लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under कविता.


-अनामिका घटक


कतरा-कतरा ज़िंदगी का

पी लेने दो

बूँद बूँद प्यार में

जी लेने दो

हल्का-हल्का नशा है

डूब जाने दो

रफ्ता-रफ्ता “मैं” में

रम जाने दो

जलती हुई आग को

बुझ जाने दो

आंसुओं के सैलाब को

बह जाने दो

टूटे हुए सपने को

सिल लेने दो

रंज-ओ-गम के इस जहां में

बस लेने दो

मकाँ बन न पाया फकीरी

कर लेने दो

इस जहां को ही अपना

कह लेने दो

तजुर्बा-इ-इश्क है खराब

समझ लेने दो

अपनी तो ज़िंदगी बस यूं ही

जी लेने दो

Leave a Reply

3 Comments on "कविता/जी लेने दो"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
विजयप्रकाश
Guest

बहुत खूब…रफ्ता-रफ्ता “मैं” में रम जाने दो

श्रीराम तिवारी
Guest

मका बन न पाया फकीरी कर लेने दो ..प्रश्न ये है की विचार को यथार्थ के धरातल पर चरितार्थ जो नहीं कर पाए .तो किसको नहीं मालुम की अब अंतिम परिणिति फकीरी ही बच रहती है .तो इसमें काव्यात्मक प्रस्तुती के निहतार्थ क्या ?
अरण्य रोदन से -क्रोंच बध से- कारुणिकता की काव्य धारा निसृत हुआ करती है .सृजन के लिए तो निरंतरता चाहिए .कविता में जिस जगह आपने “राम जाने दो “लिखा है वहां”रम जाने दो “लिखें .
श्रीराम तिवारी

Anil Sehgal
Guest

अनामिका घटक जी, आज के युग में :
“लेने दो” “जाने दो” – यह नहीं चलेगा,
आप मांगे नहीं. छीनने का प्रोग्राम बनाना होगा.

wpDiscuz