लेखक परिचय

शिवेश प्रताप सिंह

शिवेश प्रताप सिंह

इलेक्ट्रोनिकी एवं संचार अभियंत्रण स्नातक एवं IIM कलकत्ता से आपूर्ति श्रंखला से प्रबंध की शिक्षा प्राप्त कर एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में आपूर्ति श्रृंखला सलाहकार के रूप में कार्यरत | भारतीय संस्कृति एवं धर्म का तुलनात्मक अध्ययन,तकनीकि एवं प्रबंधन पर आधारित हिंदी लेखन इनका प्रिय है | राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सामाजिक कार्यों में सहयोग देते हैं |

Posted On by &filed under कविता.


आज हमारी की तुने सोचा है

शायद तुमने अपने विनाश को कुरुक्षेत्र में खींचा है

 

गीता वो है जिसको गाते हर वीर यहाँ बलिदान हुआ है

गीता वो है जिसको गाते हर जीवन का वैराग्य हुआ है

 

गीता वो है जिसको रट म्यानों में तलवारें हुंकार उठी थी

आरि की सेना पर गीता जब बन काली सी नाच उठी थी

 

आज हमारी गीता पर जो प्रतिबन्ध की तुने सोचा है

शायद तुमने अपने विनाश को कुरुक्षेत्र में खींचा है

 

तुम भूल गए वो पाञ्चजन्य हुंकार हमारे वैभव का

तुम भूल गए वो तेज हमारे तलवारों के गौरव का

 

गीता का सन्देश यही है गौरव से निर्भय हो जीयो तुम

गीता का निष्काम कर्म ही जीवन सरिता में घोलो तुम

 

आज हमारी गीता पर जो प्रतिबन्ध की तुने सोचा है

शायद तुमने अपने विनाश को कुरुक्षेत्र में खींचा है

 

शायद तुमको याद नहीं क्या था भारत के वीरों का गौरव

शेरों के दल में निर्भय खेला था भारत के वीरों का शैशव

 

जिस गीता को पढ़ मसीह ने येरुसलम का उपदेश दिया

जिस गीता को पढ़ मसीह ने निष्काम कर्म वैराग्य लिया

 

आज हमारी गीता पर जो प्रतिबन्ध की तुने सोचा है

शायद तुमने अपने विनाश को कुरुक्षेत्र में खींचा है

 

उस गीता से पापी तुम आज डरे सहमे क्यों फिरते हो !!

पूछो चर्चों के पादरियों से इतना गीता से क्यों डरते हो ??

 

जाकर यूनानी से पूछो डरते भारत की तलवारों से क्या ???

उन मतवालों के लिए आज साइबेरिया क्या रसिया क्या ??

Leave a Reply

1 Comment on "कविता:शिवेश प्रताप सिंह"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Gopal Mishra
Guest

उस गीता से पापी तुम आज डरे सहमे क्यों फिरते हो !!

पूछो चर्चों के पादरियों से इतना गीता से क्यों डरते हो ?? वाह बहुत अच्छे.

wpDiscuz