लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under कविता.


ये कैसी अनजानी सी आहट आई है ;

मेरे आसपास …..

ये कौन नितांत अजनबी आया है मेरे द्वारे …

मुझसे मिलने,

मेरे जीवन की , इस सूनी संध्या में ;

ये कौन आया है ….

 

अरे ..तुम हो मित्र ;

मैं तो तुम्हे भूल ही गया था,

जीवन की आपाधापी में !!!

 

आओ प्रिय ,

आओ !!!

मेरे ह्रदय के द्वार पधारो,

मेरी मृत्यु…

आओ स्वागत है तुम्हारा !!!

 

लेकिन ;

मैं तुम्हे बताना चाहूँगा कि,

मैंने कभी प्रतीक्षा नहीं की तुम्हारी ;

न ही कभी तुम्हे देखना चाहा है !

 

लेकिन सच तो ये है कि ,

तुम्हारे आलिंगन से मधुर कुछ नहीं

तुम्हारे आगोश के जेरे-साया ही ;

ये ज़िन्दगी तमाम होती है …..

 

मैं तुम्हारा शुक्रगुजार हूँ ,

कि ;

तुम मुझे बंधन मुक्त करने चले आये ;

 

यहाँ …. कौन अपना ,कौन पराया ,

इन्ही सच्चे-झूठे रिश्तो ,

की भीड़ में,

मैं हमेशा अपनी परछाई खोजता था !

 

साँसे कब जीवन निभाने में बीत गयी,

पता ही न चला ;

अब तुम सामने हो;

तो लगता है कि,

मैंने तो जीवन को जाना ही नहीं…..

 

पर हाँ , मैं शायद खुश हूँ ,

कि; मैंने अपने जीवन में सबको स्थान दिया !

सारे नाते ,रिश्ते, दोस्ती, प्रेम….

सब कुछ निभाया मैंने …..

यहाँ तक कि ;

कभी कभी ईश्वर को भी पूजा मैंने ;

पर तुम ही बताओ मित्र ,

क्या उन सबने भी मुझे स्थान दिया है !!!

 

पर ,

अब सब कुछ भूल जाओ प्रिये,

आओ मुझे गले लगाओ ;

मैं शांत होना चाहता हूँ !

ज़िन्दगी ने थका दिया है मुझे;

तुम्हारी गोद में अंतिम विश्राम तो कर लूं !

 

तुम तो सब से ही प्रेम करते हो,

मुझसे भी कर लो ;

हाँ……मेरी मृत्यु

मेरा आलिंगन कर लो !!!

 

बस एक बार तुझसे मिल जाऊं …

फिर मैं भी इतिहास के पन्नो में ;

नाम और तारीख बन जाऊँगा !!

फिर

ज़माना , अक्सर कहा करेंगा कि

वो भला आदमी था ,

पर उसे जीना नहीं आया ….. !!!

 

कितने ही स्वपन अधूरे से रह गए है ;

कितने ही शब्दों को ,

मैंने कविता का रूप नहीं दिया है ;

कितने ही चित्रों में ,

मैंने रंग भरे ही नहीं ;

कितने ही दृश्य है ,

जिन्हें मैंने देखा ही नहीं ;

सच तो ये है कि ,

अब लग रहा है कि मैंने जीवन जिया ही नहीं

 

पर स्वप्न कभी भी तो पूरे नहीं हो पाते है

हाँ एक स्वपन ,

जो मैंने ज़िन्दगी भर जिया है ;

इंसानियत का ख्वाब ;

उसे मैं छोडे जा रहा हूँ …

 

मैं अपना वो स्वप्न इस धरा को देता हूँ……

Leave a Reply

1 Comment on "कविता:मृत्यु-विजय कुमार"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आर. सिंह
Guest

विजय कुमार जी, आपकी इस कविता ने तो मुझे यथार्थ की धरातल पर ला पटका.मृत्यु उतना ही सत्य है जितना जीवन क्या बात कही आपने,
“हाँ एक स्वपन ,

जो मैंने ज़िन्दगी भर जिया है ;

इंसानियत का ख्वाब ;

उसे मैं छोडे जा रहा हूँ ”
उत्कृष्ट विचार धारा से ओत प्रोत एक अच्छी कविता.…

wpDiscuz