लेखक परिचय

अन्नपूर्णा मित्तल

अन्नपूर्णा मित्तल

एक उभरती हुई पत्रकार. वेब मीडिया की ओर विशेष रुझान. नए - नए विषयों के लेखन में सक्रिय. वर्तमान में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में परस्नातक कर रही हैं. समाज के लिए कुछ नया करने को इच्छित.

Posted On by &filed under खान-पान.


सामग्री (Ingredients)

200 ग्राम गेहूं का आटा या मैदा (200gm wheat flour or maida)

स्वादानुसार नमक (salt to taste)

2 टेबल स्पून तेल (2 tbs oil)

कचौड़ी भरने के लिए मटर का मसाला (for making kachori stuff)

एक कप छिली हुई हरी मटर (1 cup pea seeds)

2 टेबल स्पून तेल (2 tbs oil)

1-2 पिंच हींग (1-2 pinch of asafoetida)

आधा छोटी चम्मच जीरा (half spoon cumin)

1 छोटी चम्मच धनियां पाउडर (1 spoon coriander powder)

1 छोटी चम्मच सोंफ पाउडर (1 small spoon sonf powder)

एक चौथाई छोटी चम्मच लाल मिर्च (1/4 small spoon red chilli)

एक चौथाई छोटी चम्मच गरम मसाला (1/4 small spoon garam masala)

एक चौथाई छोटी चम्मच अमचूर पाउडर (1/4 small spoon dry mango powder)

1-2 बारीक कटी हरी मिर्च (1-2 finelly chopped green chilli)

बारीक कटा हुआ अदरक (finelly chopped ginger)

1 टेबल स्पून बारीक कटा हरा धनियां (1 tbs finelly chopped green coriander leaves)

स्वादानुसार नमक (salt to taste)

कचौरियां तलने के लिये तेल (oil to fry kachauris)

 

विधि – (process)

आटे को किसी बर्तन में निकाल कर, नमक और तेल डाल कर अच्छी तरह मिला लीजिये। आधा कप पानी की सहायता से आटे को नरम गूथ लीजिये (कचौरी के आटे को ज्यादा मसले नहीं, आटा गूथे, आटा जैसे ही मिल कर एक बन जाय, तुरन्त ढक कर रख दीजिये)। गूथे हुये आटे को सैट होने के लिये 20 मिनिट रख दें।

मटर के दानों को मिक्सी से दरदरा पीस लीजिये। कढ़ाई में तेल डाल कर गरम कीजिये। गरम तेल में हींग और जीरा डाल दें। जीरा ब्राउन होने के बाद धनियां पाउडर, सोंफ पाउडर, हरी मिर्च, अदरक, मसाले को थोड़ा सा भूनिये और पिसे हुये मटर डाल दीजिये, लाल मिर्च, गरम मसाला, अमचूर पाउडर, हरा धनियां और नमक डाल कर मटर को 3-4 मिनिट तक भूनें। कचौरियों में भरने के लिये पिठ्ठी तैयार है।

कचौरी का आटा और पिठ्ठी तैयार है, अब कढ़ाई में कचौरियां तलने के लिये तेल डाल कर गरम करें। आटे से थोड़ा सा आटा (एक छोटे नीबू के बराबर) तोड़कार गोल करें अब इसे 1 1/2 या 2 सेमी व्यास में बेल कर एक छोटी चम्मच पिठ्ठी भर कर रखें और उंगलियों की सहायता से कचौरी को बन्द करें। अब इस पिठ्ठी भरे गोले को हथेली से दबा कर चपटा करके थोड़ा सा बड़ा लें इससे मटर की पिठ्ठी एक सार हो जाती है। (अगर हम सीधे बेलन से दबा कर बेलेंगे तो कचौरियां फटने का डर है)। अब इसे बेलन से 2 1/2 या 3 इंच के व्यास में बेल लें। इसी तरह सारे आटे की कचौरी बेल कर तैयार करनी हैं। और ये बेली हुई 3-4 कचौरियों को गरम तेल में डाल कर, धीमी आग पर पलट पलट कर कचौरियां ब्राउन होने तक तलिये। तली कचौरियां किसी प्लेट में नेपकिन पेपर बिछा कर निकाल लीजिये और दूसरी कचौरियां तलने के लिये कढ़ाई में डालिये। इसी तरह सारी कचौरियां तल कर तैयार कर लीजिये।

 

परोसने का तरीका (process of serving) – मटर की कचौरियां तैयार हैं। गरमा गरम कचौरियां, आलू की मसाले वाली सब्जी या हरे धनिये की चटनी के साथ परोसिये और खाइये।

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz