लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


श्यामल सुमन

लोकतंत्र!

जिसकी आत्मा में पहले “लोक”,

बाद में “तंत्र”।

मगर अब नित्य पाठ हो रहा-

“तंत्र” का नया मंत्र।

 

परिणाम!

नीयत, नैतिकता बेलगाम

 

मानव बना यंत्र

और

तंत्र – स्वतंत्र,

लोक – परतंत्र।

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz