लेखक परिचय

पंडित सुरेश नीरव

पंडित सुरेश नीरव

हिंदी काव्यमंचों के लोकप्रिय कवि। सोलह पुस्तकें प्रकाशित। सात टीवी धारावाहिकों का पटकथा लेखन। तीस वर्षों से कादम्बिनी के संपादन मंडल से संबद्ध। संप्रति स्‍वतंत्र लेखन।

Posted On by &filed under कविता.


कौन है जो फस्ल सारी इस चमन की खा गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया

प्यार कहते हैं किसे है कौन से जादू का नाम

आंख करती है इशारे दिल का हो जाता है काम

बारहवें बच्चे से अपनी तेरहवीं करवा गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया

वो सुखी हैं सेंकते जो रोटियों को लाश पर

अब तो हैं जंगल के सारे जानवर उपवास पर

क्योंकि एक मंत्री यहां पशुओं का चारा खा गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया

जबसे बस्ती में हमारे एक थाना है खुला

घूमता हर जेबकतरा दूध का होकर धुला

चोर थानेदार को आईना दिखला गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया

गुस्ल करवाने को कांधे पर लिए जाते हैं लोग

ऐसे बूढ़े शेख को भी पांचवी शादी का योग

जाते-जाते एक अंधा मौलवी बतला गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया

कह उठा खरगोश से कछुआ कि थोड़ा तेज़ भाग

जिन्न आरक्षण का टपका जिस घड़ी लेकर चिराग

शील्ड कछुए को मिली खरगोश चक्कर खा गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया

चांद पूनम का मुझे कल घर के पिछवाड़े मिला

मन के गुलदस्ते में मेरे फूल गूलर का खिला

ख्वाब टूटा जिस घड़ी दिन में अंधेरा छा गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया

कौन है जो फस्ल सारी इस चमन की खा गया

बात उल्लू ने कही गुस्सा गधे को आ गया।

-पंडित सुरेश नीरव

Leave a Reply

3 Comments on "कविता / गुस्सा गधे को आ गया"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
suresh sharma
Guest

मेरे नामराशी सुरेश जी , गीत अच्छा हें ,बधाई ! सुरेश ! शर्मा

waldia
Guest

सरदार है चमकता पर कलई है निक्किल,
मैडम की रहती है हर शै विजिल
बाबा को है पढाना और बढानी है स्किल
बंद करी राग दरबारी उम्र रही है फिसिल
करी मेहनत खूब पर है बढ़ी मुस्किल
जब हों DMK TMC जैसे मुवकिल

समेट ले खोमचा, लग गए कुनबों के ठेले ग़ालिब,
अब नहीं रही कोई उम्मीद फॉर एनी तालिब.

लक्ष्मी नारायण लहरे कोसीर पत्रकार
Guest

बहुत -सुन्दर ,ढेर सारी शुभकामनाएं …………..

wpDiscuz