लेखक परिचय

राघवेन्द्र कुमार 'राघव'

राघवेन्द्र कुमार 'राघव'

शिक्षा - बी. एससी. एल. एल. बी. (कानपुर विश्वविद्यालय) अध्ययनरत परास्नातक प्रसारण पत्रकारिता (माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय जनसंचार एवं पत्रकारिता विश्वविद्यालय) २००९ से २०११ तक मासिक पत्रिका ''थिंकिंग मैटर'' का संपादन विभिन्न पत्र/पत्रिकाओं में २००४ से लेखन सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में २००४ में 'अखिल भारतीय मानवाधिकार संघ' के साथ कार्य, २००६ में ''ह्यूमन वेलफेयर सोसाइटी'' का गठन , अध्यक्ष के रूप में ६ वर्षों से कार्य कर रहा हूँ , पर्यावरण की दृष्टि से ''सई नदी'' पर २०१० से कार्य रहा हूँ, भ्रष्टाचार अन्वेषण उन्मूलन परिषद् के साथ नक़ल , दहेज़ ,नशाखोरी के खिलाफ कई आन्दोलन , कवि के रूप में पहचान |

Posted On by &filed under कविता.


राघवेन्द्र कुमार ”राघव”

फहर रहा था अमर तिरंगा जगह युनिअन जैक की |

गुजर गयी थी स्याह रात चमकी किस्मत देश की |

स्वाधीन हुआ परतंत्र देश फिर नया सवेरा आया |

पन्द्रह अगस्त का दिन खुशियों की झोली भर कर लाया |

बापू, चाचा, सरदार सभी की मेहनत रंग थी लायी |

भगत सिंह, अशफाक, लाहिड़ी की क़ुरबानी रंग लायी |

खुशियाँ कब-कब बंधकर रहती वो तो आती जाती हैं |

वक्त बदलते समय न लगता कैसे रंग दिखाती हैं |

आज़ादी फिर आज बन गयी सत्ताधीशों की दासी |

बापू के अरमान जल रहे खादी पहने अपराधी |

देश जल रहा दंगों में कुम्भकर्ण सरकार हो गयी |

पराधीन फिर हिंद हो गया आज़ादी बर्बाद हो गयी |

फक्र करूँ किस आज़ादी पर तिल-तिल भारत ज़लता है |

आम आदमी आज़ादी के समझ मायने डरता है |

आज सियासत की आँधी में आज़ादी का रंग उड़ गया |

भारत की पावन धरती का रंग आज बदरंग हो गया |

स्वाधीन हिंद की वर्षगांठ हो तुम्हे मुबारक बार-बार |

पर जन-गण-मन है नंगा ,भूखा इज्ज़त अपनी तार -तार |

स्वाधीन हिंद की वर्षगांठ हो तुम्हे मुबारक बार-बार ||

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz