लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under कविता.


-श्यामल सुमन-
poem

सुमन यहां जलते दिन-रात।
मिहनत जो करते दिन-रात।
वो दुख में रहते दिन-रात।

सुख देते सबको निज-श्रम से।
तिल-तिल कर मरते दिन-रात।

मिले पथिक को छाया हरदम।
पेड़, धूप सहते दिन-रात।

बाहर से भी अधिक शोर क्यों।
भीतर में सुनते दिन-रात।

दूजे की चर्चा में अक्सर।
अपनी ही कहते दिन-रात।

हृदय वही परिभाषित होता।
प्रेम जहां बसते दिन-रात।

मगर चमन का हाल तो देखो।
सुमन यहां जलते दिन-रात।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz