लेखक परिचय

इक़बाल हिंदुस्तानी

इक़बाल हिंदुस्तानी

लेखक 13 वर्षों से हिंदी पाक्षिक पब्लिक ऑब्ज़र्वर का संपादन और प्रकाशन कर रहे हैं। दैनिक बिजनौर टाइम्स ग्रुप में तीन साल संपादन कर चुके हैं। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में अब तक 1000 से अधिक रचनाओं का प्रकाशन हो चुका है। आकाशवाणी नजीबाबाद पर एक दशक से अधिक अस्थायी कम्पेयर और एनाउंसर रह चुके हैं। रेडियो जर्मनी की हिंदी सेवा में इराक युद्ध पर भारत के युवा पत्रकार के रूप में 15 मिनट के विशेष कार्यक्रम में शामिल हो चुके हैं। प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ लेखक के रूप में जानेमाने हिंदी साहित्यकार जैनेन्द्र कुमार जी द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। हिंदी ग़ज़लकार के रूप में दुष्यंत त्यागी एवार्ड से सम्मानित किये जा चुके हैं। स्थानीय नगरपालिका और विधानसभा चुनाव में 1991 से मतगणना पूर्व चुनावी सर्वे और संभावित परिणाम सटीक साबित होते रहे हैं। साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता के लिये होली मिलन और ईद मिलन का 1992 से संयोजन और सफल संचालन कर रहे हैं। मोबाइल न. 09412117990

Posted On by &filed under मीडिया.


इक़बाल हिंदुस्तानी

4.jpgप्रवक्ता डॉटकॉम की स्थापना के पांच साल पूरे होने पर 16 लेखकों का सम्मान समारोह और ‘‘न्यू मीडिया और जनसंवाद’’ पर विचार गोष्ठी दो हिस्सों में शानदार प्रोग्राम हुआ। हालांकि मैं खुद को इस लायक नहीं समझता कि देश-विदेश के उन 16 लेखकों में मेरा नाम भी शामिल किया जाता जिनको सम्मानित किया गया लेकिन प्रवक्ता की चयन समिति का निर्णय सिर माथे पर इस लिये भी लेना था क्योंकि प्रवक्ता से एक आत्मिक लगाव हो चुका है। संपादक भाई संजीव सिन्हा की सादगी, साफगोई और लगन का मैं कायल हूं।

मुझे यह विचार गोष्ठी विभिन्न कारणों से ज़रूर यादगार लगी। सबसे बड़ी बात मंच पर आसीन अतिथि विभिन्न विचारधाराओं से ठीक उसी तरह से जुड़े हुए थे जिस तरह से प्रवक्ता पर लिखने वालों में विचारों की विभिन्नता और विविधता पाई जाती है। साथ ही मैंने नोट किया कि समय कम होने के बाद भी सम्मानित होने वाले सभी लेखकों को अपनी बात कहने का बराबर मौका दिया गया।

इसका नतीजा यह हुआ कि जहां मार्क्‍सवाद, राष्ट्रवाद, पूंजीवाद और समाजवाद को लेकर वक्ताओं ने गोष्ठी का एक प्रकार से व्यापक एजेंडा आगे चर्चा के लिये दिया वहीं अलग अलग सोच और क्षेत्र से आये सभी साथियों में निश्कर्ष के तौर इस बात पर सहमति बनती दिखाई दी कि हम चाहे जिस विचारधारा के हों लेकिन देशप्रेम और जनहित से कोई समझौता किसी को नहीं करना चाहिये।

इससे पहले ऐसे प्रोग्रामों को लेकर अकसर यह वैचारिक छुआछूत भी देखने को मिलती रही है कि जिसमें एक विचारधारा के लोग दूसरी विचारधारा के लोगों के साथ मंच साझा करने तक को किसी कीमत पर तैयार नहीं होते हैं। हंस पत्रिका के एक सेमिनार में यह तमाशा खूब चर्चा में आया था। वैसे तो लेखक को भी किसी ‘वाद’ के खूंटे से बंधने से बचना चाहिये लेकिन वह अगर वह किसी कारण से ऐसा कर भी रहा है तो कम से कम संपादक तो ऐसा नहीं कर सकता।

जहां तक सवाल पुराने मीडिया यानी प्रिंट और इलेक्ट्रानिक चैनलों का है वे अपने संस्थापक, स्वामी या प्रकाशक के हितों और सोच के कारण संपादक को अपने हिसाब से चलने को मजबूर कर सकते हैं लेकिन उन संपादकों में भी अपने उसूलों और विचार को सर्वोपरि मानने वाले नौकरी और बड़े से बड़े पद व स्वार्थ को लात मार कर अपनी सोच के हिसाब से काम तलाश लेने वालों का इतिहास मौजूद है। उधर जहां तक किसी पोर्टल या ऐसे वेब का सवाल है जिसको उसका संचालक चला ही इसलिये रहा है कि उसको जो घुटन और बंदिश पुराने मीडिया में चुभ रही थी वह न्यू मीडिया में ना पेश आये वह भला कैसे हर हाल में निष्पक्ष रहने की भरसक कोशिश नहीं करेगा?

कुछ लोग संजीव जी की इस निष्पक्षता को माइनस प्वाइंट मानकर सवाल उठाते हैं कि अगर वह हर किसी के विचार बिना सेंसरशिप के अपने पोर्टल पर एज़ इट इज़ प्रकाशित करते हैं तो उनके संपादक होने का क्या मतलब रह जाता है? मेरा मानना है कि संजीव जी का यही तो प्लस प्वाइंट है कि वे असहमति के बाद भी सबके लिये प्रवक्ता को सभी विचारधाराओं की अभिव्यक्ति का निष्पक्ष मंच बनाने में सफल रहे हैं। अगर प्रवक्ता जैसे पोर्टल का संपादक भी अख़बार और चैनल वालों की तरह अपनी मोनोपोली, मनमानी और खास विचारधारा व मिशन की वजह से एक विशेष सोच के लोगों का प्रवक्ता को भोंपू बनादेगा तो संघ परिवार से असहमत लोग यहां क्या करेंगे?

प्रवक्ता तो तरह तरह के फूलों का एक गुलदस्ता है जिसमें हर फूल का अपना रंग, खुश्बू और खूबसूरती है जिसकी वजह से आज प्रवक्ता का चमन महक रहा है। प्रवक्ता रूपी बागीचे की सुगंध इसी विविधता और विचारों की विभिन्नता की वजह से खुद ब खुद चारों तरफ फैल रही है। आज दुनिया ग्लोबल विलेज कही जा रही है। हमारी संस्कृति पूरे विश्व को एक खानदान यानी वसुधैवकुटंबकम मानती है। आज अमेरिका का शेयर बाज़ार गिरता है तो हमारी अर्थव्यवस्था लड़खड़ाने लगती है। आज अरब देशों में तेल संकट का केवल अंदेशा होने से ही हमारे यहां ट्रांस्पोर्टेशन चरमराने लगता है।

अफगानिस्तान से अगर अमेरिका तालिबान के भूत को नेस्तो नाबूद किये बिना जाने की तारीख़ तय करता है या पाकिस्तान को हथियार और अरबों डालर की मदद देता है तो हमारे देश के हित प्रभावित होते हैं और चीन के सस्ते सामान से हम पर मंदी का ख़तरा मंडराने लगता है। इंटरनेट पर दुनिया के किसी अंजान देश से एक विवादित पोस्ट डाले जाने पर पूरे देश में दंगा और अराजकता का ख़तरा पैदा हो जाता है। और हम खुद प्याज़ या गेहूं खरीदने को ग्लोबल टेंडर निकालते हैं तो पूरी दुनिया के बाज़ारों में तहलका मच जाता है। कहने का मतलब यह है कि आज के दौर में आप केवल अपने, अपने परिवार और अपने देश के बारे में अकेले नहीं सोच सकते।

राष्ट्रवाद के साथ ही जहां तक मार्क्‍सवाद, पूंजीवाद और समाजवाद जैसी विचारधाराओं का सवाल है, प्रवक्ता के सेमिनार में वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव जी ने ठीक ही कहा था कि आपकी विचारधारा चाहे जो हो लेकिन आप किसी को यह तमगा नहीं दे सकते कि वह देश से प्रेम नहीं करता है। वरिष्ठ लेखक और विचारक नरेश भारतीय जी, जगदीश्वर चतुर्वेदी जी, विपिन किशोर सिन्हा जी, सुरेश चिपलूनकर जी और प्रवक्ता के प्रबंधक भारत भूषण जी सहित कई अन्य वक्ताओं ने भी इस बात पर ही सहमति व्यक्त की थी कि आपकी सोच जो हो लेकिन उसमें लोकतंत्र और इतनी उदारता ज़रूर रहे कि आप देश और जनहित को सर्वोपरि रखकर अपने विरोधी की बात भी धैर्यपूर्वक सुन सकें।

मेरा खुद यही मानना है कि आप चाहे जो लिखें जो बोलें और चाहें जो करें लेकिन यह याद रहे कि वह मानवता के खिलाफ कदापि ना हो। राष्ट्र की परिभाषा भी अगर आप करेंगे तो वह केवल भूमि, सड़क, पर्वत, वन, भवन, कारखाने, नदी, किताबें व तकनीकी व्यवस्था का मिश्रण नहीं हो सकता जब तक कि उसमें नागरिक यानी मानव शामिल नहीं हो। प्रवक्ता को ‘‘अभिव्यक्ति का अपना मंच’’ बनाये रखना होगा।

0 मैं वो साफ़ ही न कहदूं जो है फ़र्क़ तुझमें मुझमें,

तेरा ग़म है ग़म ए तन्हा मेरा ग़म ग़म ए ज़माना।।

Leave a Reply

5 Comments on "प्रवक्ता की गोष्ठी से जनसंवाद पर आम सहमति बनी!"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आर. सिंह
Guest
प्रवक्ता के पांच वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में जो विचार गोष्ठी होने जा रही थी,उस समय मैंने भी एक आलेख लिखा था. उसमे मैंने लिखा था,”अजब है यह प्रवक्ता भी. विभिन्न विचारों का ऐसा समन्वय बहुत कम ही दृष्टिगोचर होता है. युवा संपादक संजीव जी की व्यक्तिगत विचारधारा प्रवक्ता पर कभी हावी नहीं हुई इसके लेखकों और पाठकों में वामपंथी भी हैं तो दक्षिणपंथी भी. कट्टर धार्मिक हैं, तो उदार वादी भी. वामपंथ और दक्षिणपंथ की लड़ाई ने तो कभी कभी ऐसा ज़ोर पकड़ा है कि प्रवक्ता के पुराने सहयोगियों ने इससे किनारा करने की भी धमकी दे डाली,पर… Read more »
इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest
इकबाल हिंदुस्तानी

धन्यवाद

RTyagi
Guest

विचारिक भिन्नता के बावजूद…. आपको यह सम्मान मिलने पर बधाई… इससे एक बार फिर साबित हो गया कि संघी अब भी “सेक्युलर” हैं…

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest

भाई इक़बाल जी आपने आपने प्रवक्ता के आयोजन की अच्छी विवेचना की है।
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’

बीनू भटनागर
Guest
बीनू भटनागर

मै इस समारोह मे शामिल थी, व्यक्तिगत रूप से आपसे परिचय नहीं हो पाया, आपको इस सम्मान के लियें बधाई। आपके लेख की हर बात से मै सहमत हूँ।

wpDiscuz