लेखक परिचय

दीपक खेतरपाल

दीपक खेतरपाल

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


लगती थी साथ साथ

सीमा

गांव और शहर की

पर दोनों थे अलग अलग

हवा शहर की

एक दिन

कर सीमा पार

पंहुच गई गांव में

और छोड़ आई वहां

आलस्य

फरेब

मक्कारी

आंकाक्षाएं

महत्वआंकाक्षाएं

बदले में ले आई

निश्छलता

निष्कपटता

निस्वार्थ व्यव्हार

पर इस लेन देन के बाद

गांव गांव न रहा

और ठुकरा दिया

शहर ने वो सब

लाई थी जो

शहर की हवा

गांव से

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz