लेखक परिचय

बीनू भटनागर

बीनू भटनागर

मनोविज्ञान में एमए की डिग्री हासिल करनेवाली व हिन्दी में रुचि रखने वाली बीनू जी ने रचनात्मक लेखन जीवन में बहुत देर से आरंभ किया, 52 वर्ष की उम्र के बाद कुछ पत्रिकाओं मे जैसे सरिता, गृहलक्ष्मी, जान्हवी और माधुरी सहित कुछ ग़ैर व्यवसायी पत्रिकाओं मे कई कवितायें और लेख प्रकाशित हो चुके हैं। लेखों के विषय सामाजिक, सांसकृतिक, मनोवैज्ञानिक, सामयिक, साहित्यिक धार्मिक, अंधविश्वास और आध्यात्मिकता से जुडे हैं।

Posted On by &filed under कविता.


बीनू भटनागर

रेत के टीले

रेत का सागर,

मीलो तक इनका विस्तार,

तेज़ हवा से टीले उड़कर,

पंहुच रहे कभी दूसरे गाँव,

दूर दूर बसे हैं,

ये रीते रीते से गाँव,

सीमा पर कंटीले तार,

चोकस हैं सेना के जवान

शहर बड़ा बस जैसलमेर।

 

ऊँट की सवारी

पर व्यापारी,

शहर से लाकर

गाँव गाँव मे,

बेचें हैं सारा सामान।

ऊँट सजीले,लोग रंगीले,

बंधनी और लहरिया,

हरा लाल और नीला पीला

घाघरा चोली पगड़ी निराली,

लाख की चूडी मंहदी रोली,

और घरेलू सब सामान।

 

पानी बिना,

सब हैं बेहाल,

गाँव की छोरी,

गाँव की बींदनी,

पानी की तलाश मे,

मटके लेकर मीलो तक,

यो ही भटक रहीं हैं,

पैरों मे छाले,

सिर पर मटके,

दिन सारा इसी मे बीते

रात मे जाकर चूल्हा फूँके।

 

पगडी निराली लहरिये वाली,

धोती कुर्ता रंग रंगीला,

लौट के काम से,आये संवरिया

गाये फिर..

पिया आवो म्हारे देस रे…

पिया…..

Leave a Reply

1 Comment on "कविता:थार रेगिस्तान से…."

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
PRAN SHARMA
Guest

अच्छी कविता के लिए बीनू जी को बधाई .

wpDiscuz