लेखक परिचय

गंगानन्द झा

गंगानन्द झा

डी.ए.वी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में वनस्पति शास्त्र के प्राध्यापक के पद से सेवानिवृत होने के पश्चात् चण्डीगढ़ में गत पन्‍द्रह सालों से रह रहे गंगानंद जी को लिखने पढ़ने का शौक है।

Posted On by &filed under कविता.


क्लास के बाद क्लास बीतता जाता है

जिन्दगी के ग़ैरमामूली ब्लैकबोर्ड पर

तीन अँगुलियों से पकड़े गए चॉक के जरिये

केवल लफ़्जों की गिनती

उसके बाद ढंग-ढंग घंटे का बज जाना

उन तजुर्बेकार लिखावटों को नया डस्टर पोंछ लेता है ।

कुछ निशान रह जाते हैं, उस्ताद जिन्दगी गुजर जाती है ।

 

लम्बी से और लम्बी होती समय की छाया

जिन्दगी की देह पर लेपकर

सुन्दर के स्नान का समापन

फिर भूख के अन्न का आयोजन –

पूरा हो जाने पर , फिर कभी धारा के विपरीत

चलते हुए आचमन कर लेना होता है ।

 

पिताजी कहा करते थे ,

पहाड़ पर चढ़ने के पहले देह पर मिट्टी का लेप करो

पाँव मजबूत करो

पानी के बोतल को गले तक भर लिया करो ।

 

मैंने बात नहीं मानी

पहले तो पहाड़ समझकर पठार पार किया

उसके बाद, एक के बाद एक पहाड़ ढूँढ़ता रहा ।

दिन, महीने, साल बीतते गए ।

सारी देह मिट्टी से काली पड़ गई। पैरों में जञ्जीर ।

पानी का खाली बोतल ।

और फिर फिर वही दौड़–दौड़

पहाड़ कब्जे में कब आएगा ?

(मूलत: बांग्‍ला में तपन कुमार बन्द्योपाध्याय द्वारा रचित इस कविता का हिंदी में अनुवाद गंगानंद झा ने किया है)

Leave a Reply

1 Comment on "कविता/ आचमन"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
लक्ष्मी नारायण लहरे कोसीर पत्रकार
Guest

बहुत सुन्दर अभिब्यक्ति …..

wpDiscuz