लेखक परिचय

डॉ. मधुसूदन

डॉ. मधुसूदन

मधुसूदनजी तकनीकी (Engineering) में एम.एस. तथा पी.एच.डी. की उपाधियाँ प्राप्त् की है, भारतीय अमेरिकी शोधकर्ता के रूप में मशहूर है, हिन्दी के प्रखर पुरस्कर्ता: संस्कृत, हिन्दी, मराठी, गुजराती के अभ्यासी, अनेक संस्थाओं से जुडे हुए। अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति (अमरिका) आजीवन सदस्य हैं; वर्तमान में अमेरिका की प्रतिष्ठित संस्‍था UNIVERSITY OF MASSACHUSETTS (युनिवर्सीटी ऑफ मॅसाच्युसेटस, निर्माण अभियांत्रिकी), में प्रोफेसर हैं।

Posted On by &filed under कविता.


प्रवेश: एक घना निबिड़ अरण्य। जलाशय के किनारे, प्राचीन खंडहर शिवाला विलुप्तसा। पगडंडी परभी पेड पौधे। मिट चुकी पगडंडी। बरसों से कोई यात्री ही नहीं। श्रद्धालु तो, निष्कासित हैं। कवि वहां पहुंचता है। प्रगाढ शांति -भंग करने की झिझक, और द्विधा के क्षण पर, यह कविता-एक सबेरे, चेतस की सितारी यूं, झन झना कर गई।

सरवर-जल पर तैरता,

खंडहर शिवालय।

शीर्ण ध्वज, बटकी जटाएं,

निःशब्द, नीरव।

चहुं दिश बहे, घन निबिड-

बन, एकांत शांत।

योजनो, योजनो तक,

निर-बाट निर्जन।

झूलती बट की जटाएं।

मध्य में खंडहर शिवाला।

शिवजी करते वास-

इस एकांत में।

जटा जूट में, खो चुका,

खंडहर शिवाला।

छतपर लटकी ,

जीर्ण जर्जर शृंखला।

शृंखला पर लटका घंट,

घंटपर लोलक लटका,

लोलक पर लटका शब्द,

ही समाधि-मग्न!

कई बरसों से सुन रहा।

अनाहत नाद!

अनाहत नाद।

अना–हत–नाद।

बस एकांत।

—-

—-

—-

अब न कोई घंटी बजाए।

कोई शब्द को जगाए ना।

रूद्र शिव बैठे हैं, तप में।

कोइ पगध्वनि ना करें।

भंग शांति ना करें।

सरवर जलपर तैरने

दे खंडहर शिवालय।

शीर्ण ध्वज, बटकी जटाएं,

निःशब्द नीरव।

Leave a Reply

1 Comment on "प्रो. मधुसूदन की कविता : खंडहर शिवाला"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
अभिषेक पुरोहित
Guest

bahut sundar hai ji

wpDiscuz