लेखक परिचय

विजय कुमार सप्पाती

विजय कुमार सप्पाती

मेरा नाम विजय कुमार है और हैदराबाद में रहता हूँ और वर्तमान में एक कंपनी में मैं Sr.General Manager- Marketing & Sales के पद पर कार्यरत हूँ.मुझे कविताये और कहानियां लिखने का शौक है , तथा मैंने करीब २५० कवितायें, नज्में और कुछ कहानियां लिखी है

Posted On by &filed under कविता.


परायों के घर

 

कल रात दिल के दरवाजे पर दस्तक हुई;

सपनो की आंखो से देखा तो,

तुम थी …..!!!

 

मुझसे मेरी नज्में मांग रही थी,

उन नज्मों को, जिन्हें संभाल रखा था,

मैंने तुम्हारे लिये ;

एक उम्र भर के लिये …!

 

आज कही खो गई थी,

वक्त के धूल भरे रास्तों में ;

शायद उन्ही रास्तों में ;

जिन पर चल कर तुम यहाँ आई हो …….!!

 

लेकिन ;

क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं ;

कि,

परायों के घर भीगी आंखों से नहीं जाते……..!!!

 

 

Leave a Reply

2 Comments on "कविता : परायों के घर – विजय कुमार"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Jeet Bhargava
Guest

एक से बढाकर एक कवितायें. बहुत ही मार्मिक. हार्दिक साधुवाद विजय भाई. लिखते रहे..आप बहुत ही दिला छूनेवाली कवितायें लिखते हैं.

samriddhi
Guest

आपने बहुत ही दिल छूने वाली कवितायें लिखीं हैं।पढ़ कर बहुत ही आछ लगा ।ऐसे ही लिखते रहिए।

wpDiscuz