बीच मार्च में हाकी खेली जाना प्रस्तावित है। खेल, पर्यटन और तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए दोनों देशों के नागरिकों को वीजा नीति उदार बनाने पर सहमति हुर्इ। दोनों देशों के बीच कारोबार तीन अरब डालर तक पहुंच चुका है। इसे और बढ़ाने की दृशिट से ही 2012 में दोनों देशों ने उधोगपतियों को एक-दूसरे के देश में पूंजी निवेश की मंजूरी दी। जिससे दोनों देशों के व्यापारिक घरानों को नए बाजार व उपभोक्ता मिलें और रोजगार के अवसर भी बढ़ें। सुधरते संबंधों के चलते ही पाकिस्तान ने पहली बार भारत को महत्वपूर्ण सहयोगी देश का दर्जा दिया। लेकिन इस घटना ने सब उम्मीदों पर एक बार फिर पानी फेर दिया। पाक के लगातार नापाक इरादे सामने आने के बाद समझौतों की तमाम कोशिशों को प्रतिबंधित करने की मांग पुरजोरी से उठ रही है।

पाकिस्तान ने जिस तरह से घटना को नकारा है, उससे साफ हो गया है कि पाक के जो निर्वाचित प्रतिनिधि इस्लामाबाद की सत्ता पर सिंहसनारुढ़ हैं, उनका अपने ही देश की सेना पर कोर्इ नियंत्रण नहीं है। वह पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आर्इएसआर्इ के चंगुल में है। हुकूमत पर आर्इएसआर्इ का इतना जबरदस्त प्रभाव है कि वह भारत के खिलाफ सत्ता को उकसाने का भी काम करती है। यही वजह है कि सेना की अमर्यादित दबंगर्इ ठंड और कोहरे का बेजा लाभ उठाकर भाड़े के तालिबानियों को भारत में घुसपैठ कराकर आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की भूमिका रचती है। पाक सेना की दंबगर्इ बढ़ाने का काम परोक्ष रुप से अमेरिका भी कर रहा है। अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली आर्थिक इमदाद बहाल कर दी है। अब यह राशि तीन अरब डालर सालाना होगी। इसके पहले अमेरिका द्वारा पाकिस्तान को इतनी विपुल धन राशि कभी उपलब्ध नहीं करार्इ गर्इ। ऐसा अमेरिका अफगानिस्तान से अपनी सेना बाहर निकालने की रणनीति के चलते कर रहा है। चूंकि यह मदद पाक कूटनीति का पर्याय होने की बजाए, सेना और आर्इएसआर्इ की कोशिशों का नतीजा है, इसलिए इस धन राशि का उपयोग भारत के खिलाफ भी होना तय है। यहां आग में घी डालने का काम पाकिस्तानी सेना के जनरल कयानी भी कर रहे हैं। वे इसी साल सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं। ऐसे में माहौल गरमा कर वे सेवा विस्तार की नापाक मंशा पाले हुए हैं।

पाक इरादे भारत के प्रति नेक नहीं हैं, यह हकीकत सीमा पर घटी इस ताजा घटना ने तो साबित की ही है, इसी नजरिए से वह आर्थिक मोर्चे पर भारत से छदम युद्ध भी लड़ रहा है। देश में नकली मुद्रा की आमद साढ़े तीन गुना बढ़ गर्इ है। वित्तीय खुफिया इकार्इ ;एफआर्इयूद्ध के मुताबिक भारत में करीब 160 अरब मूल्य की जाली मुद्रा चलन में ला दी गर्इ है। इन नोटों की तश्करी कश्मीर, राजस्थान, नेपाल की सीमा और दुबर्इ तथा समुद्री जहाजों से हो रही है। जाली मुद्रा के लेन-देन में अब तक हजारों लोग पकड़े जा चुकने के बाद जमानत पर छूटकर इसी कारोबार को अंजाम देने में लगे हैं। कानून सख्त न होने के कारण यह व्यवसाय उनके कैरियर का हिस्सा बन गया है। भारत की बढ़ती विकास दर और प्रति व्यकित आय बढ़ोत्तरी में इस जाली मुद्रा की भी अहम भूमिका है, इसलिए केंद्र सरकार इसे गंभीरता से नहीं लेती। केंन्द्र सरकार क्या इन्हीं नापाक इरादों के लिए वीजा प्रावधान शिथिल बना रहे हैं ? सीमा पर ढील और सैनिकों की हत्या राष्ट्र के संप्रभुता से जुड़े बड़े सवाल हैं, इन्हें उदार आचरण से नहीं सुलझाया जा सकता है। इसलिए जरुरी है पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब दिया जाए और उससे सभी तरह के संबंध खत्म कर लिए जाएं। वरना भारत मुंह की खाता रहेगा।

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz