लेखक परिचय

सतीश सिंह

सतीश सिंह

श्री सतीश सिंह वर्तमान में स्टेट बैंक समूह में एक अधिकारी के रुप में दिल्ली में कार्यरत हैं और विगत दो वर्षों से स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं। 1995 से जून 2000 तक मुख्यधारा की पत्रकारिता में भी इनकी सक्रिय भागीदारी रही है। श्री सिंह दैनिक हिन्दुस्तान, हिन्दुस्तान टाइम्स, दैनिक जागरण इत्यादि अख़बारों के लिए काम कर चुके हैं।

Posted On by &filed under कविता.


lawyer-cartoonकुछ भी

दिल से

नहीं लगाते

इसलिए

हैं अपने काम के प्रति

बहुत ही

प्रतिबध्द।

लक्ष्य प्राप्त करने के लिए

किसी भी हद को

पार कर सकते हैं।

इन्हें गलती से लौटाए

ज्यादा पैसे रखने में

कोई गुरेज़ नहीं।

बेशर्मी से

चार लोगों के बीच

अकेले चाय पी सकते हैं।

मांग सकते हैं

दूसरों की तंगी में भी

अपना दिया उधार।

दूसरों से मांग कर

अख़बार पढ़ना, खाना खाना

या फिर दूसरों को बेवकूफ़ बनाना

इनके लिए फ़क्र की बात है।

कोई अपना

यदि आखों के सामने

मर भी जाए तो

इनको कोई फ़र्क नहीं पड़ता।

इसमें कुछ भी गलत नहीं है

क्योंकि दोस्त

ऐसे ही आदमी का होगा

आज के दौर में गुज़ारा।

संवेदनीशील इंसान का तो

मरना तय है।

Comments are closed.