लेखक परिचय

विजय कुमार सप्पाती

विजय कुमार सप्पाती

मेरा नाम विजय कुमार है और हैदराबाद में रहता हूँ और वर्तमान में एक कंपनी में मैं Sr.General Manager- Marketing & Sales के पद पर कार्यरत हूँ.मुझे कविताये और कहानियां लिखने का शौक है , तथा मैंने करीब २५० कवितायें, नज्में और कुछ कहानियां लिखी है

Posted On by &filed under कविता.


अक्सर तेरा साया

एक अनजानी धुंध से चुपचाप चला आता है

और मेरी मन की चादर में सिलवटे बना जाता है …..

 

मेरे हाथ , मेरे दिल की तरह

कांपते है , जब मैं

उन सिलवटों को अपने भीतर समेटती हूँ …..

 

तेरा साया मुस्कराता है और मुझे उस जगह छु जाता है

जहाँ तुमने कई बरस पहले मुझे छुआ था ,

मैं सिहर सिहर जाती हूँ ,कोई अजनबी बनकर तुम आते हो

और मेरी खामोशी को आग लगा जाते हो …

 

तेरे जिस्म का एहसास मेरे चादरों में धीमेधीमे उतरता है

मैं चादरें तो धो लेती हूँ पर मन को कैसे धो लूँ

कई जनम जी लेती हूँ तुझे भुलाने में ,

पर तेरी मुस्कराहट ,

जाने कैसे बहती चली आती है ,

न जाने, मुझ पर कैसी बेहोशी सी बिछा जाती है …..

 

कोई पीर पैगम्बर मुझेतेरा पता बता दे ,

कोई माझी , तेरे किनारे मुझे ले जाए ,

कोई देवता तुझे फिरमेरी मोहब्बत बना दे…….

या तो तू यहाँ आजा ,

या मुझे वहां बुलाले……

 

Leave a Reply

1 Comment on "कविता ; सिलवटों की सिहरन – विजय कुमार सप्पाती"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
mahendra gupta
Guest

मन की कसक को उकेरती टीस को बिखेरती, सुन्दर भावपूर्ण रचना

wpDiscuz